--Advertisement--

अवैध संबंध छुपाने पति की कर दी हत्या, टुकड़े करने के बाद रात भर लाश के साथ सोई थी पत्नी

हत्या की दोषी पत्नी को कोर्ट ने सुनाई 30 साल कैद की सजा, जुर्माना भी।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 07:42 AM IST

झज्जर(रोहतक)। आसंडा में हुए बलजीत मर्डर केस में कोर्ट की ओर से हत्यारिन पत्नी पूजा को 30 साल कैद की सजा सुनाई है। मृतक बलजीत के भाई कुलजीत की शिकायत पर 26 अप्रैल 2016 को पुलिस ने केस दर्ज किया था। अवैध संबंधों के चलते अपने पति की क्रूरतम ढंग से हत्या करने वाली पूजा रिश्तों की मर्यादा भूल बैठी थी।

- सांपला के गांव गिछी की रहने वाली पूजा की शादी वर्ष 2012 में आसंडा के बलजीत से हुई थी। पूजा की ये दूसरी शादी थी। इससे पहले उसकी अपने पति से पटरी नहीं बैठी तो वो अगल हो गई थी।

- बलजीत से शादी के बाद उनके यहां एक बेटे ने जन्म लिया। परिवार पूरा होने पर भी पूजा ने अपनी आदतों में सुधार नहीं किया और अपने अवैध संबंधों को छुपाने के लिए पति को मौत के घाट उतार दिया। उसका बेटा इस समय साढ़े तीन साल का है। पूजा ने जिस ढंग से बलजीत की हत्या की उसे याद कर आज भी गांव वाले सिहर जाते हैं।
- बलजीत की हत्या के बाद पूजा ने शव को कई टुकड़ों में काट दिया था। वो सभी अंगों को ठिकाने भी लगा देती लेकिन उसकी ननंद बजीता को उस पर शक हो गया। वो घर आई और बदबू आने पर उसने घर की तलाश ली तो एक सूटकेस में उसे बलजीत का धड़ मिल गया था।

- बजीता को पूजा पर शक एक टीवी क्राइम सीरियल देख कर हुआ था। वहीं कोर्ट के फैसले से एक बात और सिद्ध हो गई है कि पूजा ने अकेले ही इस वारदात को अंजाम दिया था। हैवान बनी पूजा ने पहले बलजीत को गला दबा कर मारा। फिर उसके शव के टुकड़े किए।
शव के साथ बिस्तर पर सोई थी पूजा
पुलिसथ्योरी के मुताबिक हत्या की वारदात 24 अप्रैल 2016 को हुई थी। आधी रात के वक्त की ये घटना है। हत्या करने के बाद आगे का प्लान बनाते बनाते बेड पर शव के साथ ही सो गई। अगले दिन भी शव घर में पड़ा रहा और पूजा कोई प्लान नहीं बना सकी। 26 अप्रैल को उसने शव के फरसे से टुकड़े किए और उन्हें सूटकेस और कंबल में छुपा दिया। सिर को आंगन में दबा दिया।
हत्या से दो दिन पहले तक किसी को नहीं दिखा था बलजीत
परिजनोंके मुताबिक हत्या से कुछ दिन पहले बलजीत अपने भाई कुलजीत से मिलने उसके घर गया था। वहां पर उसकी छोटी बहन कविता भी आई हुई थी। बलजीत ने बताया था कि उसे कई दिनों तक पूजा घर में बंधक बना कर रखती है। कविता और कुलजीत ने उसे मदद करने की बात कह घर भेज दिया। इसके बाद बलजीत लापता हो गया था।