सिरसा

  • Home
  • Haryana News
  • Sirsa
  • खरीद न होने पर किसानों ने किया हाईवे जाम उठान धीमा होने पर धरने पर बैठे आढ़ती
--Advertisement--

खरीद न होने पर किसानों ने किया हाईवे जाम उठान धीमा होने पर धरने पर बैठे आढ़ती

किसान की ओर से 6 महीने तक खून पसीना एक करके पकाई गई सरसों और गेहूं की फसल मंडी में आकर प्रशासन की अव्यवस्था का शिकार...

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:20 AM IST
किसान की ओर से 6 महीने तक खून पसीना एक करके पकाई गई सरसों और गेहूं की फसल मंडी में आकर प्रशासन की अव्यवस्था का शिकार हो रही है। मंडी में फसल बेचने में किसान को किसी प्रकार की समस्या नहीं होने की हुंकार भरने वाली सरकार के तमाम दावे जिला में फेल नजर आ रहे हैं। सोमवार को मंडी में गेहूं और सरसों लेकर पहुंचे किसानों की हालत यह हो गई कि उन्हें अपनी फसल बेचने के लिए नेशनल हाइवे को जाम करना पड़ा। सुबह 11 बजे से लेकर साढ़े 11 बजे तक किसानों ने डबवाली रोड पर आड़े तिरछे ट्रैक्टर ट्राली खड़े करके किसानों ने सरकार और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

किसानों ने आरोप लगाया कि वे दो दो हजार रुपये में ट्रैक्टर ट्राली किराये पर लेकर सरसों की फसल बेचने मंडी में आए हुए हैं। उनकी फसल कोई खरीदने को तैयार नहीं है। उनकी गेहूं की फसल खेत में पड़ी है। इधर वे सरसों बेचने के लिए तरस रहे हैं, ऊपर से मौसम खराब है। उसके बावजूद भी हैफेड अधिकारी उनकी परेशानी समझने को तैयार नहीं है। किसानों की ओर से रोड़ बंद करने पर नेशनल हाइवे पर लंबा जाम लग गया। सूचना पाकर सिटी एसएचओ अमित बैनीवाल मौके पर पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे। उन्होंने किसानों की समस्या को समझा और तुरंत हैफेड के अधिकारियों से समस्या का निपटान करने की बात कही। सिटी एसएचओ के आश्वासन पर किसानों ने जाम खोल दिया। उसके बाद मार्केट कमेटी के अधिकारी और हैफेड के डीएम मौके पर पहुंचे और किसानों की समस्या का निदान किया।

सिरसा। अनाज मंडी में सरसों की खरीद न होने पर सरकार के खिलाफ डबवाली रोड पर जाम लगाए प्रदर्शनकारी किसानों को जाम खोलने के लिए समझाते एसएचओ अमित कुमार।

सिरसा मंडी में गेहूं की आवक तेज हुई तो धीमा पड़ गया उठान

सिरसा मंडी में गेहूं की आवक तेज हो गई है। मगर गेहूं का उठान नाममात्र का है। इसलिए सोमवार को आढ़तियों ने ठेकेदार और प्रशासन के खिलाफ रोष जताते हुए मार्केट कमेटी के आगे धरना लगा दिया। धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता करते हुए एसोसिएशन के प्रधान सुरेंद्र मिंचनाबादी ने कहा कि गेहूं उठान के ठेकेदार हरमेश सिंह न केवल बार-बार असक्षम साबित हो रहा है अपितु आढ़तियों के साथ अभद्र भाषा और अशोभनीय व्यवहार कर रहा है। एसोसिएशन ने अनेक बार प्रशासनिक अधिकारियों से मांग की है कि इस ठेकेदार को अयोग्य घोषित किया जाए और किसी अन्य व्यक्ति को ठेका देकर काम में गति लाई जाए। मिंचनाबादी ने कहा कि तीन दिन में 60 हजार बैग का उठान हुआ है जिसमें से 15 हजार बैग आढ़तियों ने स्वयं अपने प्रयासों से उठान करवाया है। यहां बता दें कि अब तक जिला में गेहूं की कुल खरीद 14 लाख 37 हजार 420 क्विंटल हुई है जिसमें से उठान केवल 4 लाख 18 हजार 487 क्विंटल का ही हुआ है। जिला में अभी 10 लाख 18 हजार 933 क्विंटल गेहूं का उठान बाकी है।

सिरसा मंडी का हाल
अनाज मंडी में गेहंू का उठान न होने व ठेकेदार की मनमानी के खिलाफ प्रदर्शन करते आढ़ती।

सड़कों पर लगी ढेरियां, किसानों को नहीं मिल रही गेहूं डालने की जगह

मंडी में किसान को गेहूं उतारने के लिए जगह नहीं है चारों तरफ जाम लगा हुआ है पैदल आवागमन में भी परेशानी हो रही है। प्रधान मिंचनाबादी ने कहा कि ठेकेदार ने पिछली बार भी परेशान किया था और प्रशासन से गुहार लगाई गई थी कि इस ठेकेदार को भविष्य में ठेका न दिया जाए लेकिन प्रशासन ने उनकी एक नहीं सुनी और इस बार फिर उसे ठेका देकर आढ़तियों व मंडी को अपने हाल पर छोड़ दिया है। सूचना पाकर चेयरमैन हनुमान कुंडू व डीएफएससी अशोक बंसल मौके पर पहुंचे। उन्होंने उठान करवाने का आश्वासन देकर धरना खत्म करवाया।

चार गांवों के किसान सुबह 5 बजे लगे लाइन में , 11 बजे तक नहीं हुआ तोल

चार गांव के लिए सरसों बेचने का दिन सोमवार तय किया गया था। इस पर सुबह 5 बजे ही किसान सरसों की ट्रैक्टर ट्राली लेकर मंडी में पहुंचने लगे। मंडी में जगह का अभाव बताकर सरकारी दुकान के अधिकारियों ने डबवाली रोड स्थित हैफेड के गोदाम के पास ट्रैक्टर ट्रालियां लगवा दी। किसान सरसों तुलने का इंतजार करने लगे, मगर 11 बजे तक कोई तोल नहीं हुआ। इसके बाद गांव पन्नीवाला मोटा, साहूवाला प्रथम, बरूवाली द्वितीय और भरोखां के किसान आक्रोश में आ गए। उन्होंने अपने ट्रैक्टर ट्राली रोड पर ही आड़े तिरछे खड़े कर दिए। मौके पर हैफेड डीएम संदीप पूनिया, मार्केट कमेटी के डीएमईओ धर्मपाल भांभू मौके पर पहुंचे। उन्होंने वहीं स्थित हैफेड के गोदाम में 12 बजे सरसों का तोल शुरू करवाया। उसके बाद किसानों ने बारी बारी अपनी सरसों तुलवाना शुरू किया। हैफेड डीएम ने कहा कि मंडी में गेहूं की वजह से स्पेस नहीं रहा है। पर किसान इस बात को मानने को तैयार नहीं हुए।

Click to listen..