सोहना

  • Home
  • Haryana News
  • Sohna
  • पुराना शहर चमकाना नगर निगम के लिए चुनौती, सेक्टर-37 में रोज चल रहा अभियान
--Advertisement--

पुराना शहर चमकाना नगर निगम के लिए चुनौती, सेक्टर-37 में रोज चल रहा अभियान

स्वच्छभारत मिशन के तहत पटौदी में 4 जनवरी को सर्वेक्षण हो चुका है। सोमवार को सोहना नगरपालिका क्षेत्र में सर्वेक्षण...

Danik Bhaskar

Jan 08, 2018, 02:10 AM IST
स्वच्छभारत मिशन के तहत पटौदी में 4 जनवरी को सर्वेक्षण हो चुका है। सोमवार को सोहना नगरपालिका क्षेत्र में सर्वेक्षण टीम पहुंचेगी। फिर गुड़गांव में सर्वेक्षण के लिए डेट तय होगी। आगामी 10 से 15 दिन के अंदर गुड़गांव में सर्वेक्षण की डेट तय हो सकती है। इसके लिए निगम अधिकारियों की बेचैनी बढ़ी हुई है। विशेष अभियान चलाकर क्षेत्र की सफाई की जा रही है।

24वार्ड, 100 कॉलोनियां हैं शामिल

मिशनके तहत पुराने शहर को चमकाना निगम के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। सफाई के मामले में पुराना शहरी क्षेत्र उपेक्षित है। नगर निगम के जोन-1 और 2 पुराने शहर के अंतर्गत आते हैं। दोनों जोनों में 24 वार्ड आते हैं। यहां 100 से अधिक घनी आबादी कॉलोनियां हैं। सैकड़ों खाली प्लॉटों में सालों से गंदगी पड़ी है। मगर, इन दोनों जोन में केवल 2300 सफाईकर्मी लगाए गए हैं। साथ ही गलियों और सड़कों पर झाड़ू लगाने के बाद इकट्ठा होने वाला कूड़ा और मलबा उठाने के लिए जोन-1 और 2 में केवल 65 ट्रैक्टर लगाए गए हैं, जो अपर्याप्त हैं। ऐसे में पुराने शहर को चमकाने में अधिकारियों और कर्मचारियों के पीसने छूट रहे हैं। हालात ये हैं कि बीते 15 दिन से लगातार अभियान चलाने के बाद भी स्थिति में सुधार नहीं है। वार्ड-23 के अंतर्गत सेक्टर-37 में बीते एक सप्ताह से अभियान चल रहा है, मगर कूड़ा खत्म नहीं हो रहा। इस क्षेत्र में सालों से कूड़ा पड़ा था, जिसे उठाने के लिए भारी टीम लगी है। इसी तरह से अन्य वार्डों में भी अभियान चलाकर सफाई की जा रही है। यहां समस्या यह है कि इस अभियान के लिए कोई विशेष टीम नहीं लगाई गई है। सफाई कर्मियों की तैनाती के लिए नई टेंडर प्रक्रिया चल रही है। आवेदन स्वीकार किए एक महीने से अधिक समय हो चुका है। इस स्थिति में पुरानी एजेंसियों के ठेके को ही 15 जनवरी तक के लिए बढ़ाया गया है। इस बीच सर्वे का काम पूरा हो जाएगा। सर्वे के बाद नई एजेंसी जिम्मेदारी संभालेगी। इस अभियान के लिए अतिरिक्त सफाईकर्मी नहीं लगाने के चलते पहले से ही अपर्याप्त सफाई कर्मियों पर काम का बोझ काफी बढ़ गया है।

महत्वपूर्ण होगा सिटीजन फीडबैक

एडिशनलम्यूनिसिपल कमिश्नर ने बताया कि भारत सरकार द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश के 4041 शहरों का स्वच्छ सर्वेक्षण किया जा रहा है। इनमें गुड़गांव भी शामिल है। स्वच्छ सर्वेक्षण में भागीदारी करने वाले शहरों को उनकी स्वच्छता के आधार पर रैंकिंग दी जाएगी। सर्वेक्षण में सिटीजन फीडबैक का महत्वपूर्ण पार्ट दिया गया है।

गुड़गांव | स्वच्छतासर्वेक्षण में क्षेत्र के लोग भी अहम भागीदारी निभा रहे हैं। रविवार को सेक्टर-31 क्षेत्र में विशेष सफाई अभियान चलाया गया, आरडब्ल्यूए प्रतिनिधियों के साथ क्षेत्र के लगभग 100 लोगों ने भागीदारी की। क्षेत्र के रेजिडेंट्स और संबंधित सफाई एजेंसी के कर्मचारी सुबह 9 बजे से ही हाथों में झाड़ू लेकर सड़क पर उतर गए। सभी ने मिलकर जगह-जगह कूड़ा इकट्ठा किया, जिससे ट्रैक्टर ट्रॉली और डंपर के माध्यम से बंधवाड़ी प्लांट पहुंचाया। सेक्टर से लगभग 35 ट्रॉली कचरा निकला। इस दौरान एडिशनल म्यूनिसिपल कमिश्नर वाईएस गुप्ता के साथ पहुंची टीम ने क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनीं और अभियान के संबंध में आवश्यक जानकारी दी। साथ ही शिकायतों के जल्द निपटारे का आश्वासन दिया। रेजिडेंट्स टीम में उमेश यादव, जितेंद्र रुस्तगी, आईएस गोदारा, मुकेश अग्रवाल के साथ क्षेत्र के लोग शामिल हुए।

रद्द हैं सभी की छुट्टियां

इससंबंध में वरिष्ठ सफाई निरीक्षक अंबिका प्रसाद का कहना है कि स्वच्छता सर्वेक्षण को देखते हुए सफाई से संबंधित अधिकारियों और कर्मियों की सभी छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। पुराने शहर में रविवार को भी पूरी टीम सफाई में लगी रही। सफाई कर्मी और संसाधन की कमी के चलते दो-तीन वार्ड के कर्मियों को एक विशेष क्षेत्र में लगाकर अभियान चलाया जा रहा है। इससे कर्मियों पर काम का बोझ अपेक्षाकृत कम पड़ता है।

Click to listen..