Hindi News »Haryana »Sohna» सोहना ब्लॉक की बीईओ बीईईओ आमने-सामने

सोहना ब्लॉक की बीईओ बीईईओ आमने-सामने

मुख्यमंत्रीस्कूल ब्यूटीफिकेशन पुरस्कार योजना में जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी (डीईईओ) के आदेश के बाद ब्लॉक एजुकेशन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 08, 2018, 02:10 AM IST

मुख्यमंत्रीस्कूल ब्यूटीफिकेशन पुरस्कार योजना में जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी (डीईईओ) के आदेश के बाद ब्लॉक एजुकेशन अधिकारी (बीईओ) और ब्लॉक मौलिक शिक्षा अधिकारी (बीईईओ) आमने-सामने हैं। अधिकारी के मिडिल प्राइमरी स्कूलों की जांच बीईईओ सेकंडरी सीनियर सेकंडरी स्कूलों की जांच बीईओ को करने का आदेश दिया है। इस पर बीईओ को ऐतराज है। इससे सोहना ब्लॉक के मुख्यमंत्री स्कूल ब्यूटीफिकेशन पुरस्कार योजना के तहत स्कूलों का परिणाम जारी नहीं हो सका। जिले के चारों ब्लॉकों से विजेता स्कूलों से हर वर्ग में जिला स्तर पर एक-एक स्कूल का चुनाव होता है। जिसे 26 जनवरी को सम्मानित किया जाता है।

सरकारी स्कूलों की सुंदरता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री स्कूल सौंदर्यीकरण प्रोत्साहन पुरस्कार योजना शुरू हुई है। इसके तहत स्वच्छ एवं सुंदर विद्यालयों को पुरस्कार देने के लिए प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च एवं उच्चतर विद्यालयों में से एक-एक विद्यालय का चयन होता है। अव्वल आने वाले विद्यालयों को ब्लॉक स्तर पर 50 हजार रुपए प्रति विद्यालय, जिला स्तर पर 1 लाख राज्य स्तर पर 5 लाख का इनाम दिया जाता है। मकसद बच्चों को स्कूलों की ओर आकर्षित करना है। इसके तहत जिले के गुड़गांव, पटौदी, फर्रुखनगर और सोहना ब्लॉक के स्कूलों का चयन किया जाना था। सभी ब्लॉक के विजेता स्कूल चुन लिए गए हैं लेकिन सोहना ब्लॉक में इसे लेकर बीईओ ओर बीईईओ के बीच विवाद है। बीईओ रितु चौधरी का कहना है कि कमेटी सचिव होने के नाते उन्हें ही सभी स्कूलों के चयन का अधिकार है। वहीं बीईईओ सरोज ने कहा कि अधिकारी के आदेश पर स्कूलों का चुनाव किया।

डीईईओ के आदेश पर रिपोर्ट बना कर भेजी: बीईईओ

^बीईईओसोहना सरोज ने बताया कि डीईईओ के आदेश पर प्राथमिक और मिडिल स्कूलों की रिपोर्ट बनाकर भेजी है। प्राइमरी और मिडिल स्तर के स्कूल को बीईईओ देखते हैं। अधिकारी के आदेश पर काम किया गया है। 4 दिसंबर को ही रिपोर्ट भेजी जा चुकी है।

डीईईओ ने अपने स्तर पर बदलाव किया : बीईओ

^सोहनाकी बीईओ रितु चौधरी ने कहा कि ब्लॉक के स्कूलों की फाइनल रिपोर्ट नहीं बनाई गई है। डीईईओ ने अपने स्तर पर इस बार कमेटी में बदलाव किया है। इसमें बीईईओ को प्राइमरी मिडिल स्कूल चुनने को कहा। बीईओ ने कहा कि ब्लॉक स्तर पर कमेटी की सचिव है यदि बदलाव किया गया है तो उसकी लिखित में जानकारी दें। ऐसे में उन्होंने डीईईओ से लिखित आदेश मांगा है। जिससे उसी अनुसार काम किया जा सके। इस वजह से विजेता स्कूलों की रिपोर्ट नहीं भेजी जा सकी है।

पहलेबीईओ ही रिपोर्ट भेजते थे : डीईईओ

^डीईईओकार्यवाहक डीईओ रामकुमार फलस्वाल ने कहा कि सीएम स्कूल ब्यूटीफिकेशन को लेकर बीईईओ ने रिपोर्ट भेज दी है और बीईओ द्वारा भेजी जानी है। साल 2011 के नोटिफिकेशन के अनुसार इस दौरान कोई एलिमेंट्री अधिकारी नहीं थे। जब प्राइमरी और मिडिल स्कूलों को बीईओ देखता ही नहीं तो स्कूल की क्या रिपोर्ट देंगे। पहले बीईओ ही सभी स्कूलों को देखते थे। इसमें कोई विवाद नहीं है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sohna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×