• Home
  • Haryana
  • Rohtak
  • रेलवे ने खाली कराया स्टैंड, दो सौ बाइकों को सड़क पर छोड़ा
--Advertisement--

रेलवे ने खाली कराया स्टैंड, दो सौ बाइकों को सड़क पर छोड़ा

रोहतक जंक्शन पर यात्रियों की सुविधा के लिए बनाए गए वाहन स्टैंड का ठेका शनिवार यानी 31 मार्च 2018 को देर रात 12 बजे खत्म हो...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:45 AM IST
रोहतक जंक्शन पर यात्रियों की सुविधा के लिए बनाए गए वाहन स्टैंड का ठेका शनिवार यानी 31 मार्च 2018 को देर रात 12 बजे खत्म हो गया। दो दिन रेलवे ने निर्देश जारी कर ठेकेदार को स्टैंड खाली करने को चेता दिया था। लिहाजा टेंडर खत्म होते रविवार सुबह आरपीएफ व वाणिज्य विभाग के अफसरों ने स्टैंड परिसर को खाली करा दिया। परिसर में खड़ी दो सौ से अधिक मोटरसाइकिलों व सौ के करीब साइकिलों को बाहर निकलवाकर सड़क पर लावारिस हालत में छोड़कर चलते बने और वाहन मालिकों को भनक तक नहीं लगी। अब ऐसे में सवाल यह है कि आखिर वाहन चोरी होने की स्थिति में जिम्मेदार कौन होगा ? इसका जवाब रेलवे अफसरों के पास नहीं है।

रोहतक. वाहन पार्किंग खत्म करने के बाद बाहर निकालकर सड़क पर खड़ी बाइकंे।

वाहन चोरी पर रेलवे की जिम्मेदारी नहीं

वाणिज्य विभाग के सीएमआई पंकज राजपाल ने रविवार को बताया कि वाहन स्टैंड का ठेका दिल्ली का एक ठेकेदार चला रहा था। ठेकेदार की ओर से नियुक्त किए गए सुपरवाइजर ही स्टैंड का संचालन कर रहे थे। इनका टेंडर हर तीन माह में रिन्यू किया जा रहा था। फाइनल टेंडर 31 मार्च को खत्म हो गया। उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार आरपीएफ टीम को ले जाकर वाहन बाहर खड़े करा दिए। परिसर के बाहर बोर्ड लगा दिया गया है कि फ्री पार्किंग एट ओन रिस्क यानी नि:शुल्क पार्किंग में वाहन खुद की जिम्मेदारी पर खड़ा करें। वाहन चोरी होने पर रेलवे की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

गैर जिम्मेदाराना फैसले पर यात्री संघ ने जताई आपत्ति

दिल्ली रोहतक दैनिक रेल यात्री समिति के प्रवक्ता सतपाल हाडा ने रेलवे के कामर्शियल विभाग की इस जल्दबाजी और लापरवाही भरे फैसले पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि जो दैनिक यात्री सुबह वाहन खड़ा करके गया है, उसने शुल्क दिया है। न कि वह फ्री पार्किंग में वाहन खड़ा कर गया है। टेंडर खत्म हो गया था तो संबंधित व्यक्ति तक वाहन पहुंच जाने पर परिसर खाली कराया जाता। वाहनों को बाहर निकालकर लावारिस हालत में छोड़ने का क्या औचित्य था। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि किसी यात्री का वाहन चोरी हुआ तो डीआरएम से लेकर रेलमंत्री तक शिकायत दर्ज कराकर कार्रवाई किए जाने की मांग की जाएगी।