• Home
  • Haryana News
  • Shahbad
  • पहले भेजा 36 लाख का बिल, ठीक कराया, दोबारा 9 लाख का भेजा
--Advertisement--

पहले भेजा 36 लाख का बिल, ठीक कराया, दोबारा 9 लाख का भेजा

बिजली निगम की लापरवाही के किस्से अक्सर सामने आते हैं। खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है। ऐसे ही शहर वासी दिव्यांग...

Danik Bhaskar | Jun 22, 2018, 02:55 AM IST
बिजली निगम की लापरवाही के किस्से अक्सर सामने आते हैं। खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ता है। ऐसे ही शहर वासी दिव्यांग बिजली विभाग की लापरवाही के कारण मानसिक रूप से परेशान होकर बिजली बिल ठीक कराने को भटक रहा है। सुखविंद्र का बिजली का बिल कभी एक लाख और तो कभी 36 लाख भेज दिया जाता है।

36 लाख का बिल देख उड़े होश : सुखविंद्र ने बताया कि उसकी लाडवा रोड पर कुल्फी बनाने की छोटी सी फैक्टरी है। पहले उसका बिल 18 से 20 हजार रुपए भेजा जा रहा था, लेकिन फरवरी से मार्च 2018 तक उसका बिल लगभग 36 लाख रुपए भेज दिया। यह देख उसके भी होश उड़ गए। ठीक करने को गुहार लगाई। जिस पर निगम ने एडजेस्ट मेंट कर तीन लाख 50 हजार 301 रुपए का बिल भेज दिया। इसके बाद मार्च व अप्रैल में उसका बिल एक लाख रुपए भेज दिया, लेकिन जून में उसे 13 मार्च से 14 जून का बिल नौ लाख रुपए निगम ने भेजा। जबकि उसकी फर्म पर इतनी खपत ही नहीं होती। वह पिछले आठ माह से अपने बिल ठीक कराने के लिए बार-बार निगम कार्यालयों के चक्कर काट रहा है। इस दौरान वह लगभग ढाई लाख रुपए जमा भी करा चुका है, लेकिन उसका बकाया बिल लगभग 9 लाख रुपए दिखाया जा रहा है। इतने भारी भरकम बिल पर लेट फीस भी लग रही है। इसका खामियाजा भी उसे ही भुगतना होगा।