• Home
  • Haryana News
  • Sirsa
  • तोल में गड़बड़ी रोकने के लिए 10 सुपरवाइजरों की टीम गठित पहली बार अनियमितता पर 500 से 10 हजार का होगा जुर्माना
--Advertisement--

तोल में गड़बड़ी रोकने के लिए 10 सुपरवाइजरों की टीम गठित पहली बार अनियमितता पर 500 से 10 हजार का होगा जुर्माना

एक अप्रैल से गेहूं खरीद का सीजन शुरू हो गया है। हालांकि जिले में अभी तक गेहूं की कटाई शुरू नहीं हुई है। इसलिए मंडी...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 03:55 AM IST
एक अप्रैल से गेहूं खरीद का सीजन शुरू हो गया है। हालांकि जिले में अभी तक गेहूं की कटाई शुरू नहीं हुई है। इसलिए मंडी में गेहूं आने में अभी 10 दिन का समय और लग सकता है। इसलिए मार्केट कमेटी के अधिकारी मंडियों और खरीद केंद्रों पर व्यवस्था सुधारने में जुटे हुए हैं। सिरसा मंडी में पानी, बिजली और सफाई व्यवस्था को लेकर टेंडर दे रखा है। मंडी में वाटर कूलर की रिपेयरिंग वगैरह का कार्य जारी है। इसके अलावा मंडी में अतिक्रमण भी हटाने का कार्य शुरू हो गया है। वहीं गांव में बने खरीद केंद्रों पर भी साफ सफाई का कार्य शुरू कर दिया गया है। मार्केट कमेटी के अधिकारियों का कहना है कि अगले एक सप्ताह तक मंडी में तमाम सुविधाएं मिलेगी। कार्य तेजी से किया जा रहा है। गांव गुडियाखेड़ा में बने खरीद केंद्र का फर्श कच्चा होने कारण वहां पर घास फूस और झाडिय़ां उग गई थी। उसे भी ग्राम पंचायत अपने स्तर पर तैयार कर रही है। इसके अलावा मार्केट कमेटी ने सभी आढ़ती को नोटिस भिजवा दिया है। तोल में गड़बड़ी मिलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। जिसमें तोले और आढ़ती का लाइसेंस कैंसिल करने का भी प्रावधान रखा गया है। पहली बार में गड़बड़ी मिलने पर 500 रुपये से लेकर 10 हजार रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए सिरसा मार्केट कमेटी ने अपने 3 सुपरवाइजर के नेतृत्व में टीमें गठित की है। वहीं सभी मंडियों और खरीद केंद्र पर 10 सुपरवाइजरों की टीम निगरानी रखेगी। साथ ही मार्केट कमेटी सचिव भी अपने स्तर पर जांच करेंगे। अगर किसी किसान काे गेहूं की नमी को लेकर शिकायत है तो वे मार्केट कमेटी के कार्यालय के नमी मापक यंत्र से गेहूं की नमी चेक करवा सकता है। मार्केट कमेटी ने किसानों की समस्याओं को लेकर हेल्प लाइन नंबर 01666 -220613 भी जारी किया है। अगर किसी किसानों को गेहूं खरीद, तोल में समस्या रही है तो वह इस नंबर पर संपर्क करके अधिकारी बुला सकता है या फिर मार्केट कमेटी सचिव को शिकायत दर्ज करवा सकता है।

जिले में साढ़े 11 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य किया निर्धारित

सिरसा। गेहूं के सीजन की इंतजार में खाली पड़ी अनाज मंडी में खड़े ट्रक।

यह रहेगा खरीद एजेंसियों का शेड्यूल

सिरसा मंडी को जोन वाइज बांटने के बाद सप्ताह में तीन दिन यानि मंगलवार, गुरूवार और शनिवार को हैफेड गेहूं खरीदेगी। इसके अलावा शुक्रवार के दिन एफसीआई खरीद कर सकेगी। वहीं बुधवार को खाद्य आपूर्ति व सोमवार को हरियाणा वेयर हाउस गेहूं की खरीद करेगी। सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गांव गुड़ियाखेड़ा में भी खरीद केंद्र को मंजूरी मिली हुई है।

जिले में अच्छी आवक की जताई उम्मीद

इस बार जिले में 3 लाख हेक्टेयर के करीब गेहूं की फसल है। फसल अच्छी होने के कारण जिले में साढ़े 11 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आवक होने तक की उम्मीद जताई जा रही है। गत वर्ष भी लगभग इतने ही रकबे में गेहूं की फसल थी और 11 लाख मीट्रिक टन के करीब आवक रिकॉर्ड की गई थी। आवक की बात करें तो पिछले ढाई दशकों से सिरसा जिला प्रदेश में पहले स्थान पर है।

गेहूं सुखाकर ही मंडी में लाएं किसान, 12 प्रतिशत से अधिक नमी हुई तो नहीं होगी खरीद

गेहूं की खरीद के लिए सरकार ने पिछले वर्ष वाले ही नियम कायदे तय किए है। अगर किसान की गेहूं में 12 प्रतिशत से अधिक नमी होगी तो सरकारी खरीद नहीं की जाएगी। इसलिए किसान गेहूं सुखाकर ही लाए। मंडी में गेहूं आने के बाद पहले उसकी नमी नापी जाएगी। उसके बाद ही खरीद होगी। गेहूं का इस बार सरकारी रेट 1735 रुपये निर्धारित किया गया है।जिले में गेहूं खरीद के लिए 58 खरीद केंद्र बनाए गए हैं। यहां से चार खरीद एजेंसियां गेहूं खरीदेगी। जिनमें भारतीय खाद्य निगम, खाद्य आपूर्ति विभाग, हैफेड, हरियाणा वेयर हाउस, है। मगर इस बार हरियाणा एग्रो गेहूं नहीं खरीदेगी । गेहूं उठान में किसी प्रकार की देरी ना हो। इसके लिए भारतीय खाद्य निगम सुबह साढ़े 7 बजे से ही गोदाम खुले रखेगी।

तैयारियों में जुटी मार्केट कमेटी