• Home
  • Haryana News
  • Sirsa
  • कर्मचारियों ने सीएम के नाम सिटीएम को सौंपा ज्ञापन
--Advertisement--

कर्मचारियों ने सीएम के नाम सिटीएम को सौंपा ज्ञापन

नगर परिषद के हड़ताली कर्मचारियों ने बेमियादी हड़ताल जारी करने का निर्णय लेते हुए शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर शहरी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 02:55 AM IST
नगर परिषद के हड़ताली कर्मचारियों ने बेमियादी हड़ताल जारी करने का निर्णय लेते हुए शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन का पुतला फूंक कर रोष जताने का फैसला लिया है। यह निर्णय रोहतक में नगरपालिका संघ के केंद्रीय कर्मचारी नेताओं की मीटिंग में लिया गया।

मीटिंग अटैंड कर शाम को वापस सिरसा आए नगरपालिका कर्मचारी संघ सिरसा के जिला प्रधान चंद्रशेखर ने बताया कि नगरपालिका कर्मचारी संघ के प्रदेशाध्यक्ष नरेश शास्त्री की अध्यक्षता में मीटिंग हुई। मीटिंग के दौरान पूरे प्रदेश के जिलों से आए नगरपालिका कर्मचारी नेताओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। मीटिंग में मांगों को लेकर गहन चिंतन मनन किया गया और सभी मांगों को जायज भी करार दिया। इसके साथ ही यह निर्णय भी सर्वसम्मति से लिया कि सफाई कर्मचारियों की काम छोड़ हड़ताल पूरे प्रदेश में जारी है लेकिन सरकार की ओर से किसी भी प्रतिनिधि ने हड़ताली कर्मचारियों से सही तरीके से बात करने की जहमत तक भी नहीं की है। इससे साफ है कि सरकार नगर पालिका के हड़ताली कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी कर रही है। इसलिए हड़ताल तब तक जारी रखी जाएगी जब तक मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा।

हड़ताली सफाई कर्मचारी मांगें पूरी न होने पर आज फूंकेंगे शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन का पुतला

सिरसा। नगरपरिषद के कर्मचारी कांग्रेस नेता भूपेश मेहता को मांग पत्र सौंपते हुए।

कांग्रेस नेता भूपेश मेहता ने दिया कर्मचारियों को समर्थन

हड़ताली सफाई कर्मचारियों को समर्थन देने के लिए वरिष्ठ कांग्रेस नेता भूपेश मेहता भी धरनास्थल पर आए। उन्होंने कहा कि सफाई कर्मचारियों की मांगें जायज हैं और सरकार को सभी मांगों को जल्द पूरा करना चाहिए ताकि हड़ताल खत्म हो और शहर फिर से साफ-सुथरा लगने लगे। हड़ताल की वजह से पूरे शहर में गंदगी बिखरी हुई है जिससे बीमारियां फैलने की आशंका भी हो गई है। इस मौके पर ओपी वधवा, ओपी एंथोनी, रामर| इंदौरा, अशोक पोपली, प्रदीप बाजेकां, गुरदेव कंबोज, सुमित मेघवाल, वेद कुसुंबी, मंगत चामल मौजूद थे।