• Hindi News
  • Haryana News
  • Sampla
  • दरबार लगाने गांव पहुंचे अधिकारी, रात को ठहरे तो नहीं गई बिजली, ग्रामीण बोले-रोजाना आओ साहब
--Advertisement--

दरबार लगाने गांव पहुंचे अधिकारी, रात को ठहरे तो नहीं गई बिजली, ग्रामीण बोले-रोजाना आओ साहब

जिले के अधिकारी अपने दफ्तरों को छोड़कर जब गांव भैसरू कलां पहुंचे तो उन्हें ग्रामीणों की छोटी से छोटी समस्याएं भी...

Dainik Bhaskar

Apr 26, 2018, 03:45 AM IST
जिले के अधिकारी अपने दफ्तरों को छोड़कर जब गांव भैसरू कलां पहुंचे तो उन्हें ग्रामीणों की छोटी से छोटी समस्याएं भी नजर में आई। गांव में अवैध पानी के कनेक्शनों से बहते पानी को देखकर अधिकारियों ने जल संरक्षण अभियान चलाने की जरूरत को समझा। डीसी अजय कुमार बोले, बिना टूटी वाले नलों पर टूंटी लगाने और पाइप लाइनों के रिसाव को ठीक करने के लिए लोगों को प्रेरित किया जाएगा। खास बात तो रात की चौपाल में हुई। पूरे प्रशासनिक अमले को गांव में ही ठहरना था तो गांव में बिजली पूरी तरह सुचारू चलती रही। एक भी कट नहीं लगा। वहीं सांपला सब डिवीजन में ही लगते सांपला, समचाना, दताैड़, हसनगढ़, गिझी गांव में बिजली रोजाना की तरह कट मारती रही। ग्रामीणों ने हसनगढ़ फीडर के कंट्रोल रूम में फोन किया तो बोले, प्रशासन का रात्रि दरबार चल रहा है। इसलिए भैसरू में बिजली देना जरूरी है। वहीं भैसरू के लोगों ने रात भर बिजली पाकर अधिकारियों को धन्यवाद किया और बोले साब रोज आओ, ऐसा दरबार तो रोज लगाओ। जनता दरबार के दौरान ग्रामीण लगभग 70 लोगों ने अपनी समस्याएं प्रशासन के सामने रखी। प्रशासन ने कुछ शिकायतों का मौके पर ही समाधान किया और बाकी शिकायतों को संबंधित अधिकारियों को त्वरित समाधान के लिए सौंप दिया। गांव में बीपीएल कार्ड तथा नहरी पानी संबंधित शिकायतें की, जिस पर अतिरिक्त उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों को सभी शिकायतों का जल्द से जल्द निपटान कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए।

ये रही मुख्य समस्या

बिजली निगम ने हाल में 23 अप्रैल को इक्कीस अप्रैल के बिल बांटे गए। भुगतान की अंतिम तिथी नजदीक होने के चलते और बिलों में गलती होने के कारण लगभग आधे उपभोक्ता बिल अदा नहीं कर पाए। बिजली विभाग को बार बार शिकायत करने के बावजूद भी बिजली की तारे जो जर्जर हो चुकी है उनको नही बदला जा रहा है। गांव में लगभग सौ उपभोक्ता है जो ऐसी का प्रयोग कर रहे है लेकिन ग्रामीणों द्वारा शिकायत करने पर भी उनकी जांच नहीं की जा रही है और उनके बिलों का भुगतान किसी ना किसी रूप में ग्रामीणों के द्वारा लिया जा रहा है। भारत स्वच्छता अभियान के तहत वर्षे वर्ष 2015 के सर्वे के बीपीएल धारकों को भी आज तक मिलने वाला अनुदान आज तक नहीं मिला है। भारत स्वच्छ अभियान के अधिकारियों ने सरकार को गुमराह करते हुए सभी घरों में शौचालय बने हुए दिखा दिए लेकिन अभी भी तीस के लगभग परिवार ऐसे है जिनके पास शौचालय नहीं है।

सांपला. गांव भैंसरू कलां में समस्याएं सुनते हुए उपायुक्त अजय कुमार व नगराधीश महेंद्रपाल।

तीस साल से समस्या है

नहीं हो पाया निदान

समचाना के पास से छोटा रजवाहा है जिसको बने हुए लगभग तीस साल होने को है लेकिन आज तक न तो नहर पर पूर्ण रूप से पानी छोड़ा गया और न उसमें वैध रूप से मोघे लगे है। ग्रामीणों की मांग पर सिंचाई विभाग के अधिकारियों को हसनगढ़ माइनर का लेवल दुरूस्त करने, सफाई करने व लेवल जांचने के लिए जसराना माईनर के मोगा नम्बर-92 को ठीक करने के लिए किसानों के साथ मौके का मुआयना करके फिजिबलिटी रिपोर्ट तैयार कर प्रशासन को देने के निर्देश दिए। गांवों के सचिवालय पर सोलर प्लांट लगाया जाएगा व ग्रामीणों के लिए पार्क का निर्माण भी करवाया जाएगा। डीसी ने कहा कि गांव के पानी को साफकर थ्री पोंड सिस्टम के स्थान पर पांच पोंड सिस्टम में बदलने की कार्रवाई भी शीघ्र ही अमल में लाई जाएगी तथा पशुओं के लिए जोहड़ में स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो सके। डीसी ने कहा कि गांव में भूमिगत जल की जांच करवाई जाएगी।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..