--Advertisement--

आजाद हिंद फौज छोड़ बने वायुसेना में ऑफिसर, म्यूजिक डायरेक्टर बन किया शौक पूरा

मूल रूप से पहरावर के रहने वाले फिल्म निर्माता एवं म्यूजिक डायरेक्टर जेपी कौशिक (93 वर्षीय) का मंगलवार सुबह मुंबई में निधन हो गया।

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2017, 05:35 AM IST
JP Kaushik dies in Mumbai
रोहतक. मूल रूप से पहरावर के रहने वाले फिल्म निर्माता एवं म्यूजिक डायरेक्टर जेपी कौशिक (93 वर्षीय) का मंगलवार सुबह मुंबई में निधन हो गया। वे निमोनिया से पीड़ित थे। सुबह पौने सात बजे मुंबई के मिलिट्री अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। इस सूचना से मुंबई ही नहीं हरियाणा के भी कलाकारों में शोक की लहर दौड़ गई। दादा साहेब फाल्के अवार्डी संगीतकार जेपी कौशिक यानि जगफूल कौशिक के भतीजे रामअवतार कौशिक बताते हैं कि उनके पिताजी चार भाई थे। इनमें चाचा जेपी कौशिक दूसरे नंबर के थे।
पिता रामगोपाल गांव पहरावर छोड़कर शहर के कायस्थान मोहल्ला में रहने लगे थे। वे अपनी धुन के पक्के थे। तभी तो आजाद हिंद फौज से जुड़ने के बाद पिता रामगोपाल के कहने पर उन्होंने बतौर वारंट आफिसर एयरफोर्स ज्वाइन की। जोधपुर पोस्टिंग के दौरान यहां उनकी मुलाकात सरोद वादक उस्ताद अली अकबर खान से हुई और नौकरी छोड़ जेपी कौशिक ने मुंबई में उस्ताद अली अकबर खान, नौशाद साहेब, एसडी बर्मन, बिमल रॉय व राजेंद्र सिंह बेदी की संगत में म्यूजिक डायरेक्टर के तौर पर कॅरियर शुरू किया। पिता की तर्ज पर जेपी कौशिक ने भी अपना शौक पूरा करने के लिए मुंबई का रूख किया। फिर तो हरियाणा और मुंबई के बीच उनका आना-जाना लगा ही रहा। रंगकर्मी रघुविंद्र सिंह मलिक, अरविंद स्वामी, भाल सिंह बल्हारा, डॉ. जगबीर राठी, नवीन ओहल्यान, जनार्दन शर्मा, अनिल विज, सुमित्रा हुड्डा, गजेंद्र फौगाट, अशोक वर्मा व सुभाष नगाड़ा ने म्यूजिक कौशिक के निधन पर गहरा शोक जताया।
जब रोहतक से हटानी पड़ी 7 हिंदुस्तानी
मुंबई स्थित बेटे सतीश कौशिक बताते हैं कि पिता जेपी कौशिक को 86 की उम्र में दादा साहेब फाल्के अवार्ड मिला। शहर और सपना फिल्म के लिए उन्हें राष्ट्रपति स्वर्ण पदक व बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर अवार्ड भी मिला। उन्होंने मुंबई से अपने कॅरियर की शुरूआत हिन्दुस्तान के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की फिल्म सात हिन्दूस्तानी से की थी। भतीजे रामअवतार बताते हैं कि जब सात हिंदुस्तानी रोहतक में लगी तो यहां थियेटर के बाहर हंगामा होने लगा था और बिगड़ते माहौल को देखते हुए ही फिल्म को थियेटर से हटवाना पड़ा।
इन फिल्मों में दिया म्यूजिक : जेपी कौशिक ने हिंदी, हरियाणवीं, राजस्थानी और इंग्लिश फिल्म द कॉर्नर शॉप में भी संगीत दिया। उन्होंने हरियाणा में बनने वाली पहली फिल्म बहुरानी से अपनी पारी की शुरूआत की थी। बाद में उन्होंने हिंदी फिल्म हमारा घर, आसमान महल, बस्ती और बाजार में, हरियाणवीं फिल्म चंद्रावल व सांझी और राजस्थानी फिल्म धर्मभाई व लाडो रानी जैसी करीब 20 क्षेत्रीय फिल्मों में म्यूजिक दिया। जेपी कौशिक के अब दोनों बेटे सतीश और सुनील कौशिक भी फिल्मों में म्यूजिक दे रहे हैं।
X
JP Kaushik dies in Mumbai
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..