सेक्टर-7 में बस पोर्ट काे सीएम की मंजूरी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लंबे समय से प्रस्तावित बस पोर्ट को शुक्रवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने अपनी सहमति दे दी। यह बस पोर्ट सेक्टर-7 में 8.86 एकड़ में स्थापित किया जाएगा। बस पोर्ट से भविष्य में पूरे देश में बसों के संचालन किया जा सकेगा।

इसके साथ ही यहां यात्रियाें काे एयरपाेर्ट की तर्ज पर अन्य कई प्रकार की सुविधाएं और सेवाएं मुहैया कराई जाएंगी। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जमीन के लिए 21 हजार 600 रुपए प्रति वर्ग मीटर की दर से जमीन खरीदने की अनुमति प्रदान किए हैं। इस प्राेजेक्ट के साथ ही सीएम ने ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) की मंजूरी के साथ संस्थान में मौजूदा सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी मुरथल व अन्य प्रोजेक्ट को भी मंजूरी मिली है।

एनएचआई ने रास्ते के कारण रिजेक्ट किया था
एनएचअाई के उच्च अधिकारियों ने साइट का निरीक्षण करने के बाद रास्ते के कारण इस रिजेक्ट कर दिया। उनका कहना था कि जमीन ऐसे स्थान पर हो जहां पर चारों तरफ से रास्ता हो। ताकि बसों का परिचालन होने पर जाम से नहीं जूझना पड़े। एक तरफ से बसें आएंगी और दूसरी तरफ से आसानी से निकल जाएंगी। बस पोर्ट बहुमंजिला इमारत में बनाई जाएगी।

पहले जाट जोशी में बनना प्रस्तावित था बस पोर्ट
जीटी रोड के साथ जाट जोशी गांव में नगर निगम से परिवहन विभाग ने करीब 17 करोड़ रुपए में खरीदा था। प्रोजेक्ट बड़ा होने के कारण प्रदेश सरकार ने इसे एनएचएआई को सौंप दिया था। एनएचएआई के अधिकारियों ने जब साइट विजिट किया तो उनके मानक पर यह जमीन खरी नहीं उतरी। सीएम के मीडिया सलाहकार राजीव जैन की मदद से सेक्टर-7 में दाेबारा जगह तलाश की।

खबरें और भी हैं...