Hindi News »Haryana »Rohtak» Coaching Owner Murder Near MP Battara And Minister Grover

सांसद बतरा व मंत्री ग्रोवर की कोठी के पास कोचिंग सेंटर संचालक की हत्या

कार सवार बदमाशों ने कोचिंग सेंटर संचालक वीरेंद्र कुमार की गोलियां चलाकर हत्या कर दी।

Bhaskar news | Last Modified - Nov 14, 2017, 05:19 AM IST

  • सांसद बतरा व मंत्री ग्रोवर की कोठी के पास कोचिंग सेंटर संचालक की हत्या
    +1और स्लाइड देखें

    रोहतक.डीएलएफ कॉलोनी में सांसद शादीलाल बतरा और मंत्री मनीष ग्रोवर की कोठी से कुछ दूरी कार सवार बदमाशों ने कोचिंग सेंटर संचालक वीरेंद्र कुमार की गोलियां चलाकर हत्या कर दी। उन्हें छह गोलियां लगीं। हमले के वक्त वह सेंटर के नजदीक अपनी गाड़ी में बैठकर बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष उमेश भारद्वाज से सेलफोन पर बात कर रहे थे।


    बदमाशों ने अपनी कार को उनकी गाड़ी के बगल में लगाकर अंधाधुंध फायर किए। पीजीआई के चिकित्सकों के मुताबिक वीरेंद्र के पेट में चार और हाथ व पैर पर एक-एक गोली लगी थी। चिकित्सकों ने गोलियां निकालकर उन्हें बचाने का प्रयास किया मगर रात करीब एक बजे उन्होंने दम तोड़ दिया। पुलिस की प्राथमिक जांच में रुपयों के लेनदेन का विवाद सामने आया है।


    मूल रूप से घरौठी गांव निवासी 35 वर्षीय वीरेंद्र पुत्र बलबीर सिंह डीएलएफ कॉलोनी में एस.एजुकेशनल के नाम से कोचिंग सेंटर चलाते हैं। सोमवार रात करीब साढ़े नौ बजे वह अपनी कार में सवार होकर कोचिंग सेंटर पहुंचे थे। सेंटर से सिर्फ 10 कदम की दूरी पर बदमाशों ने उन पर हमला किया और कार को तेजी से दौड़ाते हुए फरार हो गए। वीरेंद्र गाड़ी में अकेले थे। हमलावरों ने ड्राइवर वाली साइड से फायर किए। गोली चलने की आवाज सुनकर भीड़ इक्कठा हो गई, लेकिन किसी ने लहूलुहान वीरेंद्र को अस्पताल तक पहुंचाने की हिम्मत नहीं दिखाई।
    दूसरी तरफ सेंटर संचालक वीरेंद्र से फोन पर बात कर रहे बार के पूर्व प्रधान उमेश भारद्वाज ने जब गोली चलने की आवाज सुनी तो वह एक्टिवा पर सवार होकर मौके पर पहुंचे। वे वीरेंद्र को उनकी गाड़ी से पीजीआई लेकर पहुंचे। करीब 25 मिनट बाद पुलिस मौके पर पहुंची। डीएसपी विजय जाखड़ ने मौके पर जांच की।

    कई बार सेंटर में साेते थे वीरेंद्र
    कोचिंग सेंटर के आसपास रहने वाले लोगों का कहना है कि वीरेंद्र दिन में बच्चों को कोचिंग देता था। वह रात के समय कई बार यहीं सोता था। अक्सर उसकी गाड़ी सेंटर के बाहर खड़ी रहती थी। उनके पिता व भाई आजाद नगर में रहते हैं, जहां वह अक्सर रूकते थे।। उनकी पत्नी व मां भिवानी में रहती हैं। उनका एक बेटा व एक बेटी है। देर रात परिवार के लोग पीजीआई पहुंच गए थे। फिलहाल उन्हें भी हत्या की वजह मालूम नहीं है।

    दो सीसीटीवी कैमरों से मिलेगा पुलिस को सुराग
    जिस जगह पर वीरेंद्र को गोली मारी गई है, उसके करीब 50 अौर 150 दूरी पर दो सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए है। पुलिस अब सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से इन बदमाशों तक पहुंचने में लगी हुई है।

    पॉश इलाके में वारदातों से सहमे लोग :शहर की पॉश कॉलोनियों में शामिल डीएलएफ कॉॅलोनी को सुरक्षित माना जाता है, मगर अब वारदातों से लोगों में डर पैदा होने लगा है। वारदात स्थल से करीब 100 मीटर की दूरी पर सांसद शादीलाल बतरा और करीब 200 मीटर की दूरी पर मंत्री ग्रोवर की कोठी है। इनके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री के मामा भी यहां रहते हैं। पिछले दिनों पूर्व मुख्यमंत्री के मामा के घर के पास एक महिला के गले से चेन तोड़ ली गई थी। कुछ महीने पहले भाजपा नेता की मां के गले से झपटमार चेन झपट ले गए थे। इस इलाके में कई कोचिंग सेंटर है। लोगों का कहना है कि इस कॉलोनी की शांति भंग हो गई है। पुलिस नाममात्र गश्त करती है।

    पहले फायर के बाद बंद हुई आवाज तो दौड़ा
    बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान उमेश भारद्वाज ने बताया कि वह घटना से पहले कई घंटों तक वीरेंद्र के साथ था। हम दोनों ने शाम करीब चार बजे शॉपिंग की। फिर अखाड़ा वाली जिम में चले गए। चूंकि उनकी एक्टिवा कोर्ट के बाहर खड़ी थी तो वीरेंद्र उन्हें परिसर के पास छोड़कर सेंटर की तरफ चला गया। जाने के बाद वीरेंद्र का फोन आया और वे बात करने में मशगूल हो गए। तभी गोली चलने की आवाज आई और फिर वीरेंद्र की तरफ से कोई जवाब नहीं आया। इसके बाद उसने तुरंत अपनी एक्टिवा स्टार्ट की और सेंटर की तरफ चल दिया। सेंटर के पास वीरेंद्र की गाड़ी खड़ी थी और वह खून से लथपथ पड़ा था। मौके पर जमा भीड़ में कोई भी सहायता करने को तैयार नहीं हुअा। ऐसे में उसने खुद विरेंद्र को गाड़ी में डाला और पीजीआई पहुंचा।

    तिकोना पार्क बना नशेड़ियों का अड्डा
    कॉॅलोनी के लोगों कहना है कि डीएलएफ मेन चौक तिकोना पार्क में नशा करने वालों का जमघट लगा रहता है। यहां पर दिन के समय भी वारदात होने का डर रहता है। वे कई बार विधायक समेत तमाम अधिकारियों को भी अवगत करवा चुके हैं, लेकिन समाधान नहीं हुआ।

    सीआईए की दोनों शाखा जांच में जुटी
    कोचिंग सेंटर संचालक वीरेंद्र को 6 गोलियां लगी थी। अभी तक बदमाशों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस की दोनों अपराध शाखा समेत कई टीमें हत्या की वजह जानने और बदमाशों को पकड़ने में लगी हुई है। -ताहिर हुसैन, डीएसपी।

  • सांसद बतरा व मंत्री ग्रोवर की कोठी के पास कोचिंग सेंटर संचालक की हत्या
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rohtak

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×