• Home
  • Haryana News
  • Sampla
  • केस वापसी के लिए पुलिस जाटों के घर पहुंची
--Advertisement--

केस वापसी के लिए पुलिस जाटों के घर पहुंची

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जींद रैली का विरोध कर रहे जाटों को मनाने की जुगत में लगे शासन-प्रशासन ने 2 वर्ष...

Danik Bhaskar | Feb 12, 2018, 03:40 AM IST
भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की जींद रैली का विरोध कर रहे जाटों को मनाने की जुगत में लगे शासन-प्रशासन ने 2 वर्ष पहले अारक्षण आंदोलन के दौरान दर्ज केस वापस लेने शुरू कर दिए हैं। बहादुरगढ़ के जाट नेताओं पर 14 फरवरी 2016 काे सांपला में राष्ट्रीय राजमार्ग जाम करने पर 2 केस दर्ज हुए थे। रविवार अलसुबह 4 इन जाट नेताओं के पास सांपला पुलिस पहुंची और उन्हें केस रद्द करने की अर्जी पर हस्ताक्षर करने को कहा।

इस पर जाट नेता टैणी प्रधान के घर पर इकट्ठा हुए और यहीं पर सभी ने केस वापस लेने की अर्जी पर हस्ताक्षर किए। पिछले दिनों प्रदेश सरकार ने जाट आंदोलन के दबाव के चलते 11 जिलों में 70 केस वापस लेने की घाेषणा की थी। इसमें लगभग 822 लोग बरी होने हैं। वहीं, अब अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के बैनर तले यशपाल मलिक गुट ने जींद रैली का विरोध करने का फैसला स्थगित कर दिया है।

महीने में दो बार जाते हैं रोहतक : दलाल

पप्पू दलाल ने बताया कि अलसुबह करीब 4 बजे सांपला थाना पुलिस उनके घर आई थी। पुलिस ने उनसे आरक्षण के दौरान दर्ज हुए मामले को वापस लेने की अर्जी पर हस्ताक्षर कराने की बात कही। इस पर उन्होंने अन्य जाट नेताओं से भी बातचीत की। बाद में वे टैणी प्रधान के घर पर एकत्र हुए और वहीं पर पुलिस को बुला लिया। यहां पर जिन-जिन नेताओं के खिलाफ मामले दर्ज थे, उन सभी ने मुकदमा वापस लेने की अर्जी पर हस्ताक्षर कर दिए। पप्पू दलाल ने बताया कि अगर मामले वापस होते हैं तो उन्हें राहत मिलेगी। उन्हें महीने में दो बार रोहतक अदालत में केस की सुनवाई के लिए जाना पड़ता था, जिससे मानसिक परेशानी होती थी।

इन पर दर्ज था केस

फरवरी 2016 में जाट नेताओं ने आरक्षण की मांग को लेकर सांपला में राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर दिया था। इस मामले को लेकर सांपला थाना पुलिस ने अनिल प्रधान आसौदा, पप्पू दलाल, रमेश दलाल, कैप्टन मान सिंह दलाल, संजय दलाल, बुल्लड़ पहलवान, टैणी प्रधान, अमित उर्फ चिंटू छारा पर 14 फरवरी 2016 को दो अलग-अलग मामले दर्ज किए थे।