Hindi News »Haryana »Rohtak» Patients Treated With Medicines Without Valid Degrees

वैध डिग्री के बिना किया मरीजों का अंग्रेजी दवाओं से इलाज, तीन गिरफ्तार, एक फरार

सरकार के निर्देश पर गुरुवार को प्रदेशभर में झोलाछाप डॉक्टरों पर शिकंजा कसने के लिए छापे मारे गए।

Bhaskar news | Last Modified - Nov 10, 2017, 05:54 AM IST

वैध डिग्री के बिना किया मरीजों का अंग्रेजी दवाओं से इलाज, तीन गिरफ्तार, एक फरार

रोहतक. सरकार के निर्देश पर गुरुवार को प्रदेशभर में झोलाछाप डॉक्टरों पर शिकंजा कसने के लिए छापे मारे गए। बगैर डिग्री एलोपैथिक प्रैक्टिस करने वालों पर अंकुश के लिए पुलिस में धोखाधड़ी के केस भी दर्ज कराए गए हैं। इसी कड़ी में जिले में चार क्लीनिकों पर छापे मारे गए। इनमें से तीन के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि पिता की जगह मरीजों की जांच करने वाला एक आरोपी डॉक्टर फरार हो गया। 

गुरुवार को सिविल सर्जन डॉ. दीपा जाखड़ ने डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. दिनेश गर्ग की देखरेख में एक टीम गठित की। टीम सबसे पहले माता दरवाजा जींद रोड स्थित पुंडीर क्लीनिक पहुंची। यहां डॉ. सुरेंद्र बिश्नोई के साथ डॉ. विजय प्रणामी की डिग्री अन्य सामान जांचा गया। इस दौरान डॉक्टर की डिग्री बीईएमएस (बैचलर ऑफ इलेक्ट्रो होम्योपैथी) की मिली। डॉक्टर ने अपनी डिग्री के रजिस्ट्रेशन की फोटो प्रति दिखाई, जबकि क्लीनिक पर एलोपैथिक दवाओं से मरीजों का इलाज किया जा रहा था। क्लीनिक पर भारी मात्रा में 18 तरह की अंग्रेजी यानी एलोपैथिक दवाएं भी मिली हैं। इन दवाओं का तो डॉक्‍टर के पास लाइसेंस था और ही किसी तरह की अनुमति। इसके चलते डॉक्टर के खिलाफ धोखाधड़ी अवैध रूप से दवाएं रखने समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कराया गया है। 
पिता की डिग्री पर बेटा कर रहा था इलाज, टीम देखकर हुआ फरार 

डिप्टीसिविल सर्जन डॉ. दिनेश गर्ग ने बताया कि सबसे अंत में स्वास्थ्य विभाग की टीम बाबरा मोहल्ला स्थित टेकचंद क्लीनिक पर पहुंची। यहां डिग्री पिता के नाम पर थी, जबकि मरीजों का इलाज बेटा कर रहा था। टीम को देखकर वह मौके से फरार हो गया। इस मौके पर योगेश हुड्डा, इंस्पेक्टर सत्येंद्र सीएम फ्लाइंग के अन्य अधिकारी शामिल रहे। 

विभाग ने झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई के लिए छापेमार अभियान चलाया। इस दौरान तीन डॉक्टर बगैर डिग्री प्रेक्टिस करते मिले। इनके खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा एक आरोपी मौके से फरार हो गया है। यह अपने पिता की डिग्री पर खुद प्रैक्टिस कर रहा था। क्लीनिक से मिली एलोपैथिक दवाएं सील कर दी गई हैं। -डॉ. दीपा जाखड़, सिविल सर्जन। 

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rohtak

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×