उच्च रक्तचाप दिवस पर आयोजित कैंप में 115 ने करवाई बीपी की जांच, 17 लोग मिले ग्रस्त

Sirsa News - स्वास्थ्य विभाग की ओर से विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर एनपीसीडीसीएस कार्यक्रम के तहत नागरिक अस्पताल में रक्तचाप...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:41 AM IST
Sirsa News - haryana news 115 examinations conducted on campus on hypertension day 17 people were examined by bp
स्वास्थ्य विभाग की ओर से विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर एनपीसीडीसीएस कार्यक्रम के तहत नागरिक अस्पताल में रक्तचाप जांच कैंप लगाया गया। जिसका शुभारंभ सिविल सर्जन डाॅ. गोबिंद गुप्ता ने किया। कैंप में 115 लोगों के रक्तचाप की जांच की गई।

जिसमें 17 लोग संभावित उच्च रक्तचाप से ग्रस्त पाए गए। सिविल सर्जन ने बताया कि उच्च रक्तचाप दिवस जागरूकता लाने के उद्देश्य से मनाया जाता है। जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर बीपी जांच कैंप आयोजित किये गए हैं। उन्होंने बताया कि ऐसे लोग जिनका वजन अधिक है, धुम्रपान व शराब का सेवन करते हैं, शारीरिक निष्क्रियता, मानसिक तनाव, ज्यादा नमक का सेवन आदि से उच्च रक्तचाप होने का जोखिम अधिक होता है। उच्च रक्तचाप से बचने के लिए मनुष्य को प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए और नशीले पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

सिरसा। विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर स्वास्थ्य विभाग की तरफ से एनपीसीडीसीएस कार्यक्रम के तहत सम्मानित हुई नर्सिंग छात्राएं।

गोष्ठी व प्रतियोगिता में विजेताओं को सीएमओ ने किया सम्मानित

नागरिक अस्पताल के राजकीय एएनएम प्रशिक्षण विद्यालय में गोष्ठी व प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। उप सिविल सर्जन एनएचएम डाॅ. विरेश भूषण ने बताया कि सही जीवन शैली अपनाकर हम स्वास्थ रह सकते हैं। उप सिविल सर्जन एनसीडी डाॅ. आशा जिंदल बताती हैं कि बार-बार या जरूरत से अधिक खाना भी उच्च रक्तचाप का कारण हो सकता है। आयुष विभाग से डाॅ. उमेश सहगल ने उच्च रक्तचाप आयुर्वेद के जरिये रोकथाम व बचाव हेतु उपाय भी बताये। खेल प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया। प्रतियोगिता में विजेता रही छात्राओं को सिविल सर्जन ने पुरस्कृत किया। इस मौके पर प्राचार्या उर्मिल, एनसीडी स्टाफ, नरेश कुमार कंसलटेंट आदि मौजूद रहे।

बीपी का नियमित रूप से जांच करवाने का दिया परामर्श

सिरसा | चिकित्सक डॉ. अजय पूनिया, डॉ. सुरेश बिश्नोई और डॉ. विश्वनाथ ने उच्च रक्तचाप को मूक प्राणघातक रोग बताया और इससे बचने के लिए नियमित रूप से चिकित्सक से जांच कराने का परामर्श दिया।

वे शुक्रवार को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस पर भारत की दवा निर्मात्री कंपनी सिपला की ओर से आयोजित कराई पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे। डॉ. अजय पूनिया ने इस अवसर पर कहा कि अनियंत्रित उच्च रक्तचाप खतरनाक है क्योंकि यह विभिन्न महत्वपूर्ण अंगों जैसे हृदय, गुर्दे या मस्तिष्क को क्षतिग्रस्त कर रोगी के प्राण भी ले सकता है। उन्होंने बताया कि दुनियाभर में दिल और रक्त वाहिका संबंधी रोगों के लिए प्रमुख जोखिम कारक उच्च रक्तचाप है और यह प्रतिवर्ष कम से कम 76 लाख लोगों की मृत्यु का कारण बनता है।

X
Sirsa News - haryana news 115 examinations conducted on campus on hypertension day 17 people were examined by bp
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना