• Hindi News
  • Rajya
  • Haryana
  • Sirsa
  • Sirsa News haryana news in the afternoon drinking this water from this pot was spoiled due to savitri39s health if the house was noticed two lives would have survived

दोपहर में इसी मटके का पानी पीने से बिगड़ी थी सावित्री की तबीयत, घर वाले गौर करते तो बच जातीं दो जान

Sirsa News - जिले के गांव कुसुंबी स्थित ढाणी में घड़े का जहरीला पानी पीने से हुई दो की मौत मामले में पुलिस ने बेशक जांच शुरू कर दी...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:31 AM IST
Sirsa News - haryana news in the afternoon drinking this water from this pot was spoiled due to savitri39s health if the house was noticed two lives would have survived
जिले के गांव कुसुंबी स्थित ढाणी में घड़े का जहरीला पानी पीने से हुई दो की मौत मामले में पुलिस ने बेशक जांच शुरू कर दी है। लेकिन यह गुत्थी सुलझती नजर नहीं आ रही। पुलिस ने पानी आैर घड़े को कब्जे में लेकर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है। शुरुआती जांच में पता चला है कि एक वर्ष पुराने घड़े होने के कारण हादसा हुआ क्योंकि एक वर्ष से इन घड़ों को कपास के ढेर में संभालकर रखा था।

पुलिस और फोरेंसिक टीम ने मंगलवार को गांव में जाकर हादसे से संबंधित सुराग के लिए जानकारी जुटाने की कोशिश की। इस दौरान परिवार के सदस्यों ने बताया कि करीब एक वर्ष से तीन घड़े कपास में संभालकर रखे थे। दो दिन पहले ही यानी शनिवार को तीनों घड़ों को धोकर उनमें पीने के लिए पानी भरा था। शनिवार और रविवार को प्रयोग होने के कारण पहले दो घड़ों का पानी खाली हो गया। सोमवार को दोपहर के समय तीसरे घड़े की बारी आई। बताया जा रहा है कि दोपहर के बाद सबसे पहले परिवार के मुखिया बहादुर की प|ी सावित्री ने पानी पिया तो तबीयत बिगड़ी। लेकिन सावित्री ने गांव से ही दवा ले ली अौर ठीक भी हो गई। इसके बाद शाम करीब 6 बजे खेत पड़ोसी राजकुमार प्यास लगने पर बहादुर के पास आया और पानी मांगा। इस पर बहादुर और राजकुमार दोनों ने पानी पिया। इसी दौरान बहादुर के बेटे सुशील, बहू सुनीता आैर बच्चों मनदीप व कंचन ने भी पानी पी लिया। पानी पीते ही इन सभी को उल्टी दस्त लग गए और तबीयत ज्यादा बिगड़ी तो तुरंत शहर के अस्पताल लाया गया। लेकिन बहादुर और राजकुमार की मौत हो गई। अन्यों का शहर के निजी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

कुसुंबी में खेत की ढाणी में रखा घड़ा जिसका पानी पीने से दो की हुई मौत और चार अन्यों की हालत बिगड़ गई।

पिछले साल कपास में दबा कर रखे थे मटके, अब निकाल कर भरा था पानी

पुलिस और फॉरेंसिक टीम विभिन्न एंगल से जांच में जुट गई है। लेकिन सबसे अहम दो बात हंै जिस पर गौर किया जा रहा है। इसलिए दोनों ही एंगल को महत्वपूर्ण मानकर पुलिस चल रही है।

एक्सपर्ट व्यू: जहर का अंदेशा हो तो उल्टी करवाएं

शहर के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. अजय पूनिया बताते हैं कि यदि किसी की हालत बिगड़े और अंदेशा यह हो कि जहर का प्रभाव है तो सबसे पहले कोशिश यह करनी चाहिए कि उसके मुंह में उंगली डालकर उल्टी करवाई जाए। ताकि जहर का प्रभाव कम हो। साथ ही उन्होंने कहा कि पानी पीने पर लगे कि तबीयत बिगड़ रही है तो तुरंत उस पानी को उपयोग से दूर कर देना चाहिए ताकि अन्य लोग उसका प्रयोग ना करें।

1. घड़े पर जहरीले जानवर का प्रभाव: जांच अधिकारी कुलदीप कुमार ने कहा कि शुरुआती जांच में पता चला है कि परिवार के सदस्यों ने पिछले वर्ष तीन घड़े कपास में संभालकर रखे थे। घटना के अब दो दिन पहले ही तीनों घड़ों को धोकर पीने के लिए पानी भर दिया था। अंदेशा है कि इस घड़े में कोई जहरीला जानवर बैठा हो, जिसकी जहरीली लार या अन्य कारण से जहर घड़े में छूट गया। जब घड़े को पानी से धोया तो वह जहर पूरे घड़े में फैल गया और यह हादसा हुआ।

खेतों में काम करने वाले रखें सावधानी ताकि इस प्रकार के हादसों से बचा जा सके







2. घड़े पर स्प्रे का प्रभाव: गांव के सरपंच रोहताश पंथनिया नं बताया कि जिस जगह पर कपास में घड़े रखे गए थे, कमरे में उसी जगह स्लैब के पास कुछ दिन पूर्व स्प्रे की बोतल भी खूंटी पर टंगी थी। संभावना यह भी है कि स्प्रे की बोतल लीक हुई हो जिसमें से बूंद-बूंद कर कीटनाशक की दवा घड़े के ऊपर या भीतर गिरकर सूख गई हो। जब घड़ा धोया तो वह कीटनाशक घड़े के पानी में घुल गया और यह हादसा हुआ।

संभावित कारण

जांच शुरू कर दी है: थाना प्रभारी


X
Sirsa News - haryana news in the afternoon drinking this water from this pot was spoiled due to savitri39s health if the house was noticed two lives would have survived
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना