Home | Haryana | Rohtak | Gorgeous Rare Horned Greeb appeared in Jhajjar after 16 years

यूरोप में दुर्लभ बत्तख की श्रेणी में शुमार हॉर्न्ड ग्रीव 16 साल बाद झज्जर में दिखी

यूरोप के कई देशों में दुर्लभ बत्तख की श्रेणी में शुमार हॉर्न्ड ग्रीव बत्तख 16 साल बाद झज्जर में देखी जा रही है।

देवेंद्र शुक्ला| Last Modified - Dec 18, 2017, 06:36 AM IST

1 of
Gorgeous Rare Horned Greeb appeared in Jhajjar after 16 years

 झज्जर | यूरोप के कई देशों में दुर्लभ बत्तख की श्रेणी में शुमार हॉर्न्ड ग्रीव बत्तख 16 साल बाद झज्जर में देखी जा रही है। 2001 में इनको पंजाब के पठानकोट डेम के पास देखा गया था। विदेेशी परिंदों को देखने के लिए अब देशभर में भ्रमण करने वाले पक्षी प्रेमी व विशेषज्ञ झज्जर के डीघल क्षेत्र में डेेरा डाले हुए हैं।  


लेह व लद्दाख से उड़कर आने वाला पक्षी वार हेडिड गूंज और रूडी सेल डक भी शामिल हैं। रूडी सेल को बौद्ध धर्म में पवित्र पक्षी का दर्जा प्राप्त है। ये तीनों ही पक्षी भिंडावास पक्षी विहार व डीघल में देखे जा रहे हैं। वर्ल्ड सेंचुरी में भ्रमण करने वाले डीघल निवासी राकेश अहलावत ने बताया कि हॉर्न्ड ग्रीव के भारत में आने की आस तो पक्षी विशेषज्ञों को रहती है, लेकिन पंजाब के बाद वो हरियाणा के डीघल क्षेत्र में नजर आएगी इसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। लिहाजा गुड़गांव, उत्तराखंड, बैंगलोर के पक्षी विशेषज्ञ इस दुर्लभ पक्षी को निहारने और इसकी गतिविधियों को कैप्चर करने के लिए डीघल में आ रहे हैं। झज्जर में ये पक्षी करीब 2 हजार की संख्या में देखे जा रहे हैं।  

 

इसलिए डीघल को चुना 

बेंगलुरू के पक्षी विशेषज्ञ हरीश, गुड़गांव के मोहित वर्मा व सुदेशना ने बताया कि हॉर्न्ड ग्रीव को कम गहराई वाला साफ पानी पसंद है। चूंकि डीघल में ये अनुकूल माहौल इन दुर्लभ को मिला। ऐसे में इन्हें यहां देखना पक्षी प्रेमियों के लिए सुखद क्षण है।

Gorgeous Rare Horned Greeb appeared in Jhajjar after 16 years
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now