• Home
  • Haryana News
  • Satnali
  • कल से सतनाली मंडी में भी होगी सरसों की खरीद, 8% से ज्यादा नमी स्वीकार नहीं होगी
--Advertisement--

कल से सतनाली मंडी में भी होगी सरसों की खरीद, 8% से ज्यादा नमी स्वीकार नहीं होगी

सतनाली में सरसों की खरीद का कार्य शुरू करने के लिए हैफेड अधिकारियों के बार-बार दौरे के बाद आखिरकार सतनाली की...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:45 AM IST
सतनाली में सरसों की खरीद का कार्य शुरू करने के लिए हैफेड अधिकारियों के बार-बार दौरे के बाद आखिरकार सतनाली की आनाजमंडी में सरसों खरीद कार्य शुरू करने का निर्णय लिया गया है। जानकारी के अनुसार 2 अप्रैल से हैफेड अधिकारी सतनाली मंडी में खंड के गांव बारड़ा व नांवा के किसानों की सरसों खरीद का कार्य शुरू करेंगे। बता दें कि 2 अप्रैल को पहली बार सतनाली अनाज मंडी में सरसों की खरीद प्रक्रिया शुरू की जाएगी। प्रक्रिया के तहत सतनाली के विभिन्न गांवों की सूची तैयार की गई है और सूची के अनुसार ही संबंधित गांवों के किसानों की सरसों खरीदी जाएगी।

ये रहेगा सरसों के भाव : हैफेड मैनेजर जगराम यादव ने बताया कि सरकार द्वारा सरसों के 3900 रुपए तथा 100 रुपए बोनस सहित कुल 4000 रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से निर्धारित किए गए है। उन्होंने बताया कि सतनाली खंड के गांवों की खरीद प्रक्रिया की लिस्ट जारी कर दी गई है और निर्धारित लिस्ट के अनुसार ही संबंधित गांवों के किसानों की ही सरसों खरीदी जाएगी। उन्होंने बताया कि एक किसान से 25 क्विंटल तक ही सरसों खरीदी जाएगी। अत: सूची के अनुसार ही किसान अपनी सरसों की फसल ले कर आए ताकि होने वाली अनावश्यक परेशानी से बचा जा सके। इसके अलावा अगर किसी किसान के पास भूमि अधिक होने के कारण सरसों की फसल 25 क्विंटल से ज्यादा है तो खंड के विभिन्न गांवों के पहले राउंड के बाद दूसरे राउंड में उनकी बची हुई सरसों की फसल विभागीय नियमों के अनुसार खरीदी जाएगी। उन्होंने बताया कि अनावश्यक परेशानी से बचने के लिए किसान पुरानी सरसों व तय मापदंडों के अनुसार 8 प्रतिशत से ज्यादा नमी वाली सरसों लेकर मंडी में न आए क्योंकि हैफेड द्वारा ज्यादा नमी व पुरानी सरसों की खरीद नहीं की जाएगी।

जनस्वास्थ्य मंत्री डाॅ. बनवारी लाल ने मंडी में स्वयं जांची सरसों की नमी

भास्कर न्यूज | नारनौल

जनस्वास्थ्य मंत्री डा.बनवारी लाल ने शनिवार नांगल चौधरी रोड स्थित नई अनाज मंडी में बनाए गए सरकारी खरीद केंद्र पर पहुंचकर सरसों की खरीद का जायजा लिया तथा हैफेड की मशीन से स्वयं कई ढेरियों पर जाकर सरसों की नमी की जांच की।

इस जांच के दौरान सभी ढेरियां सरकारी मापदंड पर खरी उतरी। मंत्री ने सरसों खरीद कार्य के दौरान किसानों को आ रही दिक्कतों बारे भी पूछा, लेकिन किसान उन्हें अपनी समस्या बताते इससे पहले ही उनके साथ मौजूद भाजपा पदाधिकारी उन्हें एक से दूसरी ढेरी की तरफ आगे बढ़ाते चले गए। ऐसे में मंत्री मात्र 10 से 15 मिनट में 20 से अधिक किसानों से मिलकर वापस मार्केट कमेटी कार्यालय आ गए। यहां उन्होंने हैफेड अधिकारियों को सरकारी मानदंडों पर खरी उतरने वाले सभी ढेरियों को बिना देरी के खरीदने के निर्देश दिए।

उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों को भी खरीद केंद्र पर निर्धारित समय तक बैठकर जमीनों की फर्द की नकल किसानों को तुरंत प्रभाव से उपलब्ध करवाएं। ताकि किसी किसान को अपनी सरसों बेचने में परेशानी ना हो। उन्होंने कहा कि जिन किसानों का शेड्यूल के अनुसार नंबर निकल चुका है, उन किसानों को भी राजस्व विभाग के अधिकारी गिरदावरी की रिपोर्ट उपलब्ध करवाएं। ताकि वे भी बिना किसी परेशानी के अपनी फसल बेच सकें। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने ही एक बार में एक किसान की 25 क्विंटल सरसों खरीदने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में इस शर्त में प्रदेश सरकार कोई बदलाव नहीं कर सकती। हां शेड्यूल के अनुसार दूसरी बारी में भी किसान की 25 क्विंटल सरसों खरीदी जाएगी। इस मौके पर एसडीएम जगदीश शर्मा, मार्केट कमेटी के चेयरमैन जेपी सैनी, भाजपा के जिला अध्यक्ष शिवकुमार महता, प्रदेश सचिव मनीष मित्तल, हैफेड के डीएम रामकुमार व मार्केटिंग सोसायटी के मैनेजर संजीव कुमार भी उपस्थित थे।

सरसों शेड्यूल के आने के 16 दिन बाद खरीद शुरू

मंडी अटेली | स्थानीय अनाज मंडी में शनिवार को सरसों की सरकारी खरीद प्रारंभ हो गई। हैफेड व मार्केट कमेटी के कर्मचारी मौके पर मंडी में पहुंचकर खरीद को शुरू करवाया। मार्केट कमेटी के चेयरमैन कर्मबीर बिहाली, हैफेड के स्थानीय प्रबंधक संतराम, अमरजीत सिंह सहायक, हैफेड के तकनीकी विशेषज्ञ डॉ. योगेश शेखावत ने खरीद की शुरुआत की। पहले दिन सरकारी खरीद एजेंसी हैफेड ने 42 क्विंटल सरसों खरीदी। मंडी में शनिवार को उनिंदा, गढ़ी रूथल व सागरपुर गांवों के किसानों की खरीद की बारी थी। हालांकि मंडी में 15 मार्च से खरीद के लिए शेड्यूल जारी कर दिया था। मंडी में इन दिनों सरसों की आवक शुरू हो गई। हैफेड प्रबंधक संतराम ने बताया कि एजेंसी ने सरसों की खरीद के लिए सोसायटी ने खरीद केंद्र बनाया हुआ है।

ये कागजात लाने होंगे साथ : यादव ने बताया कि सरसों बेचने के लिए किसान साथ में गिरदावर की कॉपी जो हल्का पटवारी द्वारा प्रमाणित हो जिसमें खाता नंबर के साथ यह दर्शाया हो कि किसान ने कितनी जमीन में सरसों की बुआई की थी। बैंक खाता नंबर की काॅपी के साथ आईएफसी कोड, निफ्ट कोड साथ लाएं ताकि अदायगी उनके खाते में भेजी जा सके। पहचान के लिए स्वयं सत्यापित किसान क्रेडिट कार्ड, राशन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड आदि अपने साथ लावें।

पूर्व संसदीय सचिव ने अनाज मंडी में किसानों की सुनीं समस्याएं

मंडी अटेली | पूर्व संसदीय सचिव अनिता यादव ने शनिवार मंडी का दौरा किया तथा सरकार से सरसों की सरकारी खरीद में बनाए कड़े नियमों को आसान करने की मांग की है। किसानों से मुलाकात के बाद पूर्व संसदीय सचिव ने कहा कि एक किसान की 25 एकड़ व प्रति एकड़ की साढ़े 6 क्विंटल की खरीद को खत्म कर किसान की बोई गई सारी सरसों की सरकार खरीदे। भाजपा सरकार तो अपने चुनाव से पूर्व घोषणा पत्र में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की बात कही थी लेकिन खरीद में भी नए-नए नियम लगाने पर किसानों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। भाजपा सरकार ने एक किसान की एकड़ की साढ़े 6 क्विंटल सरसों की सरकारी खरीद की शर्त को हटाने की मांग की है। इस मौके पर सुरेश प्रधान, पूर्व चेयरमैन संजय गोयल, अश्वनी कुमार, अजित प्रजापति, दिनेश माडू, सुरेंद्र सरपंच, हिम्मत सिंह, विकास तिगरा, नंदलाल मौजूद रहे।

सतनाली मंडी के इस हफ्ते का शेड्यूल : जगराम यादव हैफेड मैनेजर महेंद्रगढ़ ने बताया कि 7 अप्रैल तक की सरसों खरीद के लिए सतनाली खंड की सूची तैयार कर दी गई है।







प्रशासन के इंतजाम पूरा होने के दावे

अधूरी तैयारियों के बीच गेहूं खरीद की घोषणा

भास्कर न्यूज | महेंद्रगढ़/कनीना/ सतनाली

गेहूं की समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद 2 अप्रैल से होगी। अनाजमंडियों में होने वाली इस सरकारी खरीद के लिए महेंद्रगढ़ में खाद्य आपूर्ति विभाग को सरकारी एजेंसी बनाया गया है तो कनीना में खाद्य आपूर्ति विभाग व हैफेड मिलकर गेहूं की खरीद करेगी। सतनाली में खाद्य आपूर्ति विभाग की देखरेख में खरीद कार्य होगा। ये खरीद एजेंसियां अपनी तरफ से खरीद के पुख्ता इंतजाम के दावे कर रही है। जबकि जमीन स्तर पर हालत अलग है। अपनी फसल को मंडी में बेचने आने वाले किसानों के लिए मंडियों में कैसे इंतजामात है। इसका भास्कर टीम ने शनिवार दोपहर निरीक्षण किया।

महेंद्रगढ़ अनाज मंडी : महेंद्रगढ़ अनाज मंडी में गेहूं की खरीद के लिए शनिवार दोपहर तक खाद्य आपूर्ति विभाग की तरफ से या फिर यू कहें कि मार्केट कमेटी की ओर से कोई इंतजाम नहीं दिखे। मंडी के फड़ों पर धूल जमी हुई है। कूड़ा कर्कट चारों तरफ फैला हुआ है। नालियां गंदगियों से अटी हुई हैं। इसके अतिरिक्त मंडी में आने वाले किसानों के लिए ना ही तो कहीं कोई बैठने की व्यवस्था की दिखी और ना ही कहीं ठंडे पेयजल के लिए पुख्ता प्रबंधन। इस संबंध में जब मार्केट कमेटी के सचिव अशोक यादव से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि मंडी की साफ सफाई के लिए आदेश दिए जा चुके हैं। 2 अप्रैल से पहले मंडी में सफाई करा दी जाएगी।

सतनाली मंडी: सतनाली अनाज मंडी में गेहूं की सरकारी खरीद का कार्य दो अप्रैल से शुरू होना है। खरीद प्रक्रिया शुरू करने खाद्य आपूर्ति विभाग के अधिकारी रविवार को सतनाली मंडी का दौरा कर सकते हैं। बता दें कि प्रदेश सरकार द्वारा 2015-16 के रबी सीजन के दौरान सतनाली अनाज मंडी में गेहूं की सरकारी खरीद हेतु हैफेड का खरीद केन्द्र स्थापित करने का निर्णय लिया गया था जिसके तहत खाद्य आपूर्ति विभाग यहां पर गेहूं की सरकारी खरीद कर रहा है। खाद्य आपूर्ति विभाग के निरीक्षक ध्यान सिंह ने बताया कि सतनाली में 2 अप्रैल से गेहूं की खरीद के लिए विभाग की ओर से पूरी तैयारी है। इस बार सरकार 1735 रुपए प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद करेगी।

कनीना मंडी : कनीना अनाज मंडी में वेयर हाउस व हैफेड द्वारा गेहूं की खरीददारी की जाएगी। जानकारी देते हुए वेयर हाउस मैनेजर कृष्ण राव ने बताया कि सरकार द्वारा गेहूं की खरीदारी के आदेश आ चुके हैं। गेहूं की खरीद अनाज मंडी में की जाएगी पहले 3 दिन सोमवार बुधवार और शुक्रवार को वेयरहाउस द्वारा मंडी के आढ़तियों के मार्फत गेहूं की खरीदारी की जाएगी। इसके लिए ढाई लाख गेहूं भराई के लिए बैग आ चुके हैं, लेकिन खरीददारी शुरू होने में अभी चार-पांच दिन और लगेंगे, क्योंकि गेहूं अभी गीला आ रहा है। पूर्ण रूप से सूखने पर खरीददारी शुरू की जाएगी।