Hindi News »Haryana »Sohna» सीएम सरकारी प्रोग्रामों में बिजी रहे, शहीद के गांव से महज 50 किमी दूर शादी में गए पर उसकी मां को ढांढस बंधाने का वक्त नहीं मिला

सीएम सरकारी प्रोग्रामों में बिजी रहे, शहीद के गांव से महज 50 किमी दूर शादी में गए पर उसकी मां को ढांढस बंधाने का वक्त नहीं मिला

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में पाक की ओर से किए गए एंटी टैंक मिसाइल हमले में शहीद कैप्टन कपिल कुंडू के गांव रणसिका में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 07, 2018, 02:05 AM IST

सीएम सरकारी प्रोग्रामों में बिजी रहे, शहीद के गांव से महज 50 किमी दूर शादी में गए पर उसकी मां को ढांढस बंधाने का वक्त नहीं मिला
जम्मू-कश्मीर के राजौरी में पाक की ओर से किए गए एंटी टैंक मिसाइल हमले में शहीद कैप्टन कपिल कुंडू के गांव रणसिका में मातम का माहौल हैं। जहां 11 दिसंबर 2016 को गांव के लोगों ने शहीद कैप्टन कपिल कुंडू के लेफ्टिनेंट बनने पर गांव आने पर बैंड बाजों से स्वागत किया था, वहीं गांव वालों ने 5 फरवरी 2018 को नम आंखों से विदाई दी। नायक की विदाई पर जहां आदमी की आंखें नम थी, वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री अपने काम में व्यस्त थे। यहां तक के जिले में रहने वाले मंत्री व विधायक भी अपने कामों में व्यस्त होने की वजह से दोपहर बाद शहीद के घर पहुंचे। अपने-अपने कामों में व्यस्त थे। यही वजह से बीते सोमवार को दोपहर तक न कोई मंत्री परिजनों का हाल-चाल पूछने के लिए पहुंचा और न कोई विधायक। दोपहर अपने काम से समय निकाल कर जो पहुंचे भी वह भी अधिक समय नहीं दे पाए। सरकार के इस रवैये को लेकर परिजनों से लेकर गांव के प्रत्येक सदस्यों में रोष हैं। सीएम का पक्ष जानने उनके पीए से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन खबर लिखे जाने तक उनसे संपर्क नहीं हो सका। उनके मीडिया एडवाइजर अमित आर्या से जब पूछा गया कि सीएम मनोहर लाल कब शहीद के परिजनों से मिलने जाएंगे तो उन्होंने कहा कि मैं अभी सीएम हाऊस से बाहर हूं। पूछकर बताता हूं। इसके बाद न तो उन्होंने फोन उठाना और न ही उनका फोन आया ।

साइबर सिटी में रहने वाले मंत्री व विधायक भी कामों में व्यस्त होने से दोपहर बाद शहीद के घर पहुंचे

गुड़गांव. शहीद कैप्टन कपिल कूंडू द्वारा व्हाट्स एप की गई फोटो को देखकर अपने बेटे की यादों में खोईं शहीद कैप्टन कपिल कूंडू की मां सुनीता।

…और रो दी बहन सोनिया

सोनिया से पूछे सवाल पर की सरकार की तरफ से कौन आया तो रो कर बोली …. सरकार को किस की चिंता.. मेरे भाई ने तो हरियाणा का नाम रोशन कर दिया है, लेकिन हरियाणा के सीएम के पास हरियाणा के नाम रोशन करने वाले शहीद के परिजनों का हाल-चाल पूछने तक का समय भी नहीं…. अभी तक तो श्रीनगर, कलकत्ता से भाई के दोस्त परिजन सब पहुंच गए हैं, क्या बोलूं मैं… मेरा भाई तो शहीद हो गया.. हरियाणा का नाम कर गया … वहीं चचेरे भाई संदीप कहते हैं कि छोटे भाई को शहीद हुए दो दिन हो गए हैं, लेकिन हरियाणा के सीएम के पास गांव में आकर परिजनों से मिलने का समय नहीं हैं।

5 फरवरी को यह था हरियाणा के सीएम का टूर प्लान

सोमवार सुबह हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल सुबह से ही व्यस्त थे। इन शिड्यूल के अनुसार वह दोपहर बाद गुडगांव के साथ लगते फरीदाबाद में थे। ऐसे में यदि वह चाहते तो समय निकाल कर शहीद के परिजनों से मिलने जा सकते थे। बीते सोमवार को सीएम सुबह कैनाल रेस्ट हाउस से सुबह 8.40 से रवाना होने के बाद 9 बजे पुलिस ट्रेनिंग कॉलेज में नई भर्तियों को संबोधित करने के लिए पहुंचे। इसके बाद हेलीपैड से 10.30 बजे पीटीसी सुनारिया से रवाना हुए और 10.50 पर जींद के गांव पहुंचे। इसके बाद सड़क से 11 बजे सोनीपत के निजामपुर स्थित राजकीय मिडल स्कूल पहुंचे किसी कार्यक्रम के लिए पहुंचे। 12 बजे चॉपर से जींद के गांव लुदाना रवाना हुए और सोनीपत के राधा स्वामी सत्संग भवन में 12.15 पर उतरे और 12.20 पर सड़क से एक साइट की विजिट के लिए पहुंचे। 12.30 पर सोनीपत के राधा स्वामी सत्संग भवन से चले और उसके बाद फरीदाबाद पहुंचे।

सीएम फरीदाबाद आकर लौट गए

बल्लभगढ़ के विधायक मूलचंद की बेटी की शादी में कन्यादान करने के लिए सीएम सोमवार को फरीदाबाद के गांव सीकरी आए थे। यहां उन्हें एक बजे आना था, लेकिन दो बजे पहुंचे। शादी से निकलने के बाद सर्किट हाउस में पदाधिकारियों के साथ औपचारिक मुलाकात की थी। 3 बजे चॉपर से वापस 4.15 पर राजेंद्र पार्क हेलीपेड, चंडीगढ़ पहुंचे।

सीएम को सबसे पहले पहुंचना चाहिए था : तंवर

सीएम को सुविधाओं के कमी नहीं है वह जब चाहे चॉपर के सहारे पहुंच सकते हैं। हरियाणा का नाम रोशन करने वाले शहीद परिवार को इस समय राज्य के मुख्य यानि की सीएम की बेहद जरूरत थी। उन्हें सबसे पहले पहुंचना चाहिए था। यहां कहा जा सकता है कि संवेदनशीलता की कमी है। न केवल सीएम बल्कि एमपी एमएलए को प्राथमिकता से परिजनों से मिलने पहुंचना चाहिए था। -अशोक तंवर, हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष

शहीद कैप्टन कपिल कुंडू के परिवार को जो क्षति हुई उसकी आपूर्ति नहीं हो सकती। सरकार के नेताओं को परिजनों से मिलने के लिए न केवल सबसे पहले पहुंचना चाहिए था, बल्कि परिजन की हर तरह से संभव मदद करनी चाहिए। -गोपीचंद गहलोत, पूर्व डिप्टी स्पीकर, हरियाणा विधान सभा

शाम को गए पीडब्ल्यूडी मंत्री

सोमवार को पहुंचा था, लेकिन थोड़ा लेट हो गया। मेरे इकलौते बेटे की सगाई थी, जो पहले से ही तय थी। शहीद कैप्टन कपिल कुंडू के परिवार के लिए जो भी संभव हो पाएगा उसके लिए सीएम से बात करूंगा। -राव नरबीर सिंह, पीडब्ल्यूडी मंत्री

शादी में थे सोहना विधायक

सोमवार को पलवल एक शादी में गए थे। जब पता चला तो दूर होने की वजह से निकल नहीं पाएं। फिर पता चला कि मंगलवार को अंतिम संस्कार होगा, लेकिन देर रात कर दिया गया। आज कोशिश करूंगा जाने की। -तेजपाल तंवर, विधायक, सोहना स्वास्थ्य खराब था नहीं जा पाए

तबीयत ठीक होने की वजह से नहीं जा पाया। एक दो दिन में स्वास्थ्य होने के बाद परिजनों से मिलने जाऊंगा। -उमेश अग्रवाल, विधायक, गुड़गांव

सांसद में व्यस्त राव इंद्रजीत

केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत के पीए नरेश ने बताया कि मंत्री जी सांसद में व्यस्त है। लगातार पटौदी के विधायक के साथ संपर्क में हैं।गुरुवार को परिजन गढ़-गंगा जाएंगे, इसलिए शुक्रवार को मंत्री जी परिजनों से मिलेंगे।

India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sohna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सीएम सरकारी प्रोग्रामों में बिजी रहे, शहीद के गांव से महज 50 किमी दूर शादी में गए पर उसकी मां को ढांढस बंधाने का वक्त नहीं मिला
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sohna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×