Hindi News »Haryana »Rohtak» सफाई कर्मी बेमियादी हड़ताल पर, सरकार समाजसेवियों की मार्फत कराएगी सफाई

सफाई कर्मी बेमियादी हड़ताल पर, सरकार समाजसेवियों की मार्फत कराएगी सफाई

प्रदेशभर के स्थानीय निकाय के तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। मांगें पूरी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 03:35 AM IST

सफाई कर्मी बेमियादी हड़ताल पर, सरकार समाजसेवियों की मार्फत कराएगी सफाई
प्रदेशभर के स्थानीय निकाय के तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। मांगें पूरी होने तक हड़ताल जारी रहेगी। यह निर्णय गुरुवार को रोहतक के सर्व कर्मचारी संघ के नगर पालिका कर्मचारी संघ की प्रदेश स्तरीय बैठक में लिया गया। नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष नरेश शास्त्री और सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष धर्मबीर फौगाट ने यह एेलान किया। स्थानीय नगर निकाय विभाग की मंत्री कविता ने फैसला लिया कि अब शुक्रवार से प्रदेशभर में ठेके के लगे कर्मचारियों और समाजसेवी संस्थाओं की मदद से सफाई अभियान चलाया जाएगा। साथ ही अन्य बाधित सेवाओं को लेकर विचार किया जा रहा है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के अध्यक्ष धर्मबीर फौगाट ने हड़ताल का समर्थन किया।

नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा अब 18 मई को प्रदेशभर में जिला स्तर पर शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन का पुतला फूंका जाएगा। इस पुतला फूंकने में महिला कर्मचारियों की ओर से नेतृत्व किया जाएगा। दूसरे दिन भाजपा नेताओं के घराें पर प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद से वाल्मीकि बस्ती से लेकर समाज के हर व्यक्ति को इस न्याय युद्ध के लिए सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक स्तर पर समर्थन मांगा जाएगा।

कर्मचारियों को पक्का नहीं कर सकते, इसमें हाईकोर्ट का स्टे है : कविता जैन

सवाल : प्रदेश में सफाई के हालात बिगड़े हैं, क्या किया जाएगा?

जवाब : सफाई कर्मचारियों की अधिकांश मांगें मान ली गई हैं, जल्द ही इनकी मांगें पूरी होनी है, जहां कूड़े के ढेर लग चुके हैं, उनके लिए समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से सफाई अभियान चलाएंगे और सफाई व्यवस्था काे सुनिश्चित करेंगे।

सवाल : कर्मचारियों की मांगों को लेकर क्या किया जा रहा है?

जवाब : इनकी मांगें मान ली हैं। समान काम-समान वेतन के लिए कमेटी बनाकर तय कर देगी कि बेसिक वेतन कितना हो, यह तय करेंगे। ठेके पर कहा कि जहां खत्म होगा, उसे आगे बढ़ाया नहीं जाएगा।

सवाल : कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने पर क्या विचार है?

जवाब : कर्मचारियों को पक्का नहीं कर सकते, इसमें हाईकोर्ट का स्टे हैं।

सवाल : न्यूनतम वेतन 15 हजार दिया जाएगा?

जवाब : प्रदेश के कई जिलों में तो पहले से 13 से 14 हजार रुपए मिल रहे हैं। इसकी रिपोर्ट ली जा रही है। पंचकूला में डीसी रेट ही लिविंग स्टेंडर्ड के हिसाब से 14 हजार रुपए मिल रहे हैं। कुरुक्षेत्र में 13 हजार रुपए मिल रहे हैं।

सवाल : फायर ब्रिगेड कर्मचारी नई भर्ती विज्ञापन को रद्द की मांग कर रहे हैं?

जवाब : फायर ब्रिगेड का नया निदेशालय बन गया है, नए रूल के तहत वेटेज और छूट दे रहे हैं। फायर ब्रिगेड के भर्ती विज्ञापन में 232 चालक हैं, जिनके पास ट्रेनिंग नहीं है, उन्हें ट्रेनिंग दिलाएंगे। इसमें यदि समय लगेगा तो पदों को होल्ड कर लेंगे।

चार मुद्दों पर सहमति का इंतजार

1. ठेका प्रथा खत्म करना

नपा संघ को एेतराज : सरकार ठेका खत्म करने के लिए तो कहती है, लेकिन सिर्फ सीवरमैन और सफाई कर्मचारियों का ठेका खत्म करेंगे, जो सफाई कर्मचारी प्रोजेक्ट के तहत घर-घर से कचरा उठाते हैं, उनका ठेका खत्म नहीं करेंगे। ठेकेदारों का जैसे ठेका खत्म होगा, उसे आगे रिन्यू नहीं करेंगे। सरकार को चाहिए कि एकमुश्त ठेका खत्म करें।

2. कच्चे को पक्का करना

एेतराज : सरकार की ओर से कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने पर पूरी तरह से इनकार कर दिया है। प्रदेश के 10 हजार कर्मचारियों को पक्का करना था। इसे सरकार लागू करें।

3. न्यूनतम 15 हजार वेतन देना

एेतराज : सरकार ने साढ़े 11 हजार रुपए वेतन देने की बात कही, जबकि पहले ही साढ़े 13 हजार रुपए सफाई कर्मचारी वेतन ले रहे हैं।

4. समान काम- समान वेतन

एेतराज : समान काम-समान वेतन पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक स्थानीय निकाय ने पत्र जारी कर दिया, लेकिन ये मिलेगा किसे इस पर कर्मचारी संशय में है। पूछने पर पता चला कि ये वेतनमान उनको मिलेगा जो पार्ट टू में विज्ञापन के बाद सुचारु भर्ती प्रक्रिया के तहत लगे हैं। 2014 में ठेके से हटाकर पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा ने जो पेरोल पर किए थे, उन्हें भी नहीं मिलेगा, तो मिलेगा किसे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rohtak

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×