--Advertisement--

मोबाइल कॉल डिटेल से खुली थी पोल

मोबाइल कॉल डिटेल से खुली थी पोल मामले में सीआईए टू की टीम ने उक्त मैनेजर के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल खंगालने के...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 03:40 AM IST
मोबाइल कॉल डिटेल से खुली थी पोल

मामले में सीआईए टू की टीम ने उक्त मैनेजर के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल खंगालने के बाद कोलापुर बाबैन वासी अवतार सिंह व काहनगढ़ शाहाबाद वासी राजदीप को पकड़ा था। दोनों आरोपियों से पूछताछ के बाद वारदात का खुलासा हुआ था कि लूटपाट का यह पूरा ड्रामा खुद सहायक बैंक मैनेजर रविंद्र कुमार ने अपने साथियों के साथ मिलकर रचा था। पुलिस ने 26 दिसंबर 2016 को किरमिच वासी उक्त सहायक मैनेजर रविंद्र कुमार को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने लूटी गई राशि में से एक लाख 76 हजार रुपए, वारदात में प्रयोग की मोटरसाइकिल, नकली पिस्टल व मोबाइल फोन बरामद किया था। वहीं उक्त सहायक बैंक मैनेजर रविंद्र से एक लाख 98 हजार रुपए कार व मोबाइल फोन तीसरे आरोपी राजदीप से एक लाख 16 हजार व मोबाइल फोन बरामद किया था। मामला अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश गुरविंद्र कौर की कोर्ट में विचाराधीन था। न्यायाधीश कौर की कोर्ट ने तीनों को दोषी मानते हुए दस साल कैद व एक लाख रुपए प्रत्येक पर जुर्माना लगाया। जुर्माना अदा न करने पर एक साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी।