• Home
  • Haryana
  • Rohtak
  • अधिकारियों व सीएम विंडो से ग्रामीणों को मिली निराशा तो पानी को लेकर शुरू किया धरना
--Advertisement--

अधिकारियों व सीएम विंडो से ग्रामीणों को मिली निराशा तो पानी को लेकर शुरू किया धरना

भास्कर न्यूज | महेंद्रगढ़/आकोदा करीब चार दशक पहले बनी नहर में आकोदा तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर करीब पांच...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
भास्कर न्यूज | महेंद्रगढ़/आकोदा

करीब चार दशक पहले बनी नहर में आकोदा तक पानी पहुंचाने की मांग को लेकर करीब पांच वर्षों में न लिखित शिकायत पर संज्ञान लिया, न मौखिक शिकायत का असर हुआ। सीएम विंडो की शिकायतें भी बेअसर हो गई तो रविवार को ग्रामीणों ने आकोदा में नहर के पास धूप में बैठकर अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया।

इस मामले में आकोदा के ग्राम सरपंच धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि नहर में पानी आने से इलाके का भू-जल स्तर बढ़ जाएगा। इससे ग्रामीणों को काफी राहत मिलेगी। यह समस्या काफी ल बे समय से बनी हुई है, इसका जल्द ही समाधान होना चाहिए। जबकि धरनारत ग्रामीण सुनील यादव ने कहा कि सरकार ने लाखों रुपए खर्च कर लोगों की सुविधा के लिए नहर का निर्माण कराया था, परंतु अधिकारियों की लापरवाही के चलते सुविधा का लाभ नहीं मिल पा रहा है। क्षेत्र का भू-जल स्तर भी काफी नीचे चला गया है। जब तक मांग पूरी नहीं होती, हमारा धरना जारी रहेगा।

शीघ्र कदम नहीं उठाने पर बड़े आंदोलन की चेतावनी

बाबा साध सेवा समिति के प्रधान तेजपाल यादव ने बताया कि कई बार उच्च अधिकारियों को समस्या के समाधान को लेकर अवगत करवाया गया, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया। अब अपना हक लेने के लिए उन्होंने शांतिपूर्वक धरना शुरू कर दिया है। यदि शीघ्र ही सरकार व जिला प्रशासन ने कोई कदम नहीं उठाया तो हम बड़ा आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। वहीं ग्रामीण राजेंद्र सिंह ने कहा कि वह अपना हक मांग रहे हैं,। कोई भीख नहीं। सीएम विंडो की शिकायत पर अधिकारी बिना जायजा लिए अपनी मर्जी से झूठी रिपोर्ट तैयार कर भेज देते हैं और सरकार व जिला प्रशासन की चुप्पी से सभी लोग हैरान है। अब हम धरने पर बैठ गए हैं। जब तक बसई डिस्ट्रीब्यूटरी के अंतिम छोर तक पानी नहीं आएगा, हमारा धरना जारी रहेगा।