• Hindi News
  • Haryana
  • Rohtak
  • कॉलेजियम सदस्यों के परिजनों को नौकरी से निकालने का आरोप, प्रधान ने सिरे से नकारा
--Advertisement--

कॉलेजियम सदस्यों के परिजनों को नौकरी से निकालने का आरोप, प्रधान ने सिरे से नकारा

वैश्य शिक्षण संस्था में नाराज कॉलेजियम सदस्यों की ओर से आम सभा की बैठक बुलाने के लिए खोले गए मोर्चे के बाद अब दबाव...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:20 AM IST
कॉलेजियम सदस्यों के परिजनों को नौकरी से निकालने का आरोप, प्रधान ने सिरे से नकारा
वैश्य शिक्षण संस्था में नाराज कॉलेजियम सदस्यों की ओर से आम सभा की बैठक बुलाने के लिए खोले गए मोर्चे के बाद अब दबाव की राजनीति तेज हो गई है। नाराज कॉलेजियम सदस्यों का कहना है कि प्रधान के खिलाफ अविश्वास जताने वाले सदस्यों के परिजनों को संस्था से निकालने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जिसके तहत 11 अप्रैल को वैश्य कॉलेज आफ इंजीनियरिंग में सहायक प्रोफेसर तैनात राधिका गर्ग को नौकरी से तुरंत प्रभाव से निकालने का पत्र जारी कर दिया गया। नियमों के तहत तीन महीने के नोटिस पीरियड का वेतन का चेक 99,954 रुपए भी साथ में थमा दिया गया। नाराज कॉलेजियम सदस्यों का कहना है कि इसके तहत चार सदस्यों के विश्वास में साइन करवाए गए हैं। इसके बाद 13 अप्रैल को साइन होते ही सहायक प्रोफेसर को दोबारा से नियुक्त कर लिया गया। इस तरह से दबाव की राजनीति की जा रही है।

ब्लैकमेल की राजनीति कर रहे प्रधान : जैन


सदस्यों पर दबाव बनाना गलत


चरित्रहीन व चोर संस्था के पीछे लगे


महासचिव ने ये लिखा पत्र

नौकरी से हटाए जाने के प्रधान के फैसले को लेकर जैसे ही सूचना महासचिव डॉ. चंद्र गर्ग के पास पहुंची तो उनकी ओर से प्रधान के नाम 13 अप्रैल को पत्र लिखा गया है। इसमें बताया कि संस्था में कार्यरत कुछ स्टाफ सदस्यों को बिना गवर्निंग बॉडी में पास करवाए सेवामुक्त किया जा रहा है। जबकि संस्था के संविधान में गवर्निंग बॉडी के अधिकार व कर्तव्यों में धारा 21 नौ के अंदर स्पष्‍ट लिखा गया है। ऐसे में अनुरोध है कि यदि किसी स्टाफ सदस्य को सेवामुक्त करना जरुरी हो तो उसे आगामी गवर्निंग बॉडी बैठक के एजेंडे में शामिल करके विचार-विमर्श किया जाए। इसके बाद ही आगामी कार्यवाही की जाए। किसी भी संस्था में यदि किसी स्टाफ सदस्य को सेवामुक्त किया गया है तो उसे तुरंत बहाल किया जाए।

X
कॉलेजियम सदस्यों के परिजनों को नौकरी से निकालने का आरोप, प्रधान ने सिरे से नकारा

Recommended

Click to listen..