• Home
  • Haryana News
  • Sampla
  • नगर निगम कर्मियों ने प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन
--Advertisement--

नगर निगम कर्मियों ने प्रदर्शन कर सौंपा ज्ञापन

सुप्रीम कोर्ट की आेर से एसई एसटी एक्ट पर दिए गए फैसले के विरोध में शुक्रवार को नगर पालिका कर्मचारी संघ ने जुलूस...

Danik Bhaskar | Mar 31, 2018, 04:25 AM IST
सुप्रीम कोर्ट की आेर से एसई एसटी एक्ट पर दिए गए फैसले के विरोध में शुक्रवार को नगर पालिका कर्मचारी संघ ने जुलूस निकाल प्रदर्शन किया। उन्होंने लघु सचिवालय पहुंच एसडीएम अरविंद मल्हान को प्रधानमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा। इसमें अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अत्याचार रोकथाम कानून को यथावत बनाए रखने के लिए केंद्र सरकार से सर्वोच्च न्यायालय में पुनर्विचार याचिका दायर करने की मांग की गई। साथ ही पुनर्विचार याचिका दायर नहीं होने की स्थिति मेंं प्रदेश व्यापी आंदोलन करने की चेतावनी दी।

शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे नगर पालिका कर्मचारी संघ के प्रधान संजय बिड़लान के नेतृत्व में सफाई कर्मचारी और नगर निगम के कर्मचारी अंबेडकर चौक स्थित नगर निगम कार्यालय में एकत्रित हुए। यहां सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर विचार विमर्श के बाद सामूहिक रूप से इसे एसई एसटी एक्ट कानून को हलका करने वाला बताया। कहा कि इस फैसले से आरोपी की गिरफ्तारी व उस पर मुकदमा चलाना असंभव हो गया है। ऐसा केंद्र सरकार के वकील की ओर से उचित ढंग से हस्तक्षेप न करने और इस कानून प्रावधान को ढीला करने के विरुद्ध आपत्ति दर्ज न कराने के चलते हुआ है। यह दुखद है। इस दौरान नगर पालिका कर्मचारी संघ के महासचिव श्रवण बोहत, कोषाध्यक्ष विक्की बिड़लान सहित पदाधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

रोहतक. सुभाष चौक पर बसपा के कार्यकत्र्ता डीसी को ज्ञापन सौंपने जाते हुए।

अधिनियम 1989 में किया बदलाव दुर्भाग्यपूर्ण

बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ता शुक्रवार को मानसरोवर पार्क में जिला प्रभारी कैप्टन राम मेहर सिंह के नेतृत्व में एकत्रित हुए। यहां से नारेबाजी करते हुए लघु सचिवालय स्थित उपायुक्त कार्यालय पहुंचे। जहां उन्होंने जिला उपायुक्त डॉ. यश गर्ग को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। कैप्टन राम मेहर सिंह ने कहा कि अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार निरोधक अधिनियम 1989 में किया बदलाव दुर्भाग्यपूर्ण है। इस मौके पर जिला प्रभारी प्रो. कश्मीरी बौद्ध, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रमेश धानक, जिला अध्यक्ष राजपाल भगत, जिला कार्यकारिणी सदस्य अड़ीचंद निंबडिय़ा, सत्यवान खरक, जिला सचिव अजीत मेहरा, अंबेडकर एजुकेशन सोसायटी के प्रधान सत्यवीर सिंह मुंडे, बलबीर भोला, सत्यवान बलम, रतन कटारिया, जुगनू सरोहा, जिला बीवीएफ संयोजक सूबेदार ओम कुमार, सुरेश वाल्मीकि, सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर सीता राम, जगमाल टिटोली आदि उपस्थित रहे।

वाल्मीकि समाज 2 अप्रैल को

एसडीएम को ज्ञापन सौंपेगा

महम | दलित समाज से जुड़े लोगों की चौबीसी चबूतरे के पास स्थित कार्यालय में बैठक हुई। वाल्मीकि समाज के प्रधान भीम सिंह व संत कबीरदास शिक्षा समिति के प्रधान राजकुमार ने कहा कि एससी, एसटी एक्ट में गलत संशोधन करने पर समाज के लोगों में रोष है। वे 2 अप्रैल को चौबीसी चबूतरे पर शांति पूर्वक बैठक करने के बाद लघु सचिवालय तक पैदल मार्च करते हुए राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन देंगे। इस दौरान अनिल बिंटू, भीम मोखरा, सुनील राममेहर, बादल, रमेश, प्रेम, मान, ओमप्रकाश, दीपक, अशोक आदि मौजूद रहे।

एससी-एसटी में बदलाव पर

तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

सांपला | एससी एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर शुक्रवार को दलित समाज के लोगों ने प्रदर्शन किया। उन्होंने एकता संघर्ष समिति के अध्यक्ष शिव कुमार रंगीला के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। दलित समाज के लोगों ने एसडीएम तरुण पावरियां के नहीं मिलने पर ज्ञापन तहसीलदार सुभाष जून को ज्ञापन दिया। करीब 10 बजे शुक्रवार दलित समाज के लोग सांपला मेन चौक पर इक्कठा हुए। यहां उन्होंने एससी एसटी एक्ट में बदलाव पर सरकार के प्रति रोष जताया। 11 बजे एसडीएम आॅफिस पहुंचे। एसडीएम तरुण पावरियां आॅफिस में नहीं मिले। इसके बाद वह सभी तहसील कार्यालय पहुंचे और सर्वोच्च कोर्ट की ओर से किए गए बदलाव की पुन: बहाली का ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम दिया। तहसीलदार सुभाष जून ने तत्काल मांग पत्र को राष्ट्रपति के पास भेजने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर बिजेंद्र नंबरदार, हरीश राजसिंह प्रधान, विनित इस्माइला, पवन, सुशील, राजू, संजय व मनीष सहित अन्य उपस्थित रहे ।