--Advertisement--

ANM के पास अबॉर्शन कराने आई महिला, रुपयों के साथ दोनों हुई अरेस्ट

एक प्राइवेट क्लीनिक पर छापा मारकर एक एएनएम बबीता को गर्भपात करते समय पकड़ लिया।

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 07:10 AM IST

सांपला. सांपला में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार शाम को मेन बाजार में एक प्राइवेट क्लीनिक पर छापा मारकर एक एएनएम बबीता को गर्भपात करते समय पकड़ लिया। वह चंडीगढ़ की एक महिला का गर्भपात कर रही थी। टीम ने मौके से गर्भपात में प्रयोग होने वाले दस दवा के डिब्बे व हजारों रुपए की नकदी भी बरामद की है।

गर्भपात करने वाली एएनएम सोनीपत जिले के बड़खालसा पीएचसी में सरकारी नौकरी पर लगी हुई है। वही सांपला में 4-5 महीने से क्लीनिक चला रही थी। पुलिस ने एएनएम के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। झज्जर स्वास्थ्य विभाग की टीम को बुधवार को सूचना मिली कि सांपला में स्थित एक प्राइवेट क्लीनिक पर गैर कानूनी तरीके से गर्भपात किया जाता है। बुधवार को एक महिला इस काम के लिए क्लीनिक पर पहुंचेगी। इतनी सूचना मिलते ही झज्जर सीएमओ ने रोहतक के डॉक्टरों को भी अवगत करवा दिया।

झज्जर व रोहतक के डॉक्टरों की टीम ने क्लीनिक के आस-पास अपनी निगरानी बैठा दी। करीब साढ़े पांच बजे दो महिलाएं क्लीनिक के अंदर घुसी। दस मिनट बाद ही स्वास्थ्य विभाग की टीम भी क्लीनिक में पहुंच गई। डॉक्टरों को देख गर्भपात की तैयारी कर रही एएनएम व गर्भपात कराने आई महिला के होश उड़ गए। डॉक्टरों ने क्लीनिक की जांच की तो उसमें गर्भपात करने में प्रयोग होने वाली कई गोलियों के डिब्बे मिले। इसके अलावा हजारों रुपए की नकदी भी मिली। डॉक्टरों की टीम को जांच करने और पूछताछ करने में करीब ढाई घंटे का समय लग गया। करीब सवा आठ बजे टीम ने जांच में क्लीनिक से मिले सभी दस्तावेज पुलिस के हवाले कर दिए। इसके साथ गर्भपात कर रही महिला स्वास्थ्य कर्मचारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

यूपी में करवाई थी भ्रूण लिंग जांच
डॉक्टरों की टीम ने जब गर्भपात कराने आई महिला से पूछताछ की तो वह पहले अलग-अलग बीमारी के बहाने बनाती रही। बाद में महिला डॉक्टर ने महिला के शरीर की जांच की तो उसके शरीर में गर्भ में बच्चे को मारने वाली दो गोली मिली। उसके बाद महिला ने गर्भपात करवाने का खुलासा कर दिया। उन्होंने बताया कि वे चंडीगढ़ में रहते हैं। उन्हें दो दिन पहले ही उत्तरप्रदेश के जिले मुज्जफरनगर के पास एक क्लीनिक पर भ्रूण लिंग जांच कराई थी। जांच में लड़की बताई गई। तभी उसने बड़खालसा पीएचसी में नौकरी करने वाली एक महिला कर्मचारी से गर्भपात कराने के लिए संपर्क किया। इसने उसे सांपला आने को कहा।

गिरफ्तारी को लेकर पुलिस के साथ होती रही बहस
बताया गया कि डॉक्टर अपनी कार्रवाई करके चले गए और कानूनी कार्रवाई के लिए मामला सांपला पुलिस को सौंप गए। जब पुलिस की टीम क्लीनिक संचालक को गिरफ्तार करने गई तो उसके पति व पुलिस में काफी देर तक बहस होती रही। नोडल अधिकारी डॉ. विकास कुमार व डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि क्लीनिक पर गर्भपात करने वाली गोलियां व पैसे मिले हैं। यह सब काम गैरकानूनी तरीके से किया जा रहा था।