Hindi News »Haryana »Sohna» जूनियर की दो सीनियर्स ने की रैगिंग, मारपीट के बाद दी जान से मारने की धमकी

जूनियर की दो सीनियर्स ने की रैगिंग, मारपीट के बाद दी जान से मारने की धमकी

गुड़गांव की एक निजी यूनिवर्सिटी में एक स्टूडेंट के साथ रैगिंग का मामला सामने आया है। स्टूडेंट के साथ दो सीनियर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 07, 2018, 02:15 AM IST

जूनियर की दो सीनियर्स ने की रैगिंग, मारपीट के बाद दी जान से मारने की धमकी
गुड़गांव की एक निजी यूनिवर्सिटी में एक स्टूडेंट के साथ रैगिंग का मामला सामने आया है। स्टूडेंट के साथ दो सीनियर स्टूडेंट्स ने रैगिंग की और मारपीट के बाद शिकायत करने पर उसे और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी। ऐसे में स्टूडेंट ने यूनिवर्सिटी की एंटी रैगिंग सेल को लेटर लिखकर शिकायत दी है। स्टूडेंट की बहन अंजलि सोनी ने भी यूनिवर्सिटी को ई-मेल से मामले में कार्रवाई करने के लिए कहा है।

बीएफए (बैचलर इन फाइन आर्ट) के सेकंड ईयर के स्टूडेंट जोधपुर निवासी आदित्य कृष्णा सोनी सोहना रोड स्थित जीडी गोयंका यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहा है। गुरुवार शाम वो हॉस्टल के कॉमन रूम में पढ़ रहा था, तभी वहां अर्जुन त्यागी और भानू प्रताप सिंह इंजीनियरिंग फाइनल ईयर के स्टूडेंट पहुंचे और उसके दोस्त तुषार का नंबर मांगा। जब उसने नंबर देने से मना किया तो उससे मारपीट की और उससे उठक-बैठक करवाना शुरू कर दिया। काफी टॉर्चर के बाद उसे मारपीट के बारे में किसी को शिकायत करने पर उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी। आदित्य का आरोप है कि दोनों स्टूडेंट उस समय नशे में थे। आदित्य ने अपने परिवार को बताया है कि वो काफी डरा हुआ है और उसने इस बारे में यूनिवर्सिटी की एंटी रैगिंग सेल को शिकायत दी है। अंजलि ने बताया कि यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर कौशलप्रीत ने आदित्य द्वारा लिखी गई शिकायत में एडिटिंग कराते हुए इसे सिर्फ मारपीट लिखने के लिए बाध्य किया।

रैगिंग में ये है सजा का प्रावधान

यूजीसी ने गाइडलाइन के अनुसार अगर संस्थान रैगिंग की शिकायत करने वाले छात्र की मदद नहीं करेगा तो पीड़ित यूजीसी से संपर्क करें। दोषियों पर रैगिंग के नियमों के तहत कार्रवाई की जाएगी। रैगिंग के खिलाफ सबसे कड़ी सजा दोषी को तीन साल तक सश्रम कैद है। रैगिंग विरोधी कानून की बात की जाए तो अब किसी भी कॉलेज में रैगिंग एक बड़ा अपराध है। रैगिंग का दोष साबित होने छात्रों को तो सजा मिलेगी ही, साथ ही संबद्ध संस्थान पर भी कार्रवाई होगी और उस पर आर्थिक दंड भी लगाया जाएगा।

ये है हेल्पलाइन नंबर

पालम विहार सेक्टर-23 निवासी राजेंद्र कचरु ने बताया कि एंटी रैगिंग के लिए वे मूवमेंट चला रहे हैं। इसके लिए स्टूडेंट टोल फ्री नंबर 18001805522 पर संपर्क कर सकते हैं।

कमेटी जांच करेगी

यूनिवर्सिटी में आदित्य नामक स्टूडेंट के साथ मारपीट का मामला सामने आया है, लेकिन इसे रैगिंग नहीं माना जा सकता। यदि यह रैगिंग का मामला है तो इसे गंभीरता से लिया जाएगा। इस बारे में एंटी रैगिंग कमेटी द्वारा जांच कराई जाएगी। -एमएस परिहार, अथॉरिटी, एंटी रैगिंग सैल, जीडी गोयंका यूनिवर्सिटी, गुड़गांव।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sohna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×