Hindi News »Haryana »Sohna» निजी कंपनी का कॉन्ट्रेक्ट खत्म होने से पांच सब डिविजन एक बार फिर बिजली निगम के हवाले

निजी कंपनी का कॉन्ट्रेक्ट खत्म होने से पांच सब डिविजन एक बार फिर बिजली निगम के हवाले

बिजली निगम के पांच सब डिविजन के करीब दो लाख उपभोक्ताओं की समस्या बढ़ गई है। बिजली निगम के पांच सब डिविजन के ऑपरेशन व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 11, 2018, 02:10 AM IST

निजी कंपनी का कॉन्ट्रेक्ट खत्म होने से पांच सब डिविजन एक बार फिर बिजली निगम के हवाले
बिजली निगम के पांच सब डिविजन के करीब दो लाख उपभोक्ताओं की समस्या बढ़ गई है। बिजली निगम के पांच सब डिविजन के ऑपरेशन व मेंटिनेंस की जिम्मेदारी संधा एंड कंपनी की थी, लेकिन कंपनी का कांट्रेक्ट गत 2 जून को खत्म हो गया। शनिवार को अचानक संधा एंड कंपनी के कर्मचारियों ने काम बंद कर दिया, ऐसे में आंधी व बारिश से ब्रेकडाउन बिजली सप्लाई को ठीक करने में बिजली निगम के कर्मचारियों के हाथ-पांव फूल गए। कई फीडर ऐसे रहे, जो रविवार शाम तक भी चालू नहीं हो पाए, जिससे उपभोक्ता सब डिविजन के अधिकारियों को फोन लगाते रहे। रविवार होने से निगम अधिकारी अपनी छुट्टी में व्यस्त रहे और उपभोक्ता परेशान होते रहे।

2 जून को खत्म हुआ कंपनी का कॉन्ट्रेक्ट

बिजली निगम के पांच सब डिविजन बादशाहपुर, साउथ सिटी, डीएलएफ, मारुति व सोहना रोड का ऑपरेशन व मेंटिनेंस का काम संधा एंड कंपनी देख रही थी, लेकिन गत 2 जून को कंपनी का कान्ट्रेक्ट खत्म होने से बिजली निगम को बिना तैयारी के पांच सब डिविजन के ऑपरेशन व मेंटिनेंस का काम भी आ गया है। ऐसे में शनिवार को आंधी व बारिश से 100 से अधिक फीडर ब्रेक डाउन हो गए, जिन्हें ठीक करने के लिए बिजली निगम के अपर्याप्त कर्मचारियों को 24 घंटे तक का समय लग गया। हालांकि बिजली निगम ने डीसी रेट पर कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी, लेकिन इस बीच बिजली निगम के दो लाख से अधिक उपभोक्ताओं की समस्या बढ़ गई है। बिजली सप्लाई को सुचारू रखने के लिए बिजली निगम के पास लाइनमैन से लेकर अन्य तकनीकी स्टाफ नहीं है, जिससे मामूली फॉल्ट को भी ठीक करने में दो से तीन घंटे तक का समय लग रहा है।

बिजली निगम कर रहा लगातार प्रयोग: सुशील

ऑल हरियाणा पॉवर कॉर्पोरेशन वर्कर यूनियन के यूनिट प्रधान सुशील कुमार ने कहा कि बिजली निगम लगातार प्रयोग कर रही है। जैसे ही बिजली सप्लाई सुचारू हो जाएगी, तो फिर से सब डिविजनों को कान्ट्रेक्ट पर दे देगी। इसी तरह पिछले दिनों बिल वितरित करने वाली कंपनी एनवाईजी को टेंडर दिया था, लेकिन अचानक सारा काम बिजली निगम के कर्मचारियों पर आने से उपभोक्ता परेशान रहते हैं। हालांकि बिजली निगम डीसी रेट पर कर्मचारियों की भर्ती कर रहा है।

हर महीने 52 लाख रुपए का था कॉन्ट्रेक्ट

संधा एंड कंपनी पांच सब डिविजन के मेंटिनेंस के लिए हर महीने 52 लाख रुपए चार्ज कर रही थी। इसका हर साल लगभग 6.25 करोड़ रुपए देना पड़ रहा था। ऐसे में इन पांच सब डिविजनों का कॉन्ट्रेक्ट आगे नहीं बढ़ाया गया। वहीं संधा एंड कंपनी के प्रबंधक अशोक कुमार ने बताया कि वे भी अब आगे काम नहीं कर पा रहे थे। उनकी राशि में अधिकारी हर महीने कई-कई लाख रुपए नियम व शर्तें पूरी नहीं हो पाने के नाम पर काट रहे थे, जिससे उन्हें घाटा हो रहा था।

कर्मचारियों डीसी रेट पर रख रहे हैं, 15 दिन में परेशानी दूर होगी

बिजली निगम ने कंपनी का कान्ट्रेक्ट आगे नहीं बढ़ाया और अब डीसी रेट पर कर्मचारियों की भर्ती की जा रही है। कुछ कर्मचारी कंपनी से भी लिए गए हैं। अगले 15 दिनों में स्थिति सामान्य हो जाएगी। -संजीव चोपड़ा, चीफ इंजीनियर, दक्षिण हरियाणा वितरण निगम।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sohna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×