Hindi News »Haryana »Sampla» सोनीपत के रोहट में

सोनीपत के रोहट में

बचपन से खेलकर एक साथ बड़े हुए, अब तीनों दोस्तों की इकट्ठी जली चिता हादसे में बचे चिराग से छुपाया मौत का सच,...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 24, 2018, 09:20 PM IST

बचपन से खेलकर एक साथ बड़े हुए, अब तीनों दोस्तों की इकट्ठी जली चिता

हादसे में बचे चिराग से छुपाया मौत का सच, बार-बार पूछ रहा-यार ठीक हैं


सोनीपत के रोहट में नहर में कार गिरने से चार नौजवानों की मौत होने पर सांपला के छह दोस्तों की मस्तानी टोली टूट गई। शनिवार रात पार्टी करने गए युवाआें की कार नहर में गिर गई थी। इसमें एक युवक चिराग बच गया, जबकि बाकी चार पानी में बह गए। लक्ष्य का शव उसी दिन नहर से मिल गया, लेकिन बाकी 3 शव मंगलवार दोपहर तक मिले। जैसे ही शव दोपहर बाद सांपला में पहुंचे तो हर किसी की आंखें भर आईं। परिवार की महिलाएं एम्बुलेंस की आवाज सुनकर रोते हुए बाहर सड़क पर आ गईं। एक साथ तीनों दोस्तों की चिताओं को अग्नि दी गई। इस हादसे ने छह दोस्तों की टोली को तोड़कर रख दिया। अब इस टोली मेें से केवल दो ही बचे हैं। इसमें से हादसे में बचा चिराग अभी कमरे में ही बंद है। उसे साथियों के साथ अनहोनी की भनक तो है, लेकिन मौत की खबर छुपाई गई है। वह बार-बार अपने दोस्तों के बारे में ही पूछ रहा है।

दोस्त विक्की ने कहा कि वे छह दोस्त ऐसे थे, जो हमेशा साथ रहते थे। पढ़ाई भी साथ करते थे तो खाना-पीना भी साथ ही होता था। अक्सर सभी दोस्त किसी एक के मकान पर ही सो जाते थे। अब छह दोस्तों की मस्तानी टोली में से केवल वह और चिराग ही बचा है। चिराग की हालत भी ठीक नहीं है। इस घटना के बाद वह जब भी चिराग के पास आता है, उसकी आंखों में आंसू मिलते हैं। अब चिराग की जुबान पर सौरभ, हितेश, रोहित व लक्ष्य का नाम है।

सोमवार की रात भी वह कुछ समय चिराग के पास बैठा था। इस वक्त चिराग ने बताया कि वो यहां से जब मुरथल ढाबे के लिए निकले ही थे कि रास्ते में पुलिस नाके के पास अचानक आगे से ट्रक आने से गाड़ी अनियंत्रित हो गई। इसके बाद क्या हुआ उसको कुछ याद नहीं आ रहा। इतनी कहते ही फिर चिराग फफक-फफक कर रोने लगा तो वह उसे समझ बुझाकर अपने घर चला आया। उस रात मैं पार्टी करने नहीं गया था। बाकी पांच दोस्त गए थे।

रोहतक. श्मशान घाट में मृतक युवकों के परिजन विलाप करते हुए।

एम्बुलेंस का सायरन सुनते ही बाहर दौड़ी रोहित की मां

दोपहर करीब डेढ़ बजे जब रोहित का शव सांपला पहुंचा तो बेटे का शव आने की भनक लगते ही रोहित की मां एकदम से मेन बाजार की तरफ दौड़ पड़ी। मकान के गेट से कुछ कदम की दूरी पर ही महिलाओं ने उसे रोक लिया। समझा-बुझाकर शांत किया। फिर उसके बेटे के शव को एम्बुंलेंस से उतारकर जब घर लाया गया तो मां रोते हुए बोली-बेटा मैं अब कैसे तेरे बिना रह पाऊंगी।

तीन अर्थी एक साथ उठी तो हर किसी की आंखें भर आईं

सांपला में जब हितेश, सौरभ और रोहित की अर्थी एक साथ उठी तो सैंकड़ों की संख्या में लोगों की भीड़ थी। हर किसी की आंखें झलक रही थी। सांपला की गलियाें में सनाटा छाया हुआ था। हर किसी नागरिक की जुबां पर तीन नौजवानों की मौत की कहानी थी।

श्मशान में महिलाओं को मुश्किल से चिता से दूर किया

श्मशान घाट पर संस्कार के वक्त परिवार की तीन महिलाएं पहुंची। वहां पर उन्हें बड़ी मुश्किल से रोका गया। आसपास के लोगाें ने समझा-बुझाकर उन्हें वहां से भेजा। इसके अलावा वहां पर मौजूद पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा और दीपेंद्र हुड्डा की आंखें भी नम हो गईं।

रोहतक. शोक जताने पंहुचे मंत्री मनीष ग्रोवर और पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा।

रोहतक. सांपला में गुरुग्राम से मृतक युवकों के दोस्त शोक जताने पहुंचे ।

तीन माह पहले गए थे टूर पर

चिराग, रोहित और सौरभ तीन एक महीना पहले हिमाचल के कसरौली में पिकनिक मनाने गए थे। जहां पर इन्होंने खूब मस्ती की। इसके बाद अब रोहित का गुरुग्राम में की एक कंपनी में चयन हो गया था, जबकि चिराग व सौरभ अपने घर के कारोबार में अपने पिता का हाथ बंटाते थे। नौजवानों की मौत की खबर मिलने के बाद रविवार से ही सांपला का मेन बाजार बंद है। अब बुधवार को बाजार खुलने की संभावना है।

रोहतक. युवकों का दाह संस्कार करते हुए ग्रामीण।

संस्कार में ये हुए शामिल

संस्कार में सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा, पूर्व विधायक नरेश मलिक, डीएसपी गजेंद्र सिंह और तहसीलदार सुभाष शामिल हुए।

इन छह जैसी किसी

और की नहीं दोस्ती

रोहित के चचेरे भाई विवेक ने बताया कि चिराग, रोहित, सौरभ, लक्ष्य, हितेश और विक्की की दोस्ती की तुलना किसी से नहीं की जा सकती। स्कूल व कॉलेज में पढ़ाई करते वक्त भी ये एक साथ रहे। अब भी समय लगते ही इकट्ठे हो जाते थे। जून माह में रोहित को गुरुग्राम की एक कंपनी में नौकरी ज्वाइन करनी थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sampla News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: sonipt ke roht mein
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sampla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×