• Home
  • Haryana News
  • Sampla
  • मुख्यमंत्री को सरपंचों के अपमान का खामियाजा भुगतना ही पड़ेगा: हुड्‌डा
--Advertisement--

मुख्यमंत्री को सरपंचों के अपमान का खामियाजा भुगतना ही पड़ेगा: हुड्‌डा

ई पंचायत प्रणाली व अन्य मांगों को लेकर सांपला क्षेत्र के सरपंच, पंच व ग्राम सचिवों रविवार को लघु सचिवालय के सामने...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:55 AM IST
ई पंचायत प्रणाली व अन्य मांगों को लेकर सांपला क्षेत्र के सरपंच, पंच व ग्राम सचिवों रविवार को लघु सचिवालय के सामने अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए। ब्लाॅक सरपंच एसोसिएशन के ब्लाॅक अध्यक्ष बिजेंद्र मलिक ने धरने की अध्यक्षता की।

धरने के पहले दिन इनेलो के नेता अभय सिंह चौटाला, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा धरना स्थल पर पहुंचे। उन्होंने समर्थन देते हुए सरपंचों को संघर्ष में पार्टी की तरफ से पूरा सहयोग देने का वादा किया। अभय चौटाला ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री व उसकी सरकार को जनता के हितों से कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को सरपंचों के अपमान का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

वर्तमान सरकार जनप्रतिनिधियों का अपमान कर रही है। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि ग्रांट के बिना सरपंच गांव का विकास नहीं करवा सकता है। उन्होंने कहा कि ई-प्रणाली गलत चीज तो नहीं है, लेकिन सरकार ने इसे पूरी तैयारी के साथ लागू नहीं किया है। उन्होंने सरपंचों को आश्वस्त देते हुए कहा कि उनकी सरकार आने पर वह उनकी सभी मांगों को पूरा करने का काम करेंगे।

ई-प्रणाली को हुड्‌डा ने बताया सही, बोले-पहले पूरी तैयारी करते

रोहतक. सांपला क्षेत्र के सरपंच, पंच व ग्राम सचिवों को संबोधित पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा।

सरपंचों में फूट न डाले सरकार

पूर्व सीएम हुड्डा ने सरकार पर सरपंचों में फूट डालने का आराेप लगाया हैं। उन्होंने कहा कि सभी सरपंचों का पंचकुला में बैठक में एक साथ नहीं बुलाया गया है। पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र हुड्डा ने सरकार को सरपंचों में फूट नहीं डालनी चाहिए। सरपंचों ने पूर्व सीएम हुड्डा के सामने अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि सरकार स्वच्छता को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही है। सच्चाई यह है कि आजतक उन्हें शौचालयों के निर्माण के पैसे सरकार की तरफ से नहीं मिले है। उन्होंने बताया कि उन्होंने स्वयं पैसे लगाकर शौचालय बनवाए हैं।