Hindi News »Haryana »Sampla» खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा माइनर का पानी रोककर बहादुरगढ़ को दी सप्लाई

खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा माइनर का पानी रोककर बहादुरगढ़ को दी सप्लाई

दुल्हेड़ा माइनर से खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा लिंक नहरों के पानी की सप्लाई शनिवार दोपहर करीब 2 बजे रोक दी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 03:25 AM IST

खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा माइनर का पानी रोककर बहादुरगढ़ को दी सप्लाई
दुल्हेड़ा माइनर से खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा लिंक नहरों के पानी की सप्लाई शनिवार दोपहर करीब 2 बजे रोक दी गई। नहरी पानी की सप्लाई रुकते ही किसान कनाल गार्ड से बात करने पहुंचे। लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर किसान जन प्रयास समिति के अध्यक्ष सुंदर ओहल्याण से मिले। सुंदर ने नहरी विभाग के एसडीओ सितेंद्र सांगवान से पानी रोकने का कारण पहुंचा। एसडीओ ने बताया कि ऊपर से आदेश है कि सिंचाई पानी की सप्लाई रोक कर बहादुरगढ़ के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के तालाबों, जलघरों में पानी की सप्लाई देनी है। सुंदर ने कहा कि इस समय किसानों को बाजरा, कपास, ईख व ज्वार सहित कई प्रकार की फल व सब्जियों को पानी देने की आवश्यकता पड़ रही है। डीजल तेल का भाव आसमान पर होने से किसान नहरी पानी के भरोसे ज्यादा रहते है। लेकिन अधिकारी से सिंचाई पानी देने मना कर दिया।

41 गांवों में जाता है पानी

दुल्हेड़ा माइनर कलानौर, गढ़ी सांपला किलोई, बहादुरगढ़ व बादली विधानसभा के अंतर्गत आने वाले 41 गांवों में सिंचाई का काम करती है। यह नहर 1982-83 बनाई गई थी। इसके बाद इसका पुन-निर्माण नहीं हुआ है। बार-बार डिस्ट्रीब्यूटरी के टूटने से किसानों की फसल खराब हो जाती है। पुन-निर्माण के बाद विभाग को 30 प्रतिशत पानी की बचत होने का अनुमान है।

सांपला. दुल्हेड़ा माइनर में सुंडवा लगाकर पानी चोरी करते हुए।

किसान सुंडवा लगाकर कर रहे है पानी की चोरी

किसान दीपक, जयप्रकाश, प्रदीप व नवीन आदि का कहना है कि नहर में पानी आने के बाद पानी चोरी सरेआम होती है। नहरी विभाग को कई बार फोटो व पानी चोरी करने वालों के नाम बताने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती है। वहीं ज्यादातर किसानों के खेतों तक पानी नहीं पहुंच पाता।

नई माइनर बनाने की आई परमिशन

नहरी विभाग के एसडीओ सितेंद्र सांगवान का कहना है कि नहर पुरानी हो चुकी है। नई बनाने की परमिशन आ चुकी है। 156 हजार फीट लंबी नहर को बनाने में करीब 67 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। खेड़ी सांपला, रोहद व रेवाड़ी खेड़ा माइनर के सिंचाई पानी की सप्लाई ऊपर से आदेश रोकी गई है। बहादुरगढ़ के शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के जलघरों व तालाबों में पानी की भारी किल्लत हो गई। विभाग की पहली प्राथमिकता जलघरों व तालाबों तक नहरी पानी देने की है।

खेत में पानी की नाली को लेकर हुआ झगड़ा , तीन को आई चोट

महम | महम के साथ लगते गांव ईमलीगढ़ के खेतों में पानी निकासी के लिए निकाली गई नाली को लेकर दो गुटों में आपसी झगड़ा हो गया। इस झगड़े में तीन लोगों को चोटें आई हैं। पुलिस ने पीड़ितों की शिकायत पर किशनगढ़ निवासी ओमा, परमेन्द्र, जितेन्द्र, बलराम के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। ईमलीगढ़ निवासी जसवंत ने बताया कि वे तीन भाई हैं। गांव के नजदीक रेलवे लाइन के पास उनकी जमीन है। उसने बताया कि उनकी जमीन में किशनगढ़ निवासी रामचन्द्र वगैरा ने पानी की नाली बना दी। उसके छोटे भाई सुरेन्द्र ने अवैध रूप से बनाई गई नाली को मिट्‌टी डालकर बंद कर दिया क्योंकि नाली उनके खेतों में थी। शिकायतकर्ता का कहना है कि तभी सभी आरोपी लाठी व जेली लेकर मौके पर आए तथा उसके भाई सुरेन्द्र, जगदीश व उसे चोटें मारी। इस लड़ाई झगड़े में उसके कई दांत टूट गए तथा भाई जगदीश के पैर में जेली लगी। आसपास खेतों में काम कर रहे किसानों ने आकर उन्हें छुड़वाया। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। घायलों का महम अस्पताल में इलाज करवाया जा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sampla

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×