रोहतक

--Advertisement--

ब्रेकर पर उछली रोडवेज बस ने स्कूटी को चपेट में लिया, पीछे बैठी युवती की मौत

टकराने पर हुए हादसे में खेड़ी साध के पूर्व सरपंच सुरेश की पुत्रवधु 29 वर्षीय बबीता की मौत हो गई।

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 08:07 AM IST
girl dead in road accident

रोहतक, दिल्ली रोड पर इंडस स्कूल के पास बने ब्रेकर पर रोडवेज की बस उछलकर स्कूटी से टकराने पर हुए हादसे में खेड़ी साध के पूर्व सरपंच सुरेश की पुत्रवधु 29 वर्षीय बबीता की मौत हो गई। स्कूटी बबीता का भाई लाखनमाजरा का सुरेंद्र चला रहा था। हादसे में उसे ज्यादा चोट नहीं आई। हादसा दोपहर करीब 12 बजे हुआ। दोनों भाई-बहन खेड़ी साध से रोहतक आ रहे थे। बबीता रोहतक आईटीआई में स्टेनो का कोर्स कर रही थी। वहीं हादसे के बाद जब सवारियों दोनों घायल भाई बहन को संभाल रही थी तो भिवानी डिपो की बस का चालक बस को वहां से भगा ले गया।इससे पहले भी शहर में ब्रेकर के कारण 2 मौत हो चुकी हैं।

चैंपियनशिप बीच में छोड़ लौटा पति
बबीता का पति नीरज छत्तीसगढ़ में आयोजित सीनियर नेशनल बेसबाल प्रतियोगिता में भाग लेने मंगलवार की सुबह निकला था। सुबह वहां पर पहुंच गया था। दोपहर को सड़क हादसे में पत्नी की सूचना मिली तो वह वापस लौटा। नीरज का अब ढ़ाई महीने का बेटा इवान ही बचा है।

शहर में हर मुख्य सड़क पर बने हैं बेतरतीब ब्रेकर

पांच विभागों के ब्रेकर
शहर के दायरे से होकर गुजर रहे नेशनल हाईवे, राज्य मार्ग या स्थानीय मुख्य सड़कें चार विभागों एनएचएआई, हुडा, नगर निगम और पीडब्ल्यूडी के अंतर्गत आती हैं, लेकिन इन पर बने ब्रेकर्स पांच विभागों के हैं।

ब्रेकर निर्माण पर रोक : केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय और इंडियन रोड कांग्रेस के नियमों के मुताबिक सड़कों पर स्पीड ब्रेकर्स लगाने का प्रावधान ही नहीं है। स्टेट हाईवे और मुख्य जिला मार्ग भी इस नियम से बंधे हुए हैं। बेहद जरूरी होने पर जिला प्रशासन की संस्तुति के बाद ही ब्रेकर बनवाए जाते हैं, लेकिन मानकों का शत-प्रतिशत अनुपालन जरूरी है।
यहां हैं अधिक ऊंचाई वाले ब्रेकर्स : सिविल रोड, गोहाना रोड, किला रोड मंदिर वाली गली, चिन्योट कालोनी, गांधी कैंप, श्रीनगर कालोनी, गढ़ी मोहल्ला, सैनी आनंदपुरा, गौड़ स्कूल, शीला बाईपास चौक से नए बस स्टैंड के बीच, शिवाजी कालोनी, सोनीपत स्टैंड से शीला बाईपास चौक वदिल्ली बाईपास रोड पर बजरंग भवन रेलवे क्रासिंग पर ब्रेकर बने हैं।

ब्रेकर लगाने के नियम
- स्पीडब्रेकर की ऊंचाई दस सेमी से अधिक नहीं होनी चाहिए
- स्पीड ब्रेकर की चौड़ाई दोनों तरफ का स्लोप मिलाकर 3.5 मीटर हो
- ड्राइवर को अलर्ट करने के लिए 40 मीटर पहले इंडिकेशन बोर्ड हो
- स्पीड ब्रेकर में थर्मल राखी से पट्टियां बनी हों।

X
girl dead in road accident
Click to listen..