--Advertisement--

जेल से गैंगस्टर ने बनाया था इस वकील की हत्या प्लान, सामने आई ये वजह

संदीप बड़वासनी के धर्म भाई रूपेंद्र ने उसकी हत्या का बदला लेने के लिए रची थी।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 03:40 AM IST
11 दिसंबर को रात 9 बजे एक वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।  वकील सत्यवान कहीं पर भी अकेला नहीं जाता था। वहीं, एक सप्ताह पूर्व ही उसने फॉरच्यूनर गाड़ी को बुलेटप्रूफ बनवाया था ताकि कभी हमला हो तो बचा जा सके। 11 दिसंबर को रात 9 बजे एक वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वकील सत्यवान कहीं पर भी अकेला नहीं जाता था। वहीं, एक सप्ताह पूर्व ही उसने फॉरच्यूनर गाड़ी को बुलेटप्रूफ बनवाया था ताकि कभी हमला हो तो बचा जा सके।

रोहतक. एडवोकेट सत्यवान मलिक की हत्या की साजिश सोनीपत जेल में रची गई थी। साजिश संदीप बड़वासनी के धर्म भाई रूपेंद्र ने उसकी हत्या का बदला लेने के लिए रची थी। संदीप की हत्या का आरोप रामकरण बैंयापुर गैंग पर लगा था। रूपेंद्र इस गैंग का मास्टर माइंड एडवोकेट सत्यवान मलिक को मानता था। रामकरण गैंग के संदीप बड़वासनी मर्डर केस में जेल में बंद होने के चलते पहले एडवोकेट सत्यवान को निशाने पर लिया गया। हत्या में शामिल रूपेंद्र ने किया मामले का खुलासा...

- एडवोकेट मलिक की हत्या 11 दिसंबर को अजय उर्फ बिट्टू और रोहित उर्फ काली, विकास उर्फ फौजी, ओमबीर उर्फ नान्हा, अजय उर्फ चांद और ललित उर्फ लक्की वासी मंडोरा से करवा दी गई।

- यह खुलासा पुलिस रिमांड के दौरान रूपेंद्र ने किया है। अब पुलिस ने हत्या के आरोपियों को पकड़ने के लिए 25-25 हजार रुपए इनाम रखने की सिफारिश की है।

रामकरण को कोर्ट में मारने में ये ही शूटर दो बार हुए नाकाम
शूटरों ने वकील की हत्या से पहले सोनीपत जेल में बंद रामकरण बैंयापुर की अदालत में पेशी के दौरान हत्या करने का दो बार प्रयास किया, लेकिन वे पुलिस की मुस्तैदी के चलते सफल नहीं हो पाए।

2012 में संदीप से जुड़ा था रूपेंद्र

- रूपेंद्र ने 2012 में अपने धर्म भाई संदीप के लिए परिवार त्याग दिया था। साल 2015 में संदीप बड़वासनी के कहने पर रूपेंद्र ने अपने साथियों के साथ मिलकर रामकरण बैंयापुर गैंग के शूटर विकास दुधिया की गन्नौर में पुलिस कस्टडी में हत्या की थी।

- फरवरी 2017 में रामकरण बैंयापुर गैंग ने संदीप बड़वासनी का किडनैप करके उसका कत्ल करके शव गंगा नदी में बहा दिया था।

- संदीप बड़वासनी के कत्ल के केस में रामकरण बैंयापुर और उसके कई साथी सोनीपत जेल में बंद है। वे जेल में रूपेंद्र पर बदला न ले सकने पर ताने मारते थे।

- सोनीपत अदालत में अक्टूबर महीने में पेशी के दौरान रुपेंद्र ने अपने गांव के ललित उर्फ लक्की को कहा कि एडवोकेट सत्यवान मलिक रामकरण बैंयापुर गैंग का मास्टर माइंड है, जो सरेआम घूम रहा है। उसकी हत्या की योजना बनाई गई।

2014 में हुई थी रामकरण बैंयापुर व संदीप बड़वासनी के बीच दुश्मनी
- पुलिस जांच में सामने आया कि 2014 में संदीप बड़वासनी पर रामकरण की गाड़ी पर हमला करवाने का आरोप लगा।

- किस्मत से रामकरण गाड़ी में नहीं था। इसके बाद से दोनों गैंग में दुश्मनी गहरा गई थी। फिर रामकरण के शूटर विकास दूधिया की गन्नौर अदालत में हत्या हुई।

- इसके बाद संदीप बड़वासनी का किडनैप कर उसकी हत्या करने का आरोप रामकरण पर लगा।

रविंद्र खाती हर सप्ताह मुलाकात कर देता था जानकारी
- सोनीपत जेल में बंद रूपेंद्र से मिलने खरखौदा का घुन्ना वाले रविन्द्र खाती हर सप्ताह आता था।

- प्लान की हर जानकारी उसे देता था। सत्यवान मलिक की हत्या की खबर भी रविन्द्र खाती ने रूपेंद्र तक पहुंचाई थी।

12 जनवरी को रूपेंद्र का लिया था प्रोडक्शन वारंट
- पुलिस की एंटी व्हीकल थेफ्ट टीम 18 दिसंबर को गैंगस्टर राजेश बवाना को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई थी।

- इस दौरान पुलिस को इनपुट मिला था कि सोनीपत जेल में बंद रूपेंद्र उर्फ नन्हा ने वकील सत्यवान मलिक की हत्या की साजिश रची थी। 12 जनवरी को पुलिस रूपेंद्र को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई थी। उसे 6 दिन के रिमांड पर लिया था।

रूपेंद्र ने जेल में ही शूटर अजय उर्फ चांद को बनाया दोस्त
- खरखौदा के रहने वाले अजय उर्फ चांद चोरी की वारदात में सोनीपत जेल में बंद था। इसी वक्त अजय गैंगस्टर रूपेंद्र के संपर्क में आया तो बताया कि उसने पहले एक व्यक्ति की हत्या भी की हुई है।

- इसके लिए रूपेंद्र ने अजय उर्फ चांद को भी वकील सत्यवान मलिक की हत्या के प्लान में शामिल कर लिया। जब 12 नवंबर को चांद जेल से बाहर निकला तो रविंद्र खाती ने चांद की अजय उर्फ बिट्टू से मुलाकात करवाई।


अजय उर्फ बिट्टू कर चुका गायिका का कत्ल
हरियाणवी गायिका बिन्नू चौधरी का अजय उर्फ बिट्टू ने हरिद्वार में कत्ल किया। झज्जर में दोस्त रवि के साथ मिलकर रवि के उसके साले व ससुर का कत्ल किया।
रोहित उर्फ काली : रोहित को झज्जर पुलिस ने भारी संख्या में अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार किया था। करीब छह माह पहले ही संदीप बड़वासनी के गैंग से जुड़ा था।

शूटर रोहित उर्फ काली, अजय उर्फ बिट्टू, ललित उर्फ लक्की, ओमबीर उर्फ नन्हा, विकास उर्फ फौजी आदि 6 बदमाशों पर 25-25 हजार रुपये रखने की सिफारिश उच्चाधिकारियों से की गई है। शूटर रोहित उर्फ काली, अजय उर्फ बिट्टू, ललित उर्फ लक्की, ओमबीर उर्फ नन्हा, विकास उर्फ फौजी आदि 6 बदमाशों पर 25-25 हजार रुपये रखने की सिफारिश उच्चाधिकारियों से की गई है।
सत्यवान की हत्या के वक्त उसके गार्ड और ड्राइवर भी थे लेकिन वे उसे नहीं बचा पाए। सत्यवान की हत्या के वक्त उसके गार्ड और ड्राइवर भी थे लेकिन वे उसे नहीं बचा पाए।
हरियाणवी गायिका बिन्नू चौधरी का अजय  उर्फ बिट्टू (लेफ्ट) ने हरिद्वार में कत्ल किया था।  रोहित करीब छह महीने पहले ही संदीप बड़वासनी के गैंग से जुड़ा था। हरियाणवी गायिका बिन्नू चौधरी का अजय उर्फ बिट्टू (लेफ्ट) ने हरिद्वार में कत्ल किया था। रोहित करीब छह महीने पहले ही संदीप बड़वासनी के गैंग से जुड़ा था।
दिल्ली नंबर की स्कार्पियो को भी लूटा गया था और वह भी बाइक पर हेलमेट पहनकर। चूंकि वारदात के बाद तीन हेलमेट इस स्कार्पियों से ही मिले हैं। दिल्ली नंबर की स्कार्पियो को भी लूटा गया था और वह भी बाइक पर हेलमेट पहनकर। चूंकि वारदात के बाद तीन हेलमेट इस स्कार्पियों से ही मिले हैं।
गनमैन ने वकील सत्यवान मलिक को  गाड़ी से उतरने के लिए मना किया था और कहा था कि वे खुद ही दवा ले अाएंगे, लेकिन वे नहीं माने। बोले कि दो मिनट का काम है अभी वापस आया। गनमैन ने वकील सत्यवान मलिक को गाड़ी से उतरने के लिए मना किया था और कहा था कि वे खुद ही दवा ले अाएंगे, लेकिन वे नहीं माने। बोले कि दो मिनट का काम है अभी वापस आया।
सत्यवान का घर। सत्यवान का घर।
घटनास्थल से आरोपियों की गन बरामद की गई थी। घटनास्थल से आरोपियों की गन बरामद की गई थी।