• Home
  • Haryana News
  • Sampla
  • 12 में से महज चार दिन ही गेहूं की खरीद, वाहनों के नीचे आ रही किसानों की मेहनत
--Advertisement--

12 में से महज चार दिन ही गेहूं की खरीद, वाहनों के नीचे आ रही किसानों की मेहनत

नई अनाज मंडी में मौसम बदलने व बूंदाबांदी होने के बावजूद गेहूं की आवक जारी है। आढ़ती कमिशन के चक्कर में किसानों का...

Danik Bhaskar | Apr 13, 2018, 03:15 AM IST
नई अनाज मंडी में मौसम बदलने व बूंदाबांदी होने के बावजूद गेहूं की आवक जारी है। आढ़ती कमिशन के चक्कर में किसानों का ज्यादा नमी होने के बावजूद गेहूं किसानों से ले रहे हैं। वहीं खरीद एजेंसी पिछले 12 दिनों में महज चार दिन ही गेहूं की खरीद कर पाई है जिसके चलते मंडी में गेहूं के ढेर चारों तरफ लगे हुए देखे जा सकते है। मंडी में खरीद नहीं होने से आने वाले दिनों में अव्यवस्था बिगड़ सकती है।

किसानों की मेहनत मंडी में वाहनों के टायरों के नीचे कुचल रही है। वहीं सड़क किनारे पड़े गेहूं के ढेर के पास ही बरसात के पानी में भी पीला सोना पड़ा दिखाई दे सकता है। मंडी में गेहूं की खरीद एक मात्र खरीद एजेंसी वेयर हाउस कर रही है। वहीं बुधवार को हुई बरसात में मंडी में खुले में पड़ा गेहूं बारिश में भीग गया। गेहूं को बारिश से बचाने के मंडी में कोई पुख्ता प्रबंध नहीं किए गए थे। वहीं आने वाले दिनों में बारिश होती है ताे किसानों की मेहनत खराब हो सकती है। मंडी में भी बारिश से बचने के कोई पुख्ता प्रबंध नहीं किए गए है।

सांपला. अनाज मंडी में सड़क पर बिखरा पड़ा किसान का गेहूं।

अब खाद्य आपूर्ति विभाग ने शुरू की सरसों की खरीद

महम | मंडी में सरसों की जल्दी खरीद को लेकर हैफेड के बाद अब खाद्य आपूर्ति विभाग किसानों की सरसों खरीदेगा। विभाग सरसों को आढ़तियों को आढ़त देकर खरीदेगा। आढ़तियों को विभाग की ओर से सौ रुपए प्रति क्विंटल कमीशन दिया जाएगा। इसकी खरीद गुरुवार से शुरू कर दी गई है। खाद्य आपूर्ति विभाग के निरीक्षक हरिओम सैनी ने बताया कि सरसों की खरीद आढ़ती के की ओर से शुरू कर दी गई है। वहीं बुधवार को बरसात के कारण मंडी में गेहूं व सरसों भीगने से बच गया। मंडी में सरसों को पहले ही ट्रालियों में रखा गया था।नमी के कारण गेहूं की नहीं हुई खरीद: हैफेड की ओर से गुरुवार को गेहूं में नमी होने के कारण गेहूं की खरीद नहीं हो सकी। जिस कारण मंडी में गेहूं के ढेर लग गए। आढ़तियों ने गेट पर नमी चेक करने का नाका लगा दिया है। जिस गेहूं में नमी की मात्रा 13 प्रतिशत से ज्यादा है उसे किसान की गेहूं को नहीं खरीदा गया। हैफेड के परचेज विजय देशवाल ने बताया कि गेहूं में नमी ज्यादा होने के कारण खरीद नहीं हो सकी। शुक्रवार को स्टेट वेयर हाउस खरीद करेगा।