बिना जिगजैग तकनीक के चल रहे 9 ईंट भट्ठों के लाइसेंस किए रद

Sirsa News - एनजीटी के आदेश के बावजूद भी जिगजैग तकनीक नहीं अपनाने वाले ईंट भट्ठा संचालकों के खिलाफ डीसी प्रभजोत सिंह ने एक्शन...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:41 AM IST
Sirsa News - haryana news licensed nine brick kilns running without jiggags technology
एनजीटी के आदेश के बावजूद भी जिगजैग तकनीक नहीं अपनाने वाले ईंट भट्ठा संचालकों के खिलाफ डीसी प्रभजोत सिंह ने एक्शन लेना शुरू कर दिया है। शुक्रवार को डीसी ने 9 ईंट भट्ठा के लाइसेंस रद्द करने के आदेश दिए। वहीं अवैध रूप से चल रहे एक ईंट भट्ठा संचालक के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए पुलिस को पत्र लिखा है। डीएफएससी अशोक बंसल ने बताया कि वे खुद जिला के कई स्थानों पर औचक निरीक्षण करके आए थे। इस दौरान उन्हें 10 ईंट भट्ठे चलते मिले। चैक किया तो उनके पास जिगजैग तकनीक का प्रयोग नहीं था। इसकी रिपोर्ट डीसी को सौंपी गई। जिस पर डीसी ने संज्ञान लेते हुए कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए। इसी आधार पर लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं। वहीं शिव बीकेओ ढूढियांवाली के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश जारी किए गए हैं। इस भट्ठे का लाइसेंस पहले ही कैंसिल हो चुका था। उसके बाद भी यह भट्ठा चल रहा था।

इन भट्ठों के हुए लाइसेंस रद्द


यह होता है जिगजैग तकनीक में

भट्ठों में आमतौर पर ईंट पकाने के लिए छल्लियों में सीधी हवा दी जाती है। जिगजैग में टेढ़ी-मेढ़ी लाइन बनाकर हवा दी जाती है। इससे ईंधन कम लगता है। वैसे एक लाख ईंट पकाने में 26 टन कोयला खर्च होता है, जबकि इस तकनीक में 16 टन का ही खर्च है। जिगजैग तकनीक में ईंटों की गुणवत्ता अच्छी रहती है। साधारण विधि का इस्तेमाल करने पर भट्ठे में करीब 50 फीसद ईंट अव्वल निकलती हैं। इस तकनीक में 90 फीसद अव्वल ईंट होती हैं। इस तकनीक में कोयले की कम खपत होने से प्रदूषण भी कम होगा।

X
Sirsa News - haryana news licensed nine brick kilns running without jiggags technology
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना