• Home
  • Haryana News
  • Sonipat
  • सड़क पर उतरी मैक्स हाइट्स रेजीडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन बिल्डर पर लगाए गंभीर आरोप
--Advertisement--

सड़क पर उतरी मैक्स हाइट्स रेजीडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन बिल्डर पर लगाए गंभीर आरोप

राई. मैक्स हाइट्स के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते रेजीडेंट्स। मेंटेनेंस चार्ज बढ़ाने का विरोध कर रहे है रेजीडेंट्स...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:45 AM IST
राई. मैक्स हाइट्स के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते रेजीडेंट्स।

मेंटेनेंस चार्ज बढ़ाने का विरोध कर रहे है रेजीडेंट्स

भास्कर न्यूज | राई

बढ़खालसा स्थित मैक्स हाइट्स के खिलाफ रेजीडेंट्स ने रविवार को सड़क पर उतरकर रोष प्रदर्शन किया। मैक्स हाइट्स रेजीडेंट्स वेलफेयर ने आरडब्ल्यूएस के प्रधान प्रताप सिंह ढिल्लो के नेतृत्व में रोष प्रदर्शन किया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि बिल्डर ने उनसे जो वादे किए थे, अब उनसे मुकर गया है। जिस कारण रेजीडेंट्स परेशान हो गए हैं।

रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान प्रताप सिंह ढिल्लों, उपप्रधान मुकेश बंसल, महासचिव ललित भाटिया, संयुक्त सचिव राजीव कौशिक आदि ने कहा कि जब उन्होंने मैक्स हाइट्स के खिलाफ आवाज उठाई तो उन्हें अब बकाया का हवाला देकर मेनटेनेंस चार्ज का नोटिस दिया जा रहा है। वे मैक्स हाइट्स की मेनटेनेंस का टेंडर लेने वाली कंपनी लार्ड गणेशा को प्रति महीना 1.35 रुपए प्रति स्कवेयर फुट के हिसाब से मैंटेनेंस चार्ज दे रहे थे। लार्ड गणेशा ने अब इसे बढ़ाकर दो रुपए प्रति स्कवेयर फुट कर दिया है। जो कानून गलत है। अचानक 65 पैसे प्रति प्रति स्कवेयर फुट रेट बढ़ाकर रेजीडेंट्स के साथ धोखा किया गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके साथ बिजली में भी धोखा किया जा रहा है। बिजली निगम से केवल 5.62 पैसे में बिजली लेकर रेजीडेंट्स को 6.96 तक बिजली बेची जा रही है। पूरी सोसायटी के नाम से केवल एक मीटर लिया हुआ है। इसके बाद अपनी मर्जी से रेजीडेंट्स को मीटर दिए गए है। बिल्डर महीने में लाखों रुपए बिजली के बिल के हजम कर रहा है। उन्हें कम्यूनिटी सेंटर की सुविधा से वंचित किया गया है। बिल्डिंग की हालत जर्जर हो चुकी है। एसटीपी का पानी सोसायटी में ही छोड़ा जा रहा है। जिससे गंदगी फैल रही है। पार्किंग के नाम पर डेढ़ लाख रुपए प्रति रेजीडेंट्स की सिक्योरिटी ली गई है। जोकि हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ है। जब तक उन्हें सुविधाएं नहीं दी जाएगी, वे बढ़ा हुआ चार्ज नहीं देंगे।

ये लोग पैसे नहीं देना चाहते