--Advertisement--

प्रवीन मर्डर केस : सुबह घर बुला घोंटा था गला, 12 घंटे बाद ड्रेन में फेंक आया शव

सूर्य नगर के ऑटो चालक प्रवीन की हत्या पड़ोस में रहने वाले उसके दोस्त अजय ने ही की थी।

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 04:19 AM IST

रोहतक. सूर्य नगर के ऑटो चालक प्रवीन की हत्या पड़ोस में रहने वाले उसके दोस्त अजय ने ही की थी। दोनों में ऑटो के किराए के हिसाब किताब को लेकर विवाद हुआ था। ऑटो प्रवीन का था और अजय ऑटो किराए पर चलाता था। वारदात में अजय के साथ उसका एक दोस्त शास्त्री नगर का कृष्ण भी शामिल था। आरोपी अजय की पत्नी ने 27 जनवरी को बच्चे को जन्म दिया था। 7 फरवरी को उसकी पत्नी अपने मायके चली गई थी। प्रवीन से जब अजय का विवाद हुआ तो उसने अगले दिन प्रवीन को अपने घर बुलाकर उसकी हत्या कर दी। बाप बनने के डेढ़ महीने बाद ही अजय कातिल बन गया। सीआईए वन की टीम ने उसे मंगलवार शाम को जींद बाईपास से गिरफ्तार कर लिया है। एसपी पंकज नैन ने बताया कि आरोपी अजय और प्रवीन के बीच पैसे के लेन देन को लेकर विवाद हुआ था। इस बीच प्रवीन ने अजय की पिटाई कर दी थी। इसी रंजिश के चलते प्रवीन की कपड़े की रस्सी से गला घोंटकर हत्या कर दी गई।
प्रवीन मर्डर के बाद परिजनों ने कई लोगों पर शक जताया था। पुलिस ने उनसे काफी पूछताछ की लेकिन प्रवीन की हत्या को लेकर कोई सुराग हाथ नहीं लगा। इसके बाद पुलिस की सूई प्रवीन के संपर्क में रहने वाले लोगों पर घूमी। मामले की जांच कर रहे एएसआई विनोद दलाल पुलिस को इस दौरान पता चला कि प्रवीन के रोजाना संपर्क में आने वाला अजय उसकी हत्या वाले दिन के बाद से ही गायब है। इसके बाद पुलिस अजय की लोकेशन पता करने में जुट गई। मंगलवार शाम को जब वो काबू आया तो प्रवीन की मौत का सारा राज खुल गया।

पीछे से सिर में डंडा मारा, बेसुध होने पर रस्सी से घोंटा गला
प्रवीन मर्डर केस में पुलिस पूछताछ में आरोपी अजय ने बताया कि उसका 20 फरवरी को प्रवीन के साथ ऑटो के किराए को लेकर विवाद हो गया था। प्रवीन ने उसकी पिटाई कर दी थी। इसका उसे रंज था। उसने अगले दिन 21 फरवरी की सुबह प्रवीन को अपने घर बुलाया। यहां उसने अपने दोस्त कृष्ण के साथ मिलकर प्रवीन को शराब पिलाई। फिर सिर पर डंडा मारकर उसके बेसुध कर दिया। इसके बाद उसके मुंह में कपड़ा ठूंसा और कपड़े की दूसरी रस्सी के गला घोंट दिया। अजय ने बताया कि प्रवीन की हत्या के बाद वो शव को अपने घर में छोड़ वहां से कृष्ण के साथ चला गया। करीब 12 घंटे बाद शाम को वो वापस घर आया और प्रवीन के शव को ऑटो में लाद उसे सिंहपुरा गांव के पास ड्रेन में फेंक आया।


ऑटो में शव ले शहर में घूमा: आरोपी रात नौ बजे शव को ऑटो में डालकर नहर कर कर तरफ चल दिया। लेकिन रास्ते में फाटक बंद मिली तो वापस लौटा। कुछ देर शहर में ऑटो घुमाया और फिर शव बरसाती ड्रेन में डाल दिया।


सुबह ससुराल पहुंच बदले कपड़े प्रवीन का शव ड्रेन में फेंक अजय टोल प्लाजा पहुंचा। वहां पर करीब आधा किलोमीटर की दूरी पर ऑटो खड़ा किया। रात प्लाजा पर गुजारी। सुबह होते ही बस पकड़कर सोनीपत में अपनी ससुराल पहुंचा और वहां पर कपड़े बदले।