Hindi News »Haryana »Rohtak» Jat Leaders Reached Jasiya To Meeting Preparations For Jind

महिलाओं समेत शाह से जवाब मांगने जींद जाएंगे जाट: मलिक

ट्रैक्टर-ट्राली में भरकर महिलाओं और बच्चों समेत जाट समाज जाएगा और अपनी बात रखेगा।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 08, 2018, 07:34 AM IST

जींद। कहसून गांव की महिला के गर्भपात मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग की जांच में सामने आया है कि जिन लोगों ने महिला का गर्भपात किया वो पूरा एक गिरोह है। जो घर-घर जाकर गर्भपात करता था। विभाग को इसके बारे में 3-4 महीने पहले सूचना मिली थी लेकिन गिरोह पकड़ में नहीं आया। गर्भपात के दौरान महिला की हालत बिगड़ी तो स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 5 दिन में इस गिरोह का पटाक्षेप किया।

टीम ने गर्भपात के दौरान प्रयोग में लाए गए औजार से लेकर भ्रूण तक को बरामद किया और कौन-कौन इसमें शामिल थे। इसकी पूरी जांच कर पांच आरोपियों को पकड़ सबूतों के साथ पुलिस के हवाले किया। स्वास्थ्य विभाग को अंदेशा है कि इस गिरोह में और भी कई लोग शामिल हो सकते हैं। पुलिस ने मामले में नर्स पूजा, उसके पति सुमित, होशियारपुरा निवासी अमित, क्लीनिक के संचालक साहब सिंह व महिला के देवर पप्पू समेत कुल पांच आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।


महिला ने बताया पहले सीढ़ियों से गिरकर चोट लगने का बहाना: गर्भपात के दौरान हालत बिगड़ने पर 2 फरवरी शाम को गंभीर हालत में कहसून गांव की महिला पहले पटियाला चौक स्थित प्राइवेट अस्पताल में पहुंची। यहां से उसे सिविल अस्पताल लाया गया। डॉक्टरों ने महिला से पूछा तो उसने बताया कि सीढ़ियों से गिरने से उसकी यह हालात हुई है। इस पर डॉक्टरों को शक हो गया।

इसके बाद सीएमओ डाॅ. संजय दहिया ने इसकी जांच के लिए डाॅ. प्रभुदयाल के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम का गठन किया लेकिन महिला की गंभीर हालत को देखते हुए उसे पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की तो सामने आया कि महिला का गर्भपात हुआ है और उसी दौरान उसकी हालत बिगड़ी है। इसके बाद टीम ने पीजीआई जाकर महिला से बात की और मामले की एक-एक कर कड़ी जोड़ी तो पूरे मामले का पटाक्षेप हो गया।

गोहाना रोड पर ढांडा क्लीनिक में किया गया था गर्भपात
स्वास्थ्य विभाग की जांच में सामने आया कि महिला का गर्भपात शहर के गोहाना रोड पर ढांडा क्लीनिक में हुआ था। महिला के देवर पप्पू ने इसको लेकर होशियारपुरा गांव के अमित से संपर्क किया और 15 हजार रुपए में गर्भपात करने का जिम्मा लिया। इस पर अमित को पप्पू ने 10 हजार रुपए दे दिए और पांच हजार बाद में देने की बात कही। अमित ने शामलोकलां गांव की हाल आबाद भटनागर काॅलोनी निवासी नर्स पूजा व उसके पति सुमित से संपर्क किया। 2 फरवरी दोपहर को अमित ने महिला को गोहाना रोड ढांडा क्लीनिक पर बुलाया और नर्स व उसके पति सुमित को वहां पहुंचने के लिए कहा। इसके बाद महिला का गर्भपात किया गया। इस दौरान आंतें कटने से उसकी हालत बिगड़ गई।

पीएनडीटी, मेडिकल एक्ट सहित कई धाराओं के तहत केस दर्ज
स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस दौरान अमित की निशानदेही पर सीआरएस यूनिवर्सिटी के पास खेतों से पॉलीथिन के लिफाफे में फेंके गए भ्रूण को बरामद किया। जिन औजारों से गर्भपात किया गया उन्हें भी टीम ने अमित की निशानदेही पर ही एक बाइक मिस्त्री की दुकान से बरामद कर लिया है। स्वास्थ्य विभाग की जांच में यह भी खुलासा हुआ कि जिस ढांडा क्लीनिक में महिला का गर्भपात किया गया उस क्लीनिक के डॉक्टर के पास क्लीनिक चलाने की कोई डिग्री नहीं है। स्वास्थ्य विभाग ने इस पर क्लीनिक सील कर दिया है। सिविल लाइन पुलिस ने पहले गर्भपात का केस दर्ज किया था लेकिन अब जांच रिपोर्ट के बाद इसमें पीएनडीटी, मेडिकल एक्ट समेत कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया है।


स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस मामले की गहनता से जांच कर सभी आरोपियों को पकड़ा और सबूत जुटा कर पुलिस के हवाले किया है। जांच में सामने आया है कि ये घर-घर जाकर भी गर्भपात करते थे। इसमें और भी कई लोग शामिल हो सकते हैं। अमित इस गिरोह का मास्टर माइंड है। - डाॅ. संजय दहिया, सीएमओ सिविल अस्पताल जींद।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rohtak

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×