रोहतक

--Advertisement--

डेयरी मालिक के हत्यारों को पकड़ने के लिए बिछाए जाल में फंसे 3 दिन पहले सोनीपत में SHO पर गोली चलाने वाले

लाढ़ौत रोड पर बदमाशों और पुलिस में हुई मुठभेड़ अचानक हुआ मुकाबला था।

Danik Bhaskar

Jan 15, 2018, 06:11 AM IST

रोहतक. लाढ़ौत रोड पर बदमाशों और पुलिस में हुई मुठभेड़ अचानक हुआ मुकाबला था। पुलिस की सीआईए वन की टीम गोहाना आउटर पर भैयापुर के राजेश हत्याकांड में शामिल रहे बदमाशों को पकड़ने के लिए वहां पहुंची थी। लेकिन उनका सामना गोहाना में 11 जनवरी को पुलिस पर फायरिंग करने वाले बदमाशों से हो गया। इस एनकाउंटर में बदमाश रूड़की के संजीत उर्फ सोनू हुड्डा को गोली लगी। जबकि उसका साथी इस्माइला के अमन खत्री को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। दरअसल रविवार सुबह सीआईए वन की टीम को एक सूचना मिली थी कि राजेश देशवाल को मारने वाले बदमाश गोहाना रोड पर देखे गए हैं। इसके बाद सीआईए वन इंस्पेक्टर नवीन जाखड़ के नेतृत्व में एक टीम ने गोहाना रोड के आउटर बाईपास पर बने गोलचक्कर के पास नाका लगा लिया। वहां वो गाड़ियों की जांच करने लगे। इसी वक्त एक आई a रोकने का प्रयास किया है। कार सवार बदमाश पुलिस को देख उन पर फायरिंग करने लगे। फिर पुलिस टीम ने आरोपी का पीछा शुरू कर दिया। मेला ग्राउंड में पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़ हुई। खास बात ये रही की सोनीपत के गोहाना में तीन दिन पहले पुलिस टीम पर ही फायरिंग कर भागे बदमाश रोहतक पुलिस का सुरक्षा चक्र नहीं भेद पाए। दोनों गोलीबारी के बावजूद पुलिस के शिकंजे में आ गए।

कॅरियर का पहला एनकाउंटर
-इंस्पेक्टर नवीन जाखड़, इंचार्ज सीआईए -1

सीआईए में पहली बार ही इंचार्ज बना हूं। सन् 2014 में तीन माह तक सीआईए मेंं रहा था। उस वक्त मैं सब इंस्पेक्टर था। इस दौरान कलानौर में एक किशोर का अपहरण कर लिया गया था। जिसमें बदमाशों ने दो करोड़ की फिरौती मांगी थी। इस मामले में मैं खुद जांच अधिकारी था तो उत्तरप्रदेश में छापेमारी कर बदमाशों के चंगुल से बच्चे को छुड़वाया था। इस दौरान एसपी ने उसको प्रमोट कर थाना सिविल लाइन का प्रभारी बनाया था। दो महीने पहले की सीआईए वन का प्रभारी बनाया गया है।

सड़क पर नहीं था कोई तो सामने से आकर मारी गोली : इंस्पेक्टर जाखड़ का कहना है कि सुबह करीब साढ़े 11 बजे का समय था। रोड पर राहगीरों की आवागमन था। इस वक्त पुलिस को डर था कि कही बदमाश व पुलिस की गोली का कोई और शिकार न हो जाए। एक बदमाश भाग कर रोड की तरफ निकल गया। इस दौरान जब उसके पीछे की ओर सड़क खाली दिखी तो उसे गोली मार दी।

गोल पोस्ट से 200 मीटर आगे मेला ग्राउंड में कार छोड़कर भागे दोनों बदमाशा
बदमाशों की गाड़ी जब गोहाना आउटर गोल चक्कर के पास पहुंची तो फायरिंग होने की पुलिस ने पीछा करना शुरू कर दिया। पुलिस से घिरे देख बदमाशों के हाथ पैर फुल गए। उन्होंने गाड़ी को पुश मेला ग्राउंड में उतार दिया। पुलिस पीछा करती रही। इसी वक्त बदमाशों ने जब अपने आप को पुलिस से घिरते देखा तो 200 मीटर की दूरी पर ही गाड़ी छोड़ भागने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो पाए।
आई 20 पर बदमाशों ने लगा रखी थी वर्ना कार की नंबर प्लेट : जिस गाड़ी में बदमाश घूम रहे थे वह कार गुरुराम के थाना सदर के एरिया से अपहरण कर छीना था। गाड़ी का असली नंबर डीएल -12सीजे 5763 है। आरोपी गाड़ी पर फर्जी नंबर प्लेट लगाकर घूम रहे थे।

घायल की सुरक्षा में ट्रामा सेंटर में पुलिस का पहरा : बदमाश की सुरक्षा को लेकर पुलिस ने पीजीआईएमएस केे ट्रामा सेंटर को चारों तरफ से सुरक्षा के घेरे में ले लिया है। ट्रामा सेंटर अंदर जाने वाले हर किसी व्यक्ति पर पुलिस की नजर है। ट्रामा सेंटर सुरक्षा कर्मियों को हर किसी व्यक्ति की तलाशी के आदेश दिए है।

फायरिंग करते सड़क पर दौड़ रहा था संजीत इंस्पेक्टर नवीन की गोली का बना निशाना
वांटेड संजीत गाड़ी से उतरकर मेला ग्राउंड से जींद रोड पर भागने लगा। साथ ही पिस्तौल से गोलियां भी दाग रहा था। करीब 100 मीटर भागने के दौरान उसने पुलिस टीम पर चार फायर किए। वो शहर में घुसना चाहता था। इतने में एक पेड़ की आड़ लेकर इंस्पेक्टर नवीन जाखड़ ने उसे पिस्तौल फेंकने को कहा। पर संजीत ने इंस्पेक्टर को ही निशाना बनाना चाहा तो नवीन जाखड़ ने उस पर फायर झोंक दिया।

गोहाना सदर प्रभारी मलिक पहुंचा मौके पर
11 जनवरी को सोनीपत जिले के गांव लाठ के पास आरोपी संजीत व उसके साथी संदीप, राजू, पवन वासी नाहरा और दीपक वासी भिवानी ने गोहना सदर प्रभारी सेठी मलिक पर फायरिंग की थी। जिसमें आरोपी दीपक को पुलिस ने मौके पर काबू कर लिया था।

} आरोपियों से ये हथियार हुए बरामद : पुलिस ने आरोपी संजीत उर्फ सोनू से एक 9 एमएम पिस्टल, 2 मैग्जीन, 3 जिंदा कारतूस व एक आई-20 कार और अमन से एक पिस्टल व एक जिन्दा कारतूस बरामद किया है।

प्रत्यक्षदर्सी बोला, मूंगफली दे रह था ग्राहक को गोली की आवाज कानों में गूंजी तो दुबक कर बैठ गया : गोहाना रोड आउटर गोलचक्कर के पर हुए पुलिस मुठभेड़ का प्रत्यक्षदर्शी एक दस साल का लड़का है। जो वहीं फड़ी पर मूंगफली बेचता है। उसने बताया कि करीब 11:45 पर एक दम से कई बदमाश पुलिस कर्मी भी सादी वर्दी में थे मेले ग्राउंड की तरफ से भागे आए और गोली चल गई। इस वक्त एक ग्राहक को मूंगफली दे रहा था। गोली की आवाज के बाद एक दम मूंगफलियों के ढेर पर ही दुबक गया। फिर देखा कि एक बदमाश के पेट में गोली लग गई।

Click to listen..