• Home
  • Haryana News
  • Sohna
  • कर्मचारियों ने मंत्री राव नरबीर सिंह की काेठी के बाहर किया प्रदर्शन, निराश होकर लौटे
--Advertisement--

कर्मचारियों ने मंत्री राव नरबीर सिंह की काेठी के बाहर किया प्रदर्शन, निराश होकर लौटे

बीते 9 मई से हड़ताल पर बैठे शहरी स्थानीय निकाय विभाग के कर्मचारियों को निराशा हाथ लग रही है। शहर में सफाई व्यवस्था ठप...

Danik Bhaskar | May 16, 2018, 03:15 AM IST
बीते 9 मई से हड़ताल पर बैठे शहरी स्थानीय निकाय विभाग के कर्मचारियों को निराशा हाथ लग रही है। शहर में सफाई व्यवस्था ठप करके बैठे कर्मियों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। मंगलवार को सातवें दिन भारी संख्या में सफाई कर्मियों ने रैली निकालकर पीडब्ल्यूडी मंत्री राव नरबीर सिंह के निवास स्थान पर प्रदर्शन किया। उनके घर के आगे एक घंटे तक बैठे रहे। मगर, इसका कोई लाभ नहीं हुआ। मंत्री की अनुपस्थिति में कर्मचारी उनके पीए को ज्ञापन सौंप कर लौट गए। उन्हें बताया गया कि मंत्री बाहर हैं, गुरुवार को लौटेंगे। मंत्री के निवास से लौटकर कर्मचारी फिर से नगर निगम कार्यालय परिसर में धरने पर बैठ गए।

अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों की सरकार द्वारा कोई सुनवाई नहीं हो रही है। मजबूरी में कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल को 17 मई तक के लिए बढ़ा दिया है। इस हड़ताल में प्रदेश भर के नगर निगम, नगर परिषद, जिला परिषद और फायर विभाग के कर्मचारी शामिल हैं। इस हड़ताल का सबसे बड़ा असर शहर की सफाई व्यवस्था पर पड़ रहा है। नगर निगम कर्मियों ने सफाई का काम ठप कर दिया है। वे ना तो झाड़ू लगा रहे हैं और ना ही कूड़ा उठा रहे हैं। यहां तक कि सीवर की सफाई का काम भी नहीं कर रहे हैं। इस कारण शहर में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। शहर में हर तरफ कूड़ा ही कूड़ा नगर आ रहा है। सदरबाजार, जैकबपुरा, पटेल नगर, भीम नगर, न्यू कॉलोनी, कृष्णा कॉलोनी, लक्ष्मण विहार, राजेंद्रा पार्क आदि कॉलोनियों के साथ ही सेक्टरों का भी बुरा हाल हो रहा है। उधर, नए शहरी क्षेत्र में भी आउटसोर्स कर्मियों ने सफाई का काम बंद कर दिया है।

मंत्री की अनुपस्थिति में उनके पीए को सौंपा ज्ञापन

गुड़गांव. अपनी मांगों को लेकर हरियाणा के पीडब्लूडी मंत्री राव नरबीर सिंह के निवास के सामने धरना प्रदर्शन करते नगर पालिका संघ के सफाई कर्मचारी।

हड़ताल में भी बंधवाड़ी प्लांट पहुंच रहा अधिक कूड़ा

चौकाने वाली बात है कि हड़ताल के दिनों में शहर में कूड़ा नहीं उठाए जाने की स्थिति में भी बंधवाड़ी प्लांट में पहुंच रहे कूड़े की मात्रा 50 से 150 टन बढ़ गया है। हड़ताल के दिनों में ईको ग्रीन एजेंसी द्वारा बंधवाड़ी प्लांट में प्रतिदिन औसतन 900 से 1000 टन कूड़ा दर्ज किया जा रहा है। जबकि, कर्मचारियों की हड़ताल से पहले प्रतिदिन औसतन 850 टन कूड़ा ही बंधवाड़ी प्लांट पहुंच रहा था। इस तरह से प्रति टन 1000 रुपए की दर से एजेंसी प्रतिदिन 10 लाख रुपए का कूड़ा उठा रही है। इस संबंध में एजेंसी प्रतिनिधियों का तर्क है कि एजेंसी द्वारा घरों और 30 खत्तों से कूड़ा उठाया जा रहा है। कूड़ा उठाने का काम तेज गति से चल रहा है।

इधर, सोहना में हड़ताली कर्मियों पर एस्मा लागू करने के आदेश दिए

हड़ताली सफाई कर्मचारियों के खिलाफ विभाग ने कड़ा रुख अपना लिया है। विभाग ने ऐसे कर्मचारियों व एजेंसी ठेकेदार को नोटिस जारी कर दिए हैं, जिसमें हड़ताल करने पर उनकी सेवाएं समाप्त करने को कहा है। विभाग ने एस्मा लागू होने पर आपराधिक मामला दर्ज कराए जाने के निर्देश भी दिए हैं। ऐसा होने से सफाई कर्मचारियों में हड़कंप व बेचैनी व्याप्त है। कर्मचारी मंगलवार को भी अपनी मांगों को लेकर परिषद कार्यालय के गेट पर धरने पर बैठे थे। सरकार द्वारा हड़ताली सफाई कर्मचारियों पर एस्मा कानून लागू किए जाने से कर्मचारियों में बेचैनी बनी हुई है। सरकार ने हड़ताल पर चल रहे कर्मचारियों के खिलाफ कड़े निर्णय लिए जाने के फरमान जारी कर दिए हैं। यह आदेश सोहना नगरपरिषद में भी पहुंच चुके हैं। विभाग ने हड़ताल पर बैठे सफाई कर्मचारियों व एजेंसी ठेकेदार को लिखित नोटिस जारी कर काम पर वापस लौटने को कहा है। विभाग ने चेतावनी दी है कि अगर सफाईकर्मी कार्य नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ एस्मा कानून के तहत आपराधिक मामला दर्ज कराया जाएगा।