• Home
  • Haryana News
  • Sampla
  • प्रदर्शन करने पर सरकार ने ग्राम सचिवों के जारी किए निलंबन आदेश
--Advertisement--

प्रदर्शन करने पर सरकार ने ग्राम सचिवों के जारी किए निलंबन आदेश

आज करनाल में बनाएंगे आंदोलन की रणनीति भास्कर न्यूज | रोहतक ग्राम सचिव और सरपंचों की ओर से चंडीगढ़ में किए गए...

Danik Bhaskar | Mar 30, 2018, 03:45 AM IST
आज करनाल में बनाएंगे आंदोलन की रणनीति

भास्कर न्यूज | रोहतक

ग्राम सचिव और सरपंचों की ओर से चंडीगढ़ में किए गए प्रदर्शन के अगले दिन ही प्रदेश के 9 ग्राम सचिवों काे सरकार ने सस्पेंड कर दिया है। साथ ही उनके मुख्यालयों को भी बदल दिया गया है। इन नौ ग्राम सचिवों में एसोसिएशन के मुख्य पदाधिकारी भी शामिल हैं। प्रदर्शन के बाद सरकारी की ओर से की गई कार्रवाई को ग्राम सचिवों के साथ ही सरपंचों ने भी अलोकतांत्रिक बताया है। साथ ही आंदोलन को और अागे बढ़ाने का फैसला लिया है। इसमें रोहतक के दो ग्राम सचिव कुलदीप सिंह व नरेश धनखड़ शामिल हैं। ग्राम सचिव वेलफेयर एसोसिएशन ने इन दोनों पदाधिकारियों के पास प्रदेश की जिम्मेदारी है। इसमें नरेश धनखड़ प्रदेश अध्यक्ष व कुलदीप सिंह प्रदेश प्रवक्ता हैं। सरकार ने इन दोनो पदाधिकारियों को निलंबन के बाद इनका हेड क्वार्टर भी बदल दिया है। नरेश धनखड़ बीडीपीअो रोहतक आफिस से डीडीपीओ आफिस मेवात और कुलदीप सिंह बीडीपीओ सांपला आफिस से पंचकुला के डीडीपीआे कार्यालय में हेड क्वार्टर मेंटेन करेंगे। प्रदेश सरकार के ग्राम सचिवों के खिलाफ उठाए गए कदमों के लेकर दोनों एसोसिएशन ने मिलकर कोर कमेटी की बैठक करनाल में शुक्रवार को बुलाने का फैसला लिया है। इसमें ग्राम सचिवों के निलंबन के मुद्दे को रखा जाएगा। जो भी निर्णय कोर कमेटी करनाल में लेगी। उसे प्रदेश के सभी सरपंचों व पंचायतों की ओर से लागू कर दिया जाएगा। यदि सरकार अपने गांव के लोगों और आमजनों के हितों का निलंबन करती है तो यह सरकार की दमनकारी नीति है।

ग्राम सचिव वेलफेयर एसोसिएशन हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश धनखड़ ने कहा कि सरकार हमारे आंदोलन को दबाना चाहती है। पंचायत मंत्री कहते हैं कि हमने पढ़ी लिखी पंचायत बनाई ताकि ग्राम सचिव सरपंचों को बहका न सके। इनके प्रवक्ता कह रहे हैं कि पढ़े लिखे सरपंचों को ग्राम सचिवों ने बरगला कर आंदोलन किया है।

ग्राम सचिव वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश प्रवक्ता कुलदीप सिंह ने कहा कि हमने प्रशासन से स्वीकृत लेकर लोकतांत्रिक ढंग से अपना प्रदर्शन किया है। सीएम आवास पर हमें वार्ता के लिए बुलाया गया था, लेकिन सीएम साहेब ने कोई बात ही नहीं की है। गुरुवार की शाम को निलंबन के आदेश मिले हैं। अब शुक्रवार को बैठकर आगामी रणनीति की घोषणा करेंगे।

सरपंच एसोसिएशन हरियाणा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य नरवीर नेहरा ने बताया कि प्रदेश सरकार ने जिस तरह से नौ ग्राम सचिवों को सस्पेंड किया है वह अलोकतांत्रिक है। सरकार लोगों की अभिव्यक्ति की आजादी को छीनना चाहती है। सरपंच और ग्राम सचिव सरकार के इस कदम से जरा भी पीछे हटने वाले नहीं हैं।