सांपला

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Sampla
  • सांपला में गद्दा फैक्ट्री में आग, 55 कर्मियों ने भागकर बचाई जान
--Advertisement--

सांपला में गद्दा फैक्ट्री में आग, 55 कर्मियों ने भागकर बचाई जान

सांपला. गद्दा फैक्ट्री में आग को बुझाता दमकल का जवान। भास्कर न्यूज | सांपला बेरी रोड पर औद्योगिक क्षेत्र में एक...

Dainik Bhaskar

Apr 18, 2018, 03:35 AM IST
सांपला में गद्दा फैक्ट्री में आग, 55 कर्मियों ने भागकर बचाई जान
सांपला. गद्दा फैक्ट्री में आग को बुझाता दमकल का जवान।

भास्कर न्यूज | सांपला

बेरी रोड पर औद्योगिक क्षेत्र में एक गद्दे बनाने वाली फैक्ट्री में मंगलवार रात करीब 8 बजकर 40 मिनट पर आग लग गई। आग शार्ट सर्किट से लगी। जिस वक्त आग लगी उस समय फैक्ट्री में अधिकारियों सहित 55 मजदूर काम कर रहे थे। आग लगते ही फैक्ट्री में भगदड़ मच गई। मजदूर व कर्मचारी जान बचाने के लिए फैक्ट्री से बाहर की तरफ भागने लगे। आग मेन गेट के साथ सबसे पहले लगी। 7 मिनट तक फैक्ट्री के कर्मचारियों ने आग बुझाने का प्रयास किया। बिंडल क्वायर प्राइवेट लि. फैक्टरी के सुपरवाइजर रवींद्र ने पुलिस व फायर ब्रिगेड को जानकारी दी। फायर ब्रिगेड इंचार्ज हरिओम के नेतृत्व में रोहतक से 2 गाड़ियां मौके पर पहुंची। एक गाड़ी सांपला क्षेत्र में मौजूद थी। आग को काबू नहीं पाता देख 2 फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को बहादुरगढ़ से मंगवाया गया। हादसे के दौरान रवि शर्मा, निरंजन सिंह, दीपक, रिंकू, सुनील, मकसुद, रजनीश, राजू, राजेश, प्रेम हरि सहित 55 मजदूर फैक्टरी में काम कर रहे थे।

आरएसपी रबड़ फैक्ट्री अौर करोवन पोली प्राइवेट फैक्ट्री के बाद सांपला में तीसरा बड़ा हादसा

करोड़ों का सामान जला

बिंडल क्वायर प्राइवेट लि. फैक्ट्री के मालिक सुनील ने बताया कि आग लगने से पहले कई करोड़ों का सामान फैक्टरी में रखा हुआ था। वह दिल्ली में रहता है। कर्मचारियों ने ही उन्हें आग लगने की सूचना दी। कंपनी का शेड, मशीन व तैयार माल सहित कच्चा माल जलकर खाक हो गया। उसने 2011 में फोम के गद्दे बनानी की कंपनी लगाई थी। आरएसपी रबड़ फैक्ट्री व करोवन पोली प्राइवेट फैक्ट्री में आग की इसी वर्ष घटनाएं हो चुकी हैं। आरएसपी रबड़ फैक्ट्री में एक मजदूरी जिंदा जल गया था तो वहीं करोवन पोली में गैस रिसाव के वक्त 18 मजदूरों की जान बड़ी मुश्किल से बच पाई थी। यह फैक्टरी भी उसकी गली में ही है।

सुरक्षा उपकरण भी नहीं लगे : मजदूरों के पास सुरक्षा उपकरण नहीं है। न तो सेफ्टी जैकेट, न ही पैरों में जूते व सिर पर किसी प्रकार के खतरों से बचने के लिए हेलमेट। कंपनी के अंदर आग बुझाने के लिये पर्याप्त पानी का भंडार भी नहीं है।

X
सांपला में गद्दा फैक्ट्री में आग, 55 कर्मियों ने भागकर बचाई जान
Click to listen..