डॉक्टर सीसीएल पर, सिविल अस्पताल में 40 दिनों तक नहीं होंगे अल्ट्रासाउंड / डॉक्टर सीसीएल पर, सिविल अस्पताल में 40 दिनों तक नहीं होंगे अल्ट्रासाउंड

Sonipat News - सिविल अस्पताल में मरीजों को 40 दिनों तक अल्ट्रासाउंड की सुविधा नहीं मिलेगी। अल्ट्रासाउंड करने वाली महिला डॉक्टर...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2018, 03:12 AM IST
Gohana - doctor will not be in ccl civil hospital for 40 days ultrasound
सिविल अस्पताल में मरीजों को 40 दिनों तक अल्ट्रासाउंड की सुविधा नहीं मिलेगी। अल्ट्रासाउंड करने वाली महिला डॉक्टर छुट्टी पर रहेगी। महिला डॉक्टर की अनुपस्थिति में अस्पताल प्रशासन के पास अल्ट्रासाउंड करने के लिए दूसरी वैकल्पिक व्यवस्था नहीं है। ऐसे में मरीजों को अल्ट्रासाउंड के लिए महिला मेडिकल कॉलेज, खानपुर कलां और निजी अस्पतालों पर निर्भर रहना पड़ेगा।

सिविल अस्पताल में दो महिला डॉक्टर हैं। इनमें से एक महिला डॉक्टर ओपीडी में महिला मरीजों की जांच करती हैं। डॉ. रीटा गोयल की ड्यूटी अल्ट्रासाउंड के लिए लगाई गई है। ओपीडी में जांच के बाद गर्भवती महिलाओं और पेट संबंधी अन्य बीमारियों से पीड़ित मरीजों के अल्ट्रासाउंड किए जाते हैं। मरीजों की संख्या अधिक होने के कारण कई मरीजों को आगे की तारीख दे दी जाती है। महिला डॉक्टर शनिवार से 40 दिनों की चाइल्ड केयर लीव पर चली गई है।

मरीजों को जाना पड़ा वापस : महिला डॉक्टर के छुट्टी पर जाने के कारण शनिवार को अल्ट्रासाउंड नहीं हुए। जिन मरीजों को शनिवार की तारीख दी गई थी, उन्हें मायूस होकर वापस लौटना पड़ा। मरीज आशा, कमलेश, सावित्री, रीना का कहना है कि अस्पताल प्रशासन द्वारा उन्हें अल्ट्रासाउंड नहीं होने की पूर्व सूचना नहीं दी जाती है। वहीं महिला डॉक्टर के छुट्टी पर चले जाने के बाद वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं की जा रही है।

गाेहाना. सिविल अस्पताल में बंद पड़ा अल्ट्रासाउंड कक्ष।

प्रतिदिन 45 से 50 मरीजों के होते थे अल्ट्रासाउंड

अस्पताल में प्रतिदिन 45 से 50 मरीजों के अल्ट्रासाउंड किए जाते थे। इनमें से अधिकांश गर्भवती महिलाएं होती थी। गर्भवती महिलाओं का अल्ट्रासाउंड निशुल्क किया जाता था। जबकि प्राइवेट लैब में अल्ट्रासाउंड के 600 से 800 रुपए लिए जाते हैं। मरीजों का कहना है कि अस्पताल में सुविधा होने पर ओपीडी में जांच के बाद महिलाओं को अल्ट्रासाउंड के लिए बाहर नहीं जाना पड़ता था, लेकिन अब महिलाओं को अल्ट्रासाउंड के लिए निजी अस्पतालों पर निर्भर रहना पड़ेगा।

बीपीएस में अल्ट्रासाउंड के लिए 20 दिनों की वेटिंग

सिविल अस्पताल में अल्ट्रासाउंड मशीन खराब होने पर मरीजों को महिला मेडिकल कॉलेज में रेफर किया जाता है। मेडिकल कॉलेज में भी मरीजों का समय पर अल्ट्रासाउंड नहीं होता है। मेडिकल कॉलेज में मरीजों की संख्या अधिक होने के कारण अल्ट्रासाउंड के लिए 20 दिनों तक की वेटिंग मिल रही है। ऐसे में मरीजों को निजी अस्पतालों में ही अल्ट्रासाउंड कराना पड़ता है।


X
Gohana - doctor will not be in ccl civil hospital for 40 days ultrasound
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना