--Advertisement--

वकील की हत्या के बाद घूमते रहे आरोपी, ऐसे गाड़ी छोड़कर हुए फरार

शीला बाईपास पर रात सोमवार रात 9 बजे एक वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 04:03 AM IST

रोहतक। शीला बाईपास पर रात सोमवार रात 9 बजे एक वकील की गोली मारकर हत्या करने के बाद 3 बदमाश स्कार्पियो में सवार होकर ओमेक्स सिटी में घुसे। यहां रात लगभग साढ़े 9 बजे एक स्कार्पियो 50 से 60 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से परिसर में घुसी। न तो इस स्कार्पियो को मुख्य गेट पर रोका गया और न ही अंदर किसी गार्ड ने इस बारे में पूछा। गेट पर अनजान गाड़ी आने के बावजूद उसकी एंट्री नहीं की गई। हालांकि प्रबंधन का दावा है कि उन्होंने 31 गार्ड सुरक्षा में लगाए हुए हैं, लेकिन किसी ने भी समझदारी नहीं दिखाई।

लाइट न होनें का उठाया फायदा

- ओमेक्स सिटी में बरसात के कारण लाइट नहीं थी। बदमाश फेज टू के प्लॉट नंबर 241 के सामने गाड़ी खड़ी करके आसानी से नहर के रास्ते से फरार हो गए। शीला बाईपास से लेकर ओमेक्स सिटी तक पुलिस ने भी उन्हें नहीं रोका।

- पुलिस ने वकील के साले के बयान पर सोनीपत निवासी संदीप बड़वासनी की पत्नी समेत 12 लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

बिजली गुल होने से नहीं चल पाए सीसीटीवी कैमरे

- ओमेक्स सिटी में रूरल फीडर से बिजली की सप्लाई की जाती है। इसके कारण यहां पर देर रात तक बरसात के समय ब्रेक डाउन कर दिया गया था और बिजली शाम छह बजे से ही नहीं थी। इसी के चलते अपराधियों की कोई फुटेज भी कैमरे में कैद नहीं हो सकी।

लूट की हो सकती है गाड़ी अंदर तीन हेलमेट मिले
- वारदात के बाद भी बदमाशों में पुलिस की कोई दहशत नहीं थी। वे वारदात करने के बाद ओमेक्स सिटी तक पहुंचे। इसके बाद अंदर जाकर वहां पर जब उन्होंने स्कार्पियो को खड़ा किया तो इसके बाद वे नहर के रास्ते से बाहर निकल गए, लेकिन उन्हें किसी भी नाके पर नहीं रोका गया। बताया जाता है कि इस दिल्ली नंबर की स्कार्पियो को भी लूटा गया था और वह भी बाइक पर हेलमेट पहनकर। चूंकि वारदात के बाद तीन हेलमेट इस स्कार्पियों से ही मिले हैं।

प्रत्यक्षदर्शी ने 2 पिस्तौल तो पुलिस वालों ने एक बताई
- ओमेक्स सिटी में मिली गाड़ी और उससे जुड़े तथ्यों को लेकर भी असमंजस की स्थिति बनी है। ओमेक्स सिटी के प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक गाड़ी में तीन हेलमेट और दो पिस्तौल, एक जैकेट बरामद की गई थी।

- पुलिस को कार में दो हेलमेट और एक पिस्तौल की बरामदगी हो पाई है। वहीं एक शॉल और एक जैकेट भी मिली है। दोनों के बयानों में विरोधाभाष से भी मामले में संदेह उत्पन्न होने लगा है।

पूरी रात अनजान गाड़ी खड़ी रही, किसी ने सुध नहीं ली


- मकान नंबर 241 के बाहर गाड़ी पूरी रात खड़ी रही, लेकिन किसी ने सुध नहीं ली। सुबह घर वालों ने बाहर आकर गार्ड को गाड़ी के बारे में बताया। इसकी सूचना सुपरवाइजर को दी गई।

- आसपास पूछताछ के बाद जब सुपरवाइजर ने गाड़ी के अंदर झांका तो सीट पर एक पिस्तौल पड़ी थी। इसके बाद अर्बन एस्टेट थाना पुलिस को इसकी सूचना दे दी गई और पुलिस ने आकर गाड़ी को देखा और इसकी पड़ताल करने के बाद कब्जे में ले लिया।

क्या था मामला

शीला बाईपास पर सोमवार रात नौ बजे वकील सत्यवान मलिक की दो गाेलियां मारकर हत्या की गई थी। पोस्टमार्टम के दौरान डॉक्टरों ने बताया कि गोलियां दिमाग में फंसी मिली। पुलिस ने सत्यवान मलिक के परिजनों के बयान पर सोनीपत निवासी संदीप बड़वासनी की पत्नी, साले व रोहतक के एक अखाड़ा संचालक समेत 12 लोगों के खिलाफ हत्या की साजिश रचने का पर्चा दर्ज करवाया है।


एक हफ्ते पहले ही बनवाई थी बुलेटप्रूफ कार

- वकील सत्यवान कहीं पर भी अकेला नहीं जाता था। वहीं, एक सप्ताह पूर्व ही उसने फॉरच्यूनर गाड़ी को बुलेटप्रूफ बनवाया था ताकि कभी हमला हो तो बचा जा सके। आरोपियों ने भी हमला से संदीप के उतरने का काफी देर तक इंतजार करते रहे।

- वकील गाड़ी से कहीं भी नीचे नहीं उतरा। शीला बाईपास पर आकर वह निश्चिंत हो गया और दवा लेने के लिए जैसे ही नीचे उतरा, बदमाशों ने गोलियां मारकर हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि गुरुग्राम से ही वकील का पीछा किया जा रहा था।

ड्राइवर व गनमैन की बात मानता तो बच सकती थी जान
पुलिस ने जब कार में सवार चालक व गनमैन से इस वारदात के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि वकील सत्यवान मलिक को उन्होंने गाड़ी से उतरने के लिए मना किया था और कहा था कि वे खुद ही दवा ले अाएंगे, लेकिन वे नहीं माने। बोले कि दो मिनट का काम है अभी वापस आया। अगर वकील गनमैन व चालक की बात मानता तो शायद जान भी बच सकती थी।

गुरुग्राम में लगातार आना-जाना लगा था
- बताया जा रहा है कि वकील सत्यवान मलिक का गुरुग्राम में भी प्रॉपर्टी डीलिंग का काम था। इसी को लेकर अब वह पिछले कई दिनों से लगातार गुरुग्राम जा रहा था। सोमवार को भी वह प्रॉपर्टी के किसी काम के सिलसिले में गया हुआ था।

शूटरों से हत्या करवाने की संभावना
पुलिस शिकायत में परिजनों ने संदीप बड़वासनी की पत्नी व साले समेत 12 लोगों के खिलाफ साजिश के तहत हत्या करवाने का आरोप लगाया है। पुलिस अनुमान लगा रही है कि हत्या करने वाले शूटर किराए के भी हाे सकते हैं।