Hindi News »Haryana »Sohna» साउथ जोन की सड़कों पर जरा संभलकर! 4 माह में 185 हादसे,102 लोगों की मौत

साउथ जोन की सड़कों पर जरा संभलकर! 4 माह में 185 हादसे,102 लोगों की मौत

जिले की सड़कों पर तेज रफ्तार का वाहनों का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस साल अप्रैल तक 397 सड़क हादसों में 170 लोगों की...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 13, 2018, 02:05 AM IST

साउथ जोन की सड़कों पर जरा संभलकर! 4 माह में 185 हादसे,102 लोगों की मौत
जिले की सड़कों पर तेज रफ्तार का वाहनों का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस साल अप्रैल तक 397 सड़क हादसों में 170 लोगों की जान गई जबकि 375 घायल हुए। सबसे ज्यादा साउथ जोन की सड़कों पर सड़कों पर 185 हादसे हुए, जिनमें 102 लोगों की मौत हुई। साउथ जोन में सोहना, मानेसर,बिलासपुर व पटौदी एरिया आता है। सड़क हादसों को कम करने के लिए सरकार हरियाणा विजन जीरो कैंपेन चला रही है। इसके लिए सरकारी विभागों के साथ आईटी कंपनियों का भी सहयोग लिया जा रहा है। फिर भी शहर में हर रोज सड़क हादसों में दो-तीन लोगों की मौत हो रही है। इस साल जनवरी से अप्रैल तक के सड़क हादसों को देखकर लगता है कि अभियान का कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है। चार महीने में 170 लोगों की सड़क हादसों में जान गई। अप्रैल में 112 सड़क हादसे हुए, जिसमें 54 लोगों की मौत, जबकि 117 लोग घायल हुए। पिछले साल अप्रैल में 95 सड़क हादसे हुए थे, जिसमें 34 लोगों की मौत व 114 घायल हुए थे। जांच में पाया गया है कि 65 फीसदी हादसे ओवर स्पीडिंग के कारण हुए। ऐसे में गुड़गांव में सड़क हादसों को लेकर संबंधित एजेंसियों को गंभीरता से काम करना होगा। तभी हादसों को कम किया जा सकेगा।

सड़क हादसे रोकने के लिए सरकार चला रही हरियाणा विजन जीरो कैंपेन

साउथ जोन का ये है एरिया :साउथ जोन में सोहना, बादशाहपुर, मानेसर, आईएमटी बिलासपुर, पटौदी और फर्रुखनगर एरिया आता है। इसमें सबसे अधिक हादसे बिलासपुर, मानेसर और आईएमटी मानेसर एरिया में होते हैं। यहां पर ट्रकों और तेज रफ्तार वाहनों के कारण अधिक हादसे होते हैं। दूसरा इन एरिया में यातायात पुलिस भी शहर की अपेक्षा कम है। इसके अलावा हाईवे पर अवैध कटों के कारण हादसे होते हैं। हालांकि कुछ दिन पहले अब साउथ जोन से मानेसर जोन अलग कर दिया गया है।

जनवरी

जनवरी में कुल 100 सड़क हादसे हुए, जिसमें 44 लोगों की मौत हुई, जबकि 90 लोग घायल हुए। जनवरी में साउथ जोन में सबसे अधिक 41 हादसे हुए, जिसमें 29 लोगों की मौत, 43 घायल हुए थे। दूसरी ओर वेस्ट में 7 व ईस्ट में 8 लोगों की जान गई।

अप्रैल

अप्रैल में 112 कुल सड़क हादसे हुए थे। इसमें ईस्ट जोन में 31 हादसे हुए। जिसमें 12 की मौत व 29 लोग घायल हुए। इसमें 12 टू-व्हीलर व 7 पैदल सवार हादसे का शिकार हुए।

29 लोगों की मौत

ईस्ट जोन,12 की मौत

गुड़गांव. सिकंदरपुर अंडरपास पर हुई स्कॉर्पियो और स्विफ्ट डिजायर कार की टक्कर। (फाइल फोटो)

फरवरी

फरवरी महीने में गुड़गांव जिले में 89 सड़क हादसे हुए, जिसमें 37 लोगों की मौत हो गई, जबकि 56 घायल हो गए। अगर साउथ जोन में हुए हादसों की बात करें तो यहां 41 हादसे हुए, जिसमें 25 लोगों की जान गई, जबकि 28 लोग घायल हुए। ईस्ट में 6 व वेस्ट 6 लोगों की मौत हुई।

वेस्ट जोन में 16 की मौत

अप्रैल में वेस्ट जोन में कुल 25 सड़क हादसे हुए। इसमें 16 की मौत और 23 लोग घायल हुए। 8 टू-व्हीलर व 7 पैदल सवार हादसे का शिकार हुए।

25 लोगों की जान गई

मार्च

मार्च में 96 सड़क हादसे हुए। इनमें 34 की मौत व 110 लोग घायल हुए। जिसमें 68 बाइक व 13 पैदलयात्री शामिल हैं। मार्च में भी साउथ जोन में 47 हादसों में 22 लोगों की मौत हुई, 61 घायल हुए। वेस्ट जोन में 24 हादसों में 8 की मौत व 24 घायल हुए। ईस्ट जोन में 25 हादसों में चार की मौत

साउथ जोन में 26 की मौत

22 लोगों की मौत

अप्रैल में साउथ जोन में सबसे अधिक 56 सड़क हादसे हुए। इनमें 26 लोगों की मौत और 65 लोग घायल हुए। बाइक सवार 30 व 19 पैदल यात्री हादसे का शिकार हुए।

हर स्तर पर काम जरूरी

हरियाणा विजन जीरो की एसोसिएशन की सारिका भट्‌ट ने कहा कि रोड सेफ्टी मीटिंग में सड़क हादसों को रोकने के लिए हर स्तर काम करने की जरूरत बताई गई थी। सभी सरकारी एजेंसियों को तत्काल कदम उठाने की जरूरत है। सड़कों की मरम्मत, स्पीड ब्रेकर, इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ इंफोर्समेंट की जरूरत है। जब तक इन पर ध्यान नहीं दिया जाएगा हादसे कम नहीं होंगे।

चालान किए जा रहे हैं

एसीपी हाईवे हीरा सिंह ने बताया कि यातायात का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों के चालान किए जा रहे हैं। साउथ जोन में एनएच-8 पर खेड़कीदौला टोल से बिलासपुर तक एनएचएआई को बैरिकेट/डिवाइडर लगाने को कहा है, ताकि लोग सड़क क्रॉस ना कर सकें। इस पर काम भी शुरू हो गया है। दूसरा हाईवे के अवैध कट को भी बंद करने को कहा गया है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sohna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×