Hindi News »Haryana »Rohtak» डॉक्टरों के दो पैनल साढ़े तीन घंटे पोस्टमार्टम करने के बाद भी नहीं ढूंढ पाए मौत की वजह

डॉक्टरों के दो पैनल साढ़े तीन घंटे पोस्टमार्टम करने के बाद भी नहीं ढूंढ पाए मौत की वजह

टिटोली में हर्बल पार्क के पास माइनर में मिली 10 साल की बच्ची के शव की दूसरे दिन भी शिनाख्त नहीं हो पाई। वहीं बच्ची के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 03:25 AM IST

टिटोली में हर्बल पार्क के पास माइनर में मिली 10 साल की बच्ची के शव की दूसरे दिन भी शिनाख्त नहीं हो पाई। वहीं बच्ची के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुलिस को कुछ सुराग लगने की उम्मीद थी लेकिन वो भी शव की हालत को लेकर बनी पेचीदगी के कारण टूट गई। पहले सिविल अस्पताल का चिकित्सक बोर्ड दो घंटे पोस्टमार्टम करने के बाद भी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाया। इसके बाद पीजीआई के वरिष्ठ डॉक्टरों का बोर्ड डेढ़ घंटे शव का पोस्टमार्टम कर मौत की वजह स्पष्ट नहीं कर पाया। फिलहाल बच्चे के विसरा और स्वेब को जांच के लिए मधुबन लैब भेजा गया है। वहीं से बच्ची की मौत और उसके साथ किसी दरिंदगी पर स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। वहीं रोहतक पुलिस बच्ची की शिनाख्त में तीन जिलों की खाक छानने के बाद भी खाली हाथ है।

टिटौली माइनर में जिस स्थान पर बच्ची का शव पड़ा हुआ था। उसी के नजदीक एक सांड मरा पड़ा था। वहां से बहुत दुर्गंध आ रही थी। एक दो लोग पहले यहां आए थे। लेकिन वो शव से उठ रही दुर्गंध को सांड के शव से आ रही दुर्गंध मान वापस चले गए।

2 फीट के बैग में 3 फीट की बॉडी को मोड़ कर डाला

पुलिस को बच्ची का शव जिस बैग में मिला है उसकी लंबाई दो फीट है। उसमें तीन फीट हाइट की बच्ची के शव को डालने के लिए कातिल ने बच्ची के शरीर को बुरी तरह से मोड़ कर बैग में डाला है। बच्ची के पैर पीछे की तरफ सामान्य से ज्यादा मोड़े गए थे। पुलिस जांच में इस तथ्य का खुलासा हुआ है।

ये 3 अहम वजह जिन्होंने उलझाई मौत की वजह

1. शव में कीड़े पड़ना : बच्ची का शव काफी पुराना होने के कारण उसमें कीड़े पड़ गए थे। डॉक्टरों के पैनल बॉडी की ऐसी हालत के कारण स्किन टिशू की रिपोर्ट नहीं ले पाए। डेथ ऑफ कॉज स्पष्ट न होने की ये बड़ी वजह रही।

2. पानी में ज्यादा रहने से बॉडी शेप आैर फेफड़े खत्म : बॉडी काफी समय तक पानी में रही। फेफड़े पूरी तरह खत्म हो चुके थे। अंदाजा लगाना मुश्किल था कि मौत दम घुटने से हुई है या चोट के कारण।

3. ऊपरी त्वचा कई जगह से फट गई थी : बच्ची के शव की ऊपरी त्वचा ज्यादा समय होने के कारण फट गई थी। सूत्रों का कहना है कि बच्ची की दोनों आंखें बाहर ज्यादा निकली हुई थी। लेकिन चेहरे और गले की त्वचा खत्म होने के कारण डॉक्टर कोई आेपेनियन नहीं बना पाए।

5 की फोटो नहीं हुई मैच, अब कपड़ों से होगी जांच

रोहतक पुलिस ने बैग में मिले बच्ची के शव की शिनाख्त के लिए प्रदेश के सभी थानों में अलर्ट भेज दिया है। शव के फोटो वायरल किए हैं। पुलिस की दो टीम पानीपत, सोनीपत, करनाल के थानों में गई। इन जिलों में पुलिस को पिछले 10 दिन से लापता से पांच ऐसी बच्चियों के बारे में जानकारी मिली जिनकी कद काठी मृत बच्ची से मिलती है। पुलिस ने इनके फोटो और अन्य जानकारी जुटा जांच आगे बढ़ाई तो बच्चियों के फोटो मृत बच्ची से मैच नहीं हुए। अब पुलिस बच्ची के कपड़ों के माध्यम से उसकी शिनाख्त का प्रयास करने में जुटी हुई है।

बच्ची की शिनाख्त के लिए हर जिले की पुलिस को बच्ची के फोटो भेजे गई है। दूसरे जिलों से लापता बच्चों की फोटो से मिलान चल रहा है।विसरा रिपोर्ट के बाद मौत के असली कारणों का पता लग पाएगा। -ट्रेनिंग आईपीएस मकसूद अहमद, प्रभारी थाना सदर।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rohtak

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×