सांपला

--Advertisement--

जेई को बदलने के भरोसे पर माने सरपंच

सांपला ब्लॉक के सरपंचों का पंचायती राज के अधिकारियों के खिलाफ चल रहा विरोध बुधवार को एक्सईएन केके धनखड़ के...

Danik Bhaskar

Jan 18, 2018, 04:10 AM IST
सांपला ब्लॉक के सरपंचों का पंचायती राज के अधिकारियों के खिलाफ चल रहा विरोध बुधवार को एक्सईएन केके धनखड़ के आश्वासन के बाद समाप्त हो गया। अधिकारी ने सरपंचों की पांचों मांगें मान ली हैं। जेई महाबीर को सांपला से बदलने का भरोसा दिया है।

इसके बाद सरपंच कार्य बहिष्कार खत्म कर प्रशासन के साथ मिलकर काम करने के लिए सहमत हो गए। सांपला ब्लॉक की 21 ग्राम पंचायतें एक महीने से प्रशासनिक अधिकारियों का विकास कार्यों में सहयोग नहीं मिलने से पंचायती राज प्रशासन नाराज चल रहा था। उन्होंने बीडीओ कार्यालय का भी बहिष्कार कर दिया था। इसके अलावा दतौड़ में आए कृषि मंत्री ओपी धनखड़ को भी लिखित में शिकायत की थी।

बुधवार को सरपंचों के प्रधान बिजेंद्र मलिक की अध्यक्षता में सभी सरपंच विश्राम गृह में एकत्रित हुए। यहां पंचायती राज के एक्सईएन केके धनखड़ अपने स्टाफ सदस्यों को साथ लेकर उनके पास पहुंचे। सरपंचों के साथ अधिकारी की करीब एक घंटा बैठक हुई। इसमें सरपंचों ने जेई महाबीर का रवैया ठीक नहीं होने का आरोप लगाया। साथ ही इसको बदलने की मांग की गई। इसके अलावा आठ पंचायतों ने साल भर पहले सरकार के पास व्यायामशाला के लिए प्रस्ताव और एस्टीमेट भेज हुए हैं। सभी ब्लॉक और जिलों में व्यायामशाला का पैसा आ चुका है।

उनका पैसा क्यों नहीं आ रहा? पाकस्मा के सरपंच मुकेश ने कहा कि मनरेगा योजना के तहत पंचायतों ने कच्चे पक्के विकास कार्य कराए हुए हैं। काम को हुए छह महीने बीत गए, लेकिन अब तक पैसा नहीं आया। ये सब अधिकारियों की लापरवाही से हो रहा है। पंचायत ने जो विकास कार्य कराए हैं उनकी समय पर पैमाइश नहीं होती। इस कारण विकास कार्य बाधित हो रहे हैं। एक्सईएन धनखड़ ने सरपंचों को विश्वास दिलाया कि जेई को सांपला से रोहतक भेज दिया जाएगा। जो अन्य समस्याएं हैं उनका जल्द से जल्द समाधान कर दिया जाएगा। प्रधान बिजेंद्र मलिक ने चेताया कि अगर मांगों पर अमल नहीं किया गया तो वे दोबारा बहिष्कार के अलावा सीएम खट्टर से शिकायत करेंगे। बैठक में गांधरा से सोनू मलिक, गिझी से महेंद्र पहलवान, जसबीर सिंह, अनिल कुमार , सुशील कुमार, सुरेंद्र कौशिक, विनोद कुमार, श्रीभगवान, हरेंद्र कुमार, संदीपकुमार, संजय, मंजीत कुमार, जयभगवान, प्रदीप कुमार, मुकेश राणा, राजेश कुमार उपस्थित थे।

सांपला. विश्राम गृह में सरपंचों की शिकायत सुनते एक्सईएन।

ऐसा कोई बड़ा मामला

नहीं था: एक्सईएन

पंचायती राज के एक्सईएन केके धनखड़ का कहना है कि ऐसा बड़ा मामला कोई नहीं था। आपस में ताल मेल की कमी की वजह से सरपंचों मेंं नाराजगी थी। बैठक होने पर वे सभी दूर हो गई। जिस जेई की शिकायत थी, उसको को रोहतक से हटा दिया जाएगा।

Click to listen..