Hindi News »Haryana »Sampla» नाले की सफाई करते हुए टूटी थी पानी की पाइप लाइन, 5 माह से अटायल के ग्रामीण गंदा पानी पीने को विवश

नाले की सफाई करते हुए टूटी थी पानी की पाइप लाइन, 5 माह से अटायल के ग्रामीण गंदा पानी पीने को विवश

बिजली के तार बदलवाने की मांग जनस्वास्थ्यविभाग की लापरवाही का खामियाजा गांव अटायल के ग्रामीणों को भुगतना पड़...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 08, 2018, 03:55 AM IST

बिजली के तार बदलवाने की मांग

जनस्वास्थ्यविभाग की लापरवाही का खामियाजा गांव अटायल के ग्रामीणों को भुगतना पड़ रहा है। करीब पांच माह पहले कसरैंटी रोड स्थित नाले की सफाई करते समय पानी की सप्लाई लाइन टूट गई थी। इसकी शिकायत कई बार ग्रामीणों द्वारा गांव के सरपंच सहित संबधित विभाग को भी की गई। लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। अब ग्रामीणों गंदा पानी को विवश है। ग्रामीण का कहना कि पानी से बदबू रही है। पूर्व डीएसपी रामफल गौतम ने बताया कि गंदे नाले के नीचे से ही गांव में सप्लाई होने वाले पीने के पानी की पाइप लाइन दबा रखी है। करीब पांच माह पूर्व जब जेसीबी मशीन द्वारा नाले को साफ किया जा रहा था तो यह पाइप लाइन टूट गई। लेकिन किसी ने भी पाइप लाइन को ठीक करने की कोशिश नहीं की। गांव के एक मात्र जल घर है। जल घर के टैंक में गंदगी की भरमार साफ दिखाई दे रही है। पानी के टैंक की हालत देख कर यही लगता है कि काफी समय से इसकी सफाई नहीं हुई है। ग्रामींण अभिमन्यु, सुनील मलिक, अरुण देवीराम ने बताया कि सप्लाई होने वाले पानी से बदबू आती है।

सांपला. अटालयगांव में जल घर के टैंक में गंदगी की भरमार और अटालय गांव में पाइप लाइन में गंदा पानी जाता दिखाते ग्रामीण।

ग्रामीणों को जल्द मिलेगा स्वच्छ जल

जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीओ एन के गर्ग से बताया कि ग्रामीणों की समस्या जल्द ही हल हो जाएंगी। उनको इस प्रकार की पहले कोई जानकारी नहीं थी।

अधिकारियोंको अवगत कराया था

गांवकी सरपंच सुदेश शर्मा का कहना है कि उन्होंने जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से मौखिक रूप से अवगत कराया था। कसरैंटी रोड़ पर बने नाले का उनके पास कोई बजट नहीं है।

अधिकारीसे मिलकर समाधान कराएंगे

ब्लाॅकसमिति के सदस्य प्रेमदत्त कौशिक का कहना है कि वह उच्च अधिकारियों से मिलकर जल्दी ही पानी के टैंक की सफाई सप्लाई लाइन को ठीक करवाने का प्रयास करेंगे।

^जनस्वास्थ्य विभाग ग्रामीणों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। पानी के टैंको की सफाई हुए एक जमाना गुजर गया लेकिन विभाग इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा। जिसके चलते ग्रामीण गंदा पानी पीने का मजबूर हो रहे है। कृष्णमलिक, पूर्व ब्लाक समिति के वाइस चेयरमैन।

^पाइपलाइन को ठीक कर ग्रामीणों का साफ पीने का पानी उपल्ब्ध करवाना पंचायत विभाग की नैतिक जिम्मेवारी बनती है। लेकिन कोई भी इसको उचित तरीके से नहीं निभा रहा है। वह ग्रामीणों की समस्या को लेकर आला अधिकारियों से मिलेंगे। - हवासिंह, पूर्व सरपंच।

^गांव के गंदे पानी की उचित निकासी नहीं होने के चलते गांव का गंदा पानी जो नहर से जल घर में जाता है उसमें मिल रहा है। बरसात के समय तो हालत और भी खराब होती है। जिससे ग्रामीणों का सड़कों पर चलना मुश्किल हो जाता है। सड़क पर जगह-जगह पानी के साथ गंदगी जमा हो जाती है-संदीप विशिष्ट,ग्रामीण।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sampla News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: naale ki sfaaee karte hue tuti thi paani ki paaip laain, 5 maah se ataayl ke garaamin gandaa paani pine ko vivsh
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sampla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×