• Home
  • Haryana News
  • Sonipat
  • चीफ इंजीनियर, सहायक चीफ इंजीनियर और ठेकेदार को पांच-पांच साल की कैद
--Advertisement--

चीफ इंजीनियर, सहायक चीफ इंजीनियर और ठेकेदार को पांच-पांच साल की कैद

शुगर मिल में 2013 में उजागर हुए घोटाले के मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने शनिवार को अपना फैसला सुनाया। अतिरिक्त...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:50 AM IST
शुगर मिल में 2013 में उजागर हुए घोटाले के मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने शनिवार को अपना फैसला सुनाया। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुशील कुमार की कोर्ट ने मामले में आरोपी चीफ इंजीनियर तेजपाल, सहायक चीफ इंजीनियर विकास व ठेकेदार प्रवीण को गबन के मामले में दोषी करार दिया। तीन दोषियों को पांच-पांच साल कैद की सजा सुनाई गई है। इसके साथ 30-30 हजार रुपए जुर्माना किया है। जानकारी के अनुसार शुगर मिल के अधिकारी ने दो जनवरी 2013 को तेजपाल, विकास व प्रवीण के खिलाफ सिटी थाना पुलिस ने गबन, धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज तैयार करने के तहत केस दर्ज किया था। इस मामले में पुलिस ने जांच की थी। जिसके बाद आरोपियों पर शिकंजा कसा गया था। पुलिस ने मामले में चालान पेश किया। उस समय जांच अधिकारी रहे कृष्ण ने बताया कि सामान खरीद में इन लोगों ने धोखाधड़ी व गबन किया था।

शिकायत की जांच करने पर काफी सबूत भी जुटाए गए थे। सामान कम खरीदा जबकि बिल ज्यादा के बनाए। जाली दस्तावेज तैयार करने के साथ कई आरोप इन पर लगे थे। यह मामला वर्ष 2011 का है। न्यायाधीश सुशील कुमार की कोर्ट ने मामले में शनिवार को फैसला सुनाया और तीनों को पांच-पांच साल कैद की सजा सुनाई है।

शुगर मिल घोटाला