• Home
  • Haryana
  • Rohtak
  • विद्यार्थियों ने बताए नाभिकीय ऊर्जा के नुकसान व फायदे
--Advertisement--

विद्यार्थियों ने बताए नाभिकीय ऊर्जा के नुकसान व फायदे

महेंद्रगढ़. सूरज स्कूल में ‘नाभिकीय ऊर्जा : वरदान या अभिशाप’ विषय पर आयोजित प्रतियोगिता में भाग लेते प्रतिभागी।...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:35 AM IST
महेंद्रगढ़. सूरज स्कूल में ‘नाभिकीय ऊर्जा : वरदान या अभिशाप’ विषय पर आयोजित प्रतियोगिता में भाग लेते प्रतिभागी।

भास्कर न्यूज | महेंद्रगढ़

सूरज स्कूल के प्रागंण में शनिवार ‘‘नाभिकीय ऊर्जा - वरदान या अभिशाप’’ विषय पर वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्राचार्य नरेश यादव ने बताया कि भौतिकी विभाग की ओर हुई इस प्रतियोगिता में अलग-अलग टीमों ने भाग लिया तथा नाभिकीय ऊर्जा पर अपने सशक्त विचार व्यक्त किए। अमीशा, तपस्या, चेष्टा, किरण तथा ओम ने नाभिकीय ऊर्जा के पक्ष में अपने विचार व्यक्त किए तथा इसे मानव के लिए सबसे बड़ा वरदान बताया। जबकि दूसरी ओर स्वाति, आंचल, नेहा, मनीषा तथा चंचल ने नाभिकीय ऊर्जा के विपक्ष में अपने विचार रखे। वहीं वर्षा ने गीत के माध्यम से वैज्ञानिक उपलब्धियों का बखान किया। संस्था के निदेशक संदीप प्रसाद ने सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद किया तथा उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने बताया कि हमें विज्ञान की अद्भुत देन का प्रयोग रचनात्मक कार्यों में करना चाहिए। उन्होंने बताया कि आज वैज्ञानिक चमत्कारों का युग है। मानव जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आज विज्ञान ने आश्चर्यजनक क्रांति ला दी है। विज्ञान ने मनुष्य के सामने असीमित विकास का मार्ग खोल दिया है जिससे मनुष्य संसार में बेरोजगारी, भुखमरी, महामारी आदि का समूल नष्ट कर विश्व को अभूतपूर्व सुख समृद्धि की ओर ले जा सकता है।

वाद-विवाद प्रतियोगिता