Hindi News »Haryana »Sirsa» ई-वे बिल आज से लागू, अब ट्रेजरी में होगा पेपरलेस काम

ई-वे बिल आज से लागू, अब ट्रेजरी में होगा पेपरलेस काम

ई-वे बिल बुधवार मध्य रात्रि 12 बजे से लागू हो गया है। इस बिल के लागू होने से अब कोई बहाना नहीं चलेगा। सरकारी विभागों...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:30 PM IST

ई-वे बिल बुधवार मध्य रात्रि 12 बजे से लागू हो गया है। इस बिल के लागू होने से अब कोई बहाना नहीं चलेगा। सरकारी विभागों के क्लर्कों को अब चालान बिल पास कराने के लिए ट्रेजरी आफिस के बार-बार चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी। उधर, व्यापारियों और ट्रांसपोर्टरों को ऑनलाइन ही ई-वे बिल के बारे में जानकारी मुहैया करानी होगी। उप आबकारी एवं कराधान आयुक्त रविंद्र सिंह की ओर से साफ तौर से सभी ट्रांसपोर्टरों और व्यापारियों को ई-वे बिल लागू करने के निर्देश दिए जा चुके हैं। इतना ही इस बारे में बीते दिनों विभिन्न जगहों पर सेमिनार आयोजित कर ट्रांसपोर्टरों और व्यापारियों को जागरूक भी किया गया था लेकिन ज्यादातर व्यापारी अभी भी इस सिस्टम से अनभिज्ञ ही हैं जिसकी वजह से उनकी मुश्किलें और बढ़ेंगी।

बता दें, ई-वे बिल लागू होने से अब संबंधित विभाग के प्रमुख आफिस में बैठे ही डिजिटल हस्ताक्षर करने के बाद इन बिलों को ऑनलाइन ट्रेजरी कार्यालय में भेजेंगे। यहां से ट्रेजरार इसे वेरिफाई कर डिजिटल हस्ताक्षर करेगा और बैंक को ऑनलाइन ही भेज देगा। इस काम में कोई रुकावट न आए और अधिकारी कोई बहाना न बना सकें इसके लिए जिले के करीब 500 डीडी पॉवर वाले विभाग प्रमुखों को डोंगल भी दिए जाने की व्यवस्था की जा रही है। इसके साथ ही वित्त विभाग के एडीशनल चीफ सेक्रेटरी ने सभी संबंधित को पत्र जारी कर एक फरवरी से इस योजना को अनिवार्य रूप से अमल में लाने का सभी को आदेश दिया है। वैसे तो इस योजना को ट्रायल के तौर पर दो नवंबर व एक दिसंबर से दो चरणों में प्रारंभिक तौर पर शुरू किया गया था। इसमें यह देखा गया कि क्या परेशानियां आ रहीं हैं। इनका अब पूरी तरह से समाधान किए जाने का दावा किया जा रहा है। इसी के तहत अधिकारियों को डोंगल दिए जा रहे हैं ताकि वे इंटरनेट कनेक्टिविटी का बहाना न बना सकें। साथ ही आफिस से बाहर मीटिंग आदि में होने पर वहां से भी काम कर सकें और कोई बिल वेवजह न अटका रह सके।

सरकारी विभागों के क्लर्कों को अब चालान बिल पास कराने के लिए ट्रेजरी आॅफिस के बार-बार चक्कर लगाने की जरूरत नहीं रह जाएगी

योजना पर्यावरण के लिए लाभकारी

अभी जिला कोषागार (ट्रेजरी) में हर माह औसतन दो हजार बिल (चालान) विभिन्न विभागों से पहुंचते हैं। एक बिल में कम से कम तीन पन्ने लगते हैं। इस तरह से सिर्फ ट्रेजरी के काम में ही साढ़े सात हजार पेज जो खराब होते थे वे बचेंगे। इसके साथ ही सारा रिकार्ड कंप्यूटर में सुरक्षित रहने से अलग से आफिस रिकार्ड कॉपी के लिए प्रिंट लेने की भी जरूरत नहीं होगी। जब जरूरत हो पुराना रिकार्ड बगैर किसी परेशानी के कहीं पर भी बैठकर अधिकारी देख सकेगा।

नई व्यवस्था से यह होगा लाभ

नई व्यवस्था से पारदर्शिता बढ़ेगी। इसके साथ ऑनलाइन बिल जनरेट होने के बाद यदि भुगतान में देरी होती है तो आसानी से पता चल जाएगा कि आखिर रुकावट कहां पर है। अधिकारी की जिम्मेदारी भी तय हो सकेगी। इसके साथ ही समय और धन की भी बचत होगी। कर्मचारियों को बिल का स्टेटस जांचने के लिए ट्रेजरी आफिस नहीं आना होगा। इसलिए विभाग का इन पर खर्च होने वाला टीए-डीए भी बचेगा।

ई-वे बिल सिस्टम से पेपरलेस काम होगा

ई वे बिल सिस्टम लागू हो चुका है और इस सिस्टम से पेपरलेस काम होगा। एक फरवरी से सभी के लिए ई-वे बिल अनिवार्य कर दिया गया है। इस संबंध में सरकार से आदेश आ गए हैं। अब ट्रेजरी में कोई भी मैनुअल बिल व चालान स्वीकार नहीं किया जाएगा। इस व्यवस्था से ट्रांसपेरेंसी आएगी और काम करना भी आसान होगा। -संतोष कुमार बिश्नोई, जिला कोषाधिकारी, सिरसा।

सरकार कठाेर कदम न उठाए

ई-वे बिल लागू होने से ज्यादातर व्यापारियों और ट्रांसपोर्टरों की मुश्किलों में और इजाफा हो गया है क्योंकि ज्यादातर व्यापारी और ट्रांसपोर्टर इस सिस्टम के बारे में कोई जानकारी ही नहीं है और उनके पास न लैपटॉप है और न ही कंप्यूटर है। तकनीकी रूप से वे अनभिज्ञ हैं। इसलिए सरकार को ई-वे बिल को कठोरता से लागू नहीं करना चाहिए। इसका सरलीकरण करना चाहिए अन्यथा व्यापारियों में रोष पनपेगा। -हीरा लाल शर्मा, जिलाध्यक्ष, हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल, सिरसा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sirsa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×